Wednesday, August 4, 2021

जानें, यंग और ग्लैमरस ऐक्ट्रेसेस पर्दे पर क्यों बनना पसंद करती हैं मां

- Advertisement -


जल्द रिलीज होने वाली ‘मिमी’ के ट्रेलर से बॉलिवुड की यंग और ग्लैमरस अभिनेत्री कृति सेनन चर्चा में आ गई हैं। हर कोई इस बात पर अचंभित है कि आखिर कृति जैसी हॉट कहलाने वाली ऐक्ट्रेस मां की भूमिका करने को राजी क्यों हुईं? इससे पहले कटरीना, दीपिका, प्रियंका, जैकलीन और करीना सरीखी कई बॉलिवुड अभिनेत्रियां भी मां के किरदार निभा चुकी हैं। यंग एज में पर्दे पर मां बनने के लिए क्यों तैयार होती हैं, ये एक्ट्रेसेस? एक पड़ताल।

अपनी आगामी फिल्म ‘मिमी’ में कृति पहली बार गर्भवती महिला का किरदार निभा रही हैं। उनका प्रेग्नेंट लुक सुर्खियों में है। हर कोई इस बात पर अचंभित है कि कृति जैसी यंग ऐक्ट्रेस प्रेग्नेंट लेडी का किरदार करने को क्यों प्रेरित हुईं होंगी? कृति की गिनती बॉलिवुड की सबसे फिट अभिनेत्रियों में होती है और इस रोल के लिए उन्होंने अपना वजन 15 किलो बढ़ाया है। कृति से पहले भी प्रीटी जिंटा, ऐश्वर्या राय, काजोल, रानी मुखर्जी, प्रियंका चोपड़ा, कटरीना कैफ, दीपिका पादुकोण, करीना कपूर और जैकलीन फर्नांडिस जैसी यंग अभिनेत्रियां भी मां के चरित्र साकार कर चुकी हैं।

गुजारा करने के लिए बनना पड़ा मां
‘मिमी’ के ट्रेलर में दिखाया गया है कि कृति पैसे के लिए सरोगेट मदर बनती है। अब यह भी कम दिलचस्प नहीं है कि हमारे सिल्वर स्क्रीन की सीनियर अभिनेत्री हिमानी शिवपुरी को भी पैसे कमाने के लिए मां की भूमिका करनी पड़ी। गोविंदा, अनिल कपूर, संजय दत्त, सलमान खान जैसे कई सीनियर हीरोज की मां बननेवाली हिमानी ने जब फिल्मों में मां की भूमिकाएं करनी शुरू की, तब वे भी इन हीरोज की हमउम्र ही थीं। वे कहती हैं, ‘आज से 21 साल पहले जब फिल्मों में मैंने अपने हमउम्र हीरोज की मां के रोल करने शुरू किए, तो सभी ने मुझसे यही कहा कि मुझे ऐसे रोल नहीं करने चाहिए, मैं अभी जवान हूं, मगर उस वक्त मेरे लिए काम हासिल करना और पैसे कमाना बहुत जरूरी था। मेरे पति ज्ञान शिवपुरी चल बसे। सिंगल मदर के रूप में मुझे अपने बेटे को बड़ा करना था। उसके बाद मैं इंडस्ट्री के तकरीबन सभी सीनियर हीरोज की मां बनी।’ वहीं ‘गली बॉयज’ जैसी हिट फिल्म में रणवीर सिंह की मां के चरित्र में नजर आने वाली अमृता प्रकाश कहती हैं, ‘कई बार हम कलाकार फिल्मकार और अपनी संतुष्टि के लिए फिल्म करते हैं। ‘गली बॉयज’ में जब मैं रणवीर की मां बनी, तो कई लोगों ने मुझे टोका कि मैं टाइप कास्ट हो जाऊंगी। मगर मैं जोया अख्तर जैसी निर्देशक के साथ काम करना चाहती थी। मेरे लिए वह बैनर भी अहम था और आप ही देखिए मजबूत भूमिका के साथ मुझे फिल्मफेयर का बेस्ट सपोर्टिंग ऐक्ट्रेस का अवॉर्ड भी मिला। और उसके बाद मैंने कई ग्लैमरस और मजेदार रोल निभाए।’

कृति सैनन की ‘मिमी’ का ट्रेलर रिलीज़, पंकज त्रिपाठी फिर मचा रहे धमाल

दमदार रोल की चाह में बनती हैं मां
कुछ अरसा पहले बॉलिवुड की जानी-मानी अभिनेत्री प्रीति जिंटा ने अपने सोशल मीडिया पर इस बात का खुलासा किया था कि कैसे दमदार रोल की चाह में उन्होंने अपने दिल की सुनी और क्या कहना में काम किया। असल में प्रीति जिंटा ने 2000 में रिलीज हुई अपनी फिल्म ‘क्या कहना’ में टीनेज सिंगल मदर का किरदार निभाया था। दिल से जैसी पहली फिल्म से डेब्यू करके वे फिल्मफेयर अवॉर्ड जीत चुकी थीं और सोल्जर से उन्होंने कमर्शल सक्सेस का स्वाद भी चखा था। इसीलिए जब वे अपनी तीसरी फिल्म में सिंगल मॉम के रूप में नजर आईं, तो लोग शॉक्ड रह गए। उन्होंने लिखा था, ‘मुझे याद है जब मैंने एक बिन ब्याही टीनेज मां के रोल का फैसला लिया था तो हर कोई शॉक रह गया था। कुछ ने कहा था कि करियर शुरू होने से पहले ही खत्म हो जाएगा। क्या तुम पागल हो गई हो? जब मैं पीछे मुड़कर देखती हूं तो लगता है फिल्म से मुझे सीख मिली कि दिल की सुनो।’ प्रीति की तरह प्रियंका चोपड़ा ने भी अपनी ग्लैमरस इमेज की परवाह किए बगैर मां की भूमिकाएं स्वीकारीं। चर्चित ‘स्काई इज द पिंक’ में वे जायरा वसीम और रोहित श्रॉफ जैसे यंग कलाकारों की मां की भूमिका में नजर आईं। प्रियंका इससे पहले भी ‘मैरीकॉम’ और ‘बाजीराव मस्तानी’ में मां का रोल अदा कर चुकी थीं। प्रियंका ने अपने इंटरव्यू में कहा था, ‘पर्दे पर रोल को निभाते हुए चुनौती का अहसास होना चाहिए। इन तमाम फिल्मों ने मुझे वो चैलेंज दिया।’ निश्चित रूप से वह किरदार का दमखम ही रहा होगा, जो ‘वक्त- द रेस अगेंस्ट टाइम’ में शेफाली शाह अक्षय कुमार की मां की भूमिका में दिखी थीं, तो मेहर विज ‘सीक्रेट सुपरस्टार’ में जायरा वसीम की मां बन बैठीं। उसके दशकों पहले नरगिस दत्त जैसी लीजेंडरी अभिनेत्री ‘मदर इंडिया’ में सुनील दत्त और राजेंद्र कुमार जैसे नायकों की मां के रूप में दिखीं, तो वहीदा रहमान और राखी जैसी अभिनेत्रियों ने तो महानायक की नायिका के साथ-साथ उनकी मां की भूमिका भी की। वहीदा ने ‘धर्मा’ और ‘अदालत’ में अमिताभ का लव इंट्रेस्ट प्ले किया और ‘कुली’ और ‘त्रिशूल’ में मां का रोल अदा किया। ‘कभी कभी’, ‘त्रिशूल’ और ‘कस्मे वादे’ में राखी बिग बी की प्रेमिका बनी थी जबकि ‘शक्ति’ में मां।

टिके रहने के लिए करने पड़ते हैं हर तरह के रोल!
इंडस्ट्री की दीवा कहलाने वाली अभिनेत्रियों ने भी मां बनने से गुरेज नहीं किया। अमीषा पटेल ‘गदर’ में उत्कर्ष शर्मा की मां का रोल अदा करके सुपर कामयाबी बटोर चुकी हैं। अमीषा की तरह कटरीना ने भी करियर के शुरुआती दौर में ‘न्यूयॉर्क’ में मां बनना कुबूला था, तो रिचा चड्ढा जैसी अभिनेत्री 2012 में आई ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में मां बनीं और ऐश्वर्या राय ‘जज्बा’ में। काजोल भी ‘कभी खुशी कभी गम’ में मां की भूमिका निभा चुकी हैं। ‘बाजीराव मस्तानी’ में जितनी तारीफ दीपिका पादुकोन के हुस्न की हुई, उतनी ही प्रशंसा उनके द्वारा निभाए गए मां के रोल को मिली थी। ‘बदलापुर’ जैसी सफल और चर्चित फिल्म में यामी गौतम ने मां बनना स्वीकारा था, तो ‘मणिकर्णिका’ में कंगना रनौत झांसी की रानी के रूप में मातृत्व की ममता बरसाती भी नजर आईं थीं और तो और शोख अदाओं वाली जैकलीन फर्नांडिस ने 2015 में आई ‘ब्रदर्स’ में मां बनना मंजूर किया। जैकलीन के अनुसार, ‘यह एक गलत धारणा है कि यंग हिरोइन को मां की भूमिका नहीं करनी चाहिए। मुझे लगता है कि एक ऐक्ट्रेस को हर तरह के रोल करने चाहिए। टिके रहने के लिए कलाकार को हर तरह की भूमिकाएं करनी पड़ती हैं। इससे उनका करियर लंबा चलता है।’

ट्रेड एक्सपर्ट तरन आदर्श का कहना है कि ग्लैमरस किरदारों की लाइफ कम होती है। यही वजह है कि अपने करियर का आगाज हीरोइनें भले ग्लैमरस रोल्स से करें, मगर एक बार स्थापित हो जाने के बाद वे अलग तरह की भूमिकाओं का रिस्क जरूर लेती हैं। अतीत में भी जया प्रदा, हेमा मालिनी और श्रीदेवी जैसी अभिनेत्रियों ने अपने किरदारों में इस तरह के प्रयोग किए हैं। वहीं, प्रड्यूसर और फिल्म बिजनेस एनालिस्ट गिरीश जौहर का कहना है कि आज दर्शक मैच्योर हो गया है। वो जमाना गया, जब हीरोइनों को एक खास तरह की इमेज में टाइपकास्ट कर दिया जाता था। अभिनेत्रियां भी इस तरह के अलग रोल करके साबित करना चाहती हैं कि वे फिल्मों में महज ग्लैम डॉल तक सीमित नहीं हैं। इससे उनका करियर ग्राफ लंबा चलता है।



Source link

इसे भी पढ़ें

- Advertisement -

Latest Articles

भव्य स्वागत देख बोले पीवी सिंधु के कोच कोच पार्क ताइ सांग- मुझे ‘गुरु’ बनाने के लिए शुक्रिया

नई दिल्लीतोक्यो ओलिंपिक में इतिहास रचने वाली भारत की बेटी पीवी सिंधु के विदेशी कोच पार्क ताइ सांग भव्य स्वागत से अभिभूत दिखे।...