Thursday, February 25, 2021

Microsoft Word में मिल सकता है ये खास फीचर, टाइपिंग में नहीं आएगी दिक्कत

- Advertisement -


ऑटोमैटिक टेक्स्ट प्रिडक्शन (Automatic Text Prediction) में यूजर सिर्फ कुछ टैप के जरिए पूरा वाक्य आसानी से लिख सकते हैं। जब आप टाइप करते हैं तो आपको अपने वाक्य में इस्तेमाल करने के लिए शब्द और वाक्य नजर आते हैं जो कि आपके पिछले वार्तालापों, लिखने के स्टाइल आदि पर निर्भर होते हैं। अब दुनिया के सबसे लोकप्रिय वर्ड प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर में भी ऑटोमैटिक टेक्स्ट प्रिडक्शन फीचर को शामिल किया जा रहा है।
Nokia से लेकर Samsung तक के ये फोन्स खरीदें Rs 15000 से भी कम में, धमाकेदार हैं फीचर्स
ऑटोमैटिक टेक्स्ट प्रिडिक्शन में टाइपिंग के आधार पर काम कर सकते हैं, इसके लिए रेडमंड कंपनी के प्रोडक्ट का इस्तेमाल होगा। कंपनी यह फीचर अपने ग्राहकों को एक नई सर्विस के तौर पर दे सकती है, क्योंकि लंबे समय से गूगल डॉक्स और अन्य सर्विस में ऐसे फीचर्स नजर आ रहे हैं, जो कि कंपनी के लिए कहीं न कहीं ग्राहकों के बीच दिक्कत बन रहे हैं।

कंपनी के काम करने का तरीका यह भी दिखाता है कि फिलहाल यह फीचर तैयार नहीं है बल्कि जल्द ही इस फीचर लोगों के लिए तैयार हो जाएगा। अभी यह कहना भी मुश्किल है कि यह फीचर वेब क्लाइंट / ऑफिस365 फीचर के तौर पर आएगा या फिर यह Microsoft के सभी एडिशन के लिए उपलब्ध होगा। अगर ऐसा होता है तो यह कहना गलत नहीं होगा कि माइक्रोसॉफ्ट में कुछ तरह से ऑफलाइन भी काम की जा सकेगी तो ऐसे में यूजर्स जिनके पास ऐप्स का मालिकाना हक है वे बिना इंटरनेट के भी इसका इस्तेमाल कर पाएंगे।
इस तरह Instagram की डिलीट हुई पोस्ट्स और वीडियोज को करें रिकवर, फॉलो करें ये स्टेप्स
ऑटोमैटिक टेक्स्ट प्रिडक्शन (Automatic Text Prediction) फीचर Google डॉक्स द्वारा लोकप्रिय बना। अगर इसके इतिहास की बात करें तो यह फीचर सबसे पहले Gmail के लिए 2018 में ईमेल कंपोजर के तौर पर लाया गया था। यह स्मार्ट कंपोज फीचर पहले GSuite यूजर्स के लिए और फिर ग्राहकों के लिए पेश किया गया था। इस फीचर के जरिए यूजर्स जैसे स्मार्टफोन के कीबोर्ड में खुद पर खुद वाक्य और शब्द नजर आते हैं, इस प्रकार के फीचर का आनंद देता है। जब एक यूजर टाइप करता है तो इसके बाद इस फीचर की मदद के अगले दो शब्दों के बारे में जागरुक किया जाता है।

स्मार्ट कंपोज की बात करें तो यह गूगग डॉक्स के लिए पिछले साल फरवरी में बीटा टेस्टिंग के बाद किया गया था। जिस प्रकार Gmail में स्मार्ट कंपोज काम करता है उसकी तरह की यह फीचर आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (AI) पर काम करता है। उससे यह अनुमान लगाया जाता है कि यूजर द्वारा टाइप किए गए वाक्य में सुधार करने के लिए कैसे शब्दों और वाक्यों को पेश करना है और इस प्रकार से यूजर की मदद की जाती है।



Source link

इसे भी पढ़ें

Facebook, Google को लगा बड़ा झटका, मीडिया कंपनियों को चुकाने होंगे पैसे

हाइलाइट्स:ऑस्ट्रेलिया ऐसा कानून लाने वाला पहला देश बनाफेसबुक ने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में न्यूज़ कॉन्टेन्ट बैन कर दिया थाकंपनियों को सरकार द्वारा...
- Advertisement -

Latest Articles

Facebook, Google को लगा बड़ा झटका, मीडिया कंपनियों को चुकाने होंगे पैसे

हाइलाइट्स:ऑस्ट्रेलिया ऐसा कानून लाने वाला पहला देश बनाफेसबुक ने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में न्यूज़ कॉन्टेन्ट बैन कर दिया थाकंपनियों को सरकार द्वारा...

Maruti Swift नई Vs पुरानी: किसमें कितना दम

नई दिल्लीMaruti Suzuki ने बीत बुधवार को अपनी अपडेटेड स्विफ्ट हैचबैक लॉन्च की। कार की शुरुआती कीमत 5.73 लाख रुपये है। नए मॉडल...

India vs England- सुनील गावस्कर ने कहा, ‘ऐसे आउट होने से लगेगी शुभमन के आत्मविश्वास को ठेस’

अहमदाबादशुभमन गिल (Shubman Gill) ने ऑस्ट्रेलिया में अपने टेस्ट करियर का आगाज तो अच्छा किया लेकिन उसके बाद से वह ज्यादा रन नहीं...