Home टेक & ऑटो समलैंगिक एक्टिविस्ट Frank Kameny को Google ने डूडल बनाकर किया याद, कभी...

समलैंगिक एक्टिविस्ट Frank Kameny को Google ने डूडल बनाकर किया याद, कभी अमेरिकी सरकार ने मांगी थी माफी

0


नई दिल्ली। दुनिया की जानी-मानी सर्च इंजन कंपनी Google अक्सर देश और दुनिया के महान लोगों और विशेष दिनों को Google Doodle के जरिए संबोधित करता है। आज एक बार फिर टेक्नोलॉजी कंपनी Google ने अमेरिकी समलैंगिक अधिकार कार्यकर्ता डॉ फ्रैंक कैमिनी (Frank Kameny) को Doodle के जरिए याद किया है। हर साल जून में LGBT प्राइड मंथ सेलिब्रेट किया जाता है। 28 जून, 1969 में LGBT कम्युनिटी के मेंबर्स पुलिस के खिलाफ हुए एकजुट हुए थे। जून वह महीना है जब दुनिया भर में हजारों लोग LGBTQ कम्युनिटी के सपोर्ट में एक साथ आगे आए थे। आज इस प्राइड मंथ के दौरान Google ने भी अपने स्तर पर योगदान दिया है।

खुलासा! सामने आई iPhone 13 की बैटरी और 5G से जुड़ी अहम जानकारी, Apple चुपके-चुपके कर रहा ये काम

गूगल ने इस तरह दिया धन्यवाद
Google ने कैमिनी की रंगीन माला पहने हुए फोटो में अपने होमपेज पर एक डूडल बनाया है। टेक दिग्गज ने कैमिनी को US LGBTQ+ अधिकार राइट्स में सबसे अहम के तौर पर दिखाया है। गूगल ने इस प्रकार उनके कार्यों के लिए उनका धन्यवाद किया है। एक्टिविस्ट डॉ फ्रैंक कैमिनी का जन्म 21 मई, 1925 को अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में क्वींस में हुआ था। उन्होंने 15 वर्ष की उम्र में क्वींस कॉलेज में भौतिकी की शिक्षा लेने के लिए एडमिशन लिया। उसके बाद उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से खगोल विज्ञान में डॉक्टरेट की उपाधि भी प्राप्त की थी।

Realme GT 5G: कीमत देखकर टूट सकता है इसे खरीदने का सपना! भारत में 10 जून को हो सकता है लॉन्च

इसलिए अमेरिकी सरकार को मांगनी पड़ी थी माफी
इस सब से पहले उन्होंने दूसरे विश्व युद्ध में भी भाग लिया था। कैमिनी 1957 में आर्मी मैप सर्विस के खगोलशास्त्री बने। जब सरकार ने LGBTQ कम्युनिटी के सदस्यों को काम करने पर बैन लगाया तो उसके बाद उनकी नौकरी चली गई थी। उसके बाद कैमिनी ने अमेरिकी सरकार पर केस किया। 1961 में अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट में कैमिनी द्वारा पहली समलैंगिक अधिकार अपील दायर की गई थी। उसके बाद अमेरिकी सरकार ने उनसे माफी मांगी थी। तभी से कैमिनी को LGBTQ+ कम्युनिटी के लिए अहम माना जाता है।



Source link