Monday, March 8, 2021

अमेरिका में H1B वीजाधारक भारतीयों के आएंगे अच्‍छे दिन, जो बाइडेन ने दिया भरोसा

- Advertisement -


वॉशिंटन
अमेरिकी राष्‍ट्रपति कार्यालय वाइट हाउस ने गुरुवार को कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन देश की आव्रजन प्रणाली में ‘करुणा और व्यवस्था बहाल करने’ को लेकर बेहद स्पष्ट हैं। यही नहीं बाइडेन ने पिछले कुछ सप्ताह में इस संबंध में जिन कार्यकारी आदेशों पर हस्ताक्षर किए हैं, वे महज शुरुआत हैं। आगे और और कदम उठाए जाएंगे।

वाइट हाउस के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘अभी तक जिन कार्यकारी आदेशों पर हस्ताक्षर किए गए हैं, वह महज शुरुआत है।’ प्रवक्ता ने कहा, ‘राष्ट्रपति बाइडन आव्रजन प्रणाली में करुणा एवं व्यवस्था बहाल करने और गत चार वर्षों की विभाजनकारी, अमानवीय और अनैतिक नीतियों में सुधार करने को लेकर बेहद स्पष्ट हैं। आने वाले सप्ताहों और महीनों में हम इस पर ध्यान देंगे।’

एक प्रभावशाली आव्रजन की वकालत करने वाले भारतीय-अमेरिकियों के एक समूह ने बाइडन प्रशासन से आग्रह किया था कि वह भारत में जन्मे किसी भी व्यक्ति को एच1बी वर्क वीजा तब तक ना दे, जब तक कि ग्रीन कार्ड या स्थायी कानूनी निवास पर भेदभावपूर्ण नीति खत्म ना हो। इस संबंध में किए सवाल के जवाब में प्रवक्ता ने यह जवाब दिया।

एच-1बी वीजा एक गैर आव्रजक वीजा है जो अमेरिकी कंपनियों को विशेषज्ञता वाले पेशेवरों को काम पर रखने की इजाजत देता है। बता दें कि अगले वित्त वर्ष के लिए एच-1बी वीजा आवेदन पंजीकरण की प्रक्रिया 9 मार्च से शुरू होगी और कंप्यूटरीकृत लॉटरी ड्रॉ में सफल प्रतिभागियों को 31 मार्च तक इस बारे में सूचित किया जाएगा। एक संघीय एजेंसी ने यह घोषणा की है।

अमेरिका नागरिकता एवं आव्रजन सेवाएं (यूएससीआईएस) की यह नोटिफिकेशन बाइडन प्रशासन की उस घोषणा के एक दिन बाद आई है कि वह विदेशी पेशेवरों को काम के लिए वीजा जारी करने की परंपरागत लॉटरी व्यवस्था को बरकरार रखेगी। यूएससीआईएस ने घोषणा की कि वित्त वर्ष 2022 के लिए एच-1बी वीजा के लिए शुरुआती पंजीकरण 9 मार्च को दोपहर में शुरू होगा और 25 मार्च की दोपहर तक चलेगा। एजेंसी ने कहा कि अगर उसे 25 मार्च तक पर्याप्त संख्या में पंजीकरण प्राप्त हो गए तो वह बिना किसी क्रम के पंजीकरण का चयन कर चुने हुए लोगों की अधिसूचना 31 मार्च तक भेज देगी।



Source link

इसे भी पढ़ें

अब अफ्रीका पर पकड़ मजबूत कर रहा चीन, कोरोनाकाल में भी किया 33 हजार करोड़ का निवेश

हाइलाइट्स:चीन ने कोरोना महामारी के दौरान अफ्रीकी देशों में 33 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का निवेश कियाएशिया के गरीब देशों के बाद...
- Advertisement -

Latest Articles

अब अफ्रीका पर पकड़ मजबूत कर रहा चीन, कोरोनाकाल में भी किया 33 हजार करोड़ का निवेश

हाइलाइट्स:चीन ने कोरोना महामारी के दौरान अफ्रीकी देशों में 33 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का निवेश कियाएशिया के गरीब देशों के बाद...

सुबह न राज्यसभा चली ना शाम में लोकसभा, हंगामे कारण स्थगित करनी पड़ी कार्यवाही

नई दिल्ली बजट सत्र के दूसरे चरण की शुरुआत सोमवार को अनुमान के मुताबिक हंगामेदार रही। विपक्षी दलों ने पहले दिन संसद में पेट्रोल-डीजल...