Wednesday, November 25, 2020

अमेरिका: 78 साल के हुए जो बाइडेन, ठीक दो महीने बाद संभालेंगे सुपरपॉवर देश की कमान

- Advertisement -


वॉशिंगटन
अमेरिका के 46वें राष्‍ट्रपति चुने गए डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता जो बाइडेन आज अपना 78वां जन्‍मदिन मना रहे हैं। जो बाइडेन को अपना यह जन्‍मदिन ताउम्र याद रहेगा। बाइडेन ने हाल ही में संपन्‍न हुए राष्‍ट्रपति पद के चुनाव में कड़े मुकाबले में रिपब्लिकन पार्टी के उम्‍मीदवार डोनाल्‍ड ट्रंप को शिकस्‍त दी है। बाइडेन अगले साल दुनिया के सबसे शक्तिशादी पद पर आसीन होने जा रहे हैं।

जो बाइडेन आज से ठीक दो महीने बाद 20 जनवरी को अमेरिका के 46वें राष्‍ट्रपति पद की शपथ लेने जा रहे हैं। बाइडेन अमेरिका के सबसे उम्रदराज राष्‍ट्रपति होंगे। इससे पहले रोनाल्‍ड रीगन (77) के नाम यह रेकॉर्ड था। वर्तमान राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप बाइडेन से 4 साल छोटे हैं। बाइडेन की टीम ने पिछले साल उनका मेडिकल हिस्‍ट्री जारी करके कहा था कि वह इतनी उम्र के बाद भी अमेरिका की कमान संभालने के लिए पूरी तरह से फिट हैं।

अमेरिका के आगामी राष्‍ट्रपति अपनी पसंदीदा आइसक्रीम के साथ जन्‍मदिन मना सकते हैं। बराक ओबामा के मुताबिक आइसक्रीम जो बाइडेन के फेवरिट फूड में शामिल है। इससे पहले बाइडेन ने कमला हैरिस को जन्‍मदिन की बधाई देते हुए कहा था कि उन्‍हें आशा है कि दोनों नेता आइसक्रीम के साथ नया साल वाइट हाउस में मना सकते हैं। राष्‍ट्रपति चुनाव में जीत के बाद अब उनका यह सपना पूरा होने जा रहा है।

78 वर्षीय बाइडेन छह बार सीनेटर रहे हैं। बाइडेन को वर्ष 1988 और 2008 में राष्ट्रपति पद की दौड़ में नाकामी मिली थी। राष्ट्रपति बनने का सपना संजोये डेलावेयर से आने वाले दिग्गज नेता बाइडेन को सबसे बड़ी सफलता उस समय मिली जब वह दक्षिण कैरोलीना की डेमोक्रेटिक पार्टी प्राइमरी में 29 फरवरी को अपने सभी प्रतिद्वंद्वी को पछाड़कर राष्ट्रपति पद की दौड़ में जगह बनाने में कामयाब रहे।

वॉशिंगटन में पांच दशक गुजार चुके हैं बाइडेन

वॉशिंगटन में पांच दशक गुजारने वाले बाइडेन अमेरिकी जनता के लिए एक जाना-पहचाना चेहरा थे, क्योंकि वह दो बार तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल में उप राष्ट्रपति रहे। डेलावेयर राज्य में लगभग तीन दशकों तक सीनेटर रहने और ओबामा शासन के दौरान आठ वर्षों के अपने कार्यकाल में वह हमेशा ही भारत-अमेरिकी संबंधों को मजबूत करने के हिमायती रहे। बाइडेन ने भारत-अमेरिका परमाणु समझौते के पारित होने में भी अहम भूमिका निभाई थी।

भारतीयों राजनेताओं से मजबूत संबंध रखने वाले बाइडेन के दायरे में काफी संख्या में भारतीय-अमेरिकी भी हैं। चुनाव के लिए कोष जुटाने के एक अभियान के दौरान जुलाई में बाइडेन ने कहा था कि भारत-अमेरिका प्राकृतिक साझेदार हैं। उन्होंने बतौर उप राष्ट्रपति अपने आठ साल के कार्यकाल को याद करते हुए भारत से संबंधों को और मजबूत किए जाने का जिक्र किया था और यह भी कहा था कि अगर वह राष्ट्रपति चुने जाते हैं तो भारत-अमेरिका के बीच रिश्ते उनकी प्राथमिकता में रहेंगे।

1972 में 29 साल की उम्र में बने थे सीनेटर
पेनसिल्वेनिया में वर्ष 1942 में जन्मे जो रॉबिनेट बाइडेन जूनियर ने डेलावेयर विश्वविद्यालय में शिक्षा प्राप्त की और बाद में वर्ष 1968 में कानून की डिग्री हासिल की। बाइडेन डेलावेयर में सबसे पहले 1972 में सीनेटर चुने गए और उन्होंने छह बार इस पद पर कब्जा जमाया। 29 वर्ष की आयु में सीनेटर बनने वाले बाइडेन अब तक सबसे कम उम्र में सीनेटर बनने वाले नेता हैं।



Source link

इसे भी पढ़ें

कॉमेंट्री पैनल में हुई संजय मांजरेकर की वापसी, बोले घर से बाहर निकलकर खुश हूं

नई दिल्लीपूर्व भारतीय बल्लेबाज संजय मांजरेकर की कॉमेंट्री पैनल में वापसी हो गई है। वह 27 नवंबर से शुरू हो रही भारत और...
- Advertisement -

Latest Articles

कॉमेंट्री पैनल में हुई संजय मांजरेकर की वापसी, बोले घर से बाहर निकलकर खुश हूं

नई दिल्लीपूर्व भारतीय बल्लेबाज संजय मांजरेकर की कॉमेंट्री पैनल में वापसी हो गई है। वह 27 नवंबर से शुरू हो रही भारत और...

हद से ज्यादा क्यूट है बेटे अगस्त्य के साथ नताशा स्टैनकोविक का यह वीडियो

इंडियन क्रिकेटर हार्दिक पंड्या की पत्नी और मॉडल नताशा स्टैनकोविक कुछ दिनों पहले ही मां बनी थीं। सोशल मीडिया पर बेहद ऐक्टिव रहने...