Wednesday, January 20, 2021

अमेरिकी संसद में हिंसा के बाद पहली बार डोनाल्‍ड ट्रंप से मिले माइक पेंस, तोड़ेंगे दोस्‍ती?

- Advertisement -


वॉशिंगटन
अमेरिकी संसद कैपिटल ह‍िल में ट्रंप समर्थकों की हिंसा के बाद पहली बार अमेरिका के उपराष्‍ट्रपति माइक पेंस ने राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप से मुलाकात की है। ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने कहा कि दोनों नेताओं के बीच ‘अच्‍छी बातचीत’ हुई है। यह बातचीत ऐसे समय पर हुई जब अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पिछले कुछ दिनों से माइक पेंस और ट्रंप के बीच तनाव काफी बढ़ गया है। डेमोक्रेटिक पार्टी के नेताओं ने पेंस से मांग की है कि वह ट्रंप को हटाने के लिए प्रक्रिया शुरू करें।

इस मुलाकात के बाद वाइट हाउस ने घोषणा की कि राष्‍ट्रपति ने वाशिंगटन डीसी में 11 जनवरी से 24 जनवरी के बीच आपातकाल की घोषणा की है। इस तरह से जो बाइडन के राष्‍ट्रपति बनने के 4 दिन बाद भी आपातकाल लगा रहेगा। बताया जा रहा है कि ट्रंप और पेंस के बीच में आने वाले सप्‍ताह के अंदर लागू की जाने वाली योजनाओं और 4 साल के कार्यकाल की उप‍लब्धियों पर चर्चा की गई। वाइट हाउस के अधिकारी ने कहा कि दोनों नेताओं का मानना था कि जिन लोगों ने पिछले सप्‍ताह कानून को तोड़ा वे अमेरिका फर्स्‍ट आंदोलन का प्रतिनिधित्‍व नहीं करते हैं।

इससे पहले ट्रंप समर्थकों ने संसद पर धावा बोला था और अंदर घुसकर तोड़फोड़ की थी। इस दौरान माइक पेंस संसद के अंदर मौजूद थे। ट्रंप को पिछले साल नवंबर महीने में हुए राष्‍ट्रपति चुनाव के नतीजों को पलटने के लिए माइक पेंस आखिरी उम्‍मीद थे। ट्रंप कथित रूप से माइक पेंस के संविधान के खिलाफ नहीं जाने पर नाराज हो गए थे। ट्रंप ने ट्वीट करके अपनी नाराजगी को खुलेआम जाहिर भी कर दिया था। यही नहीं संसद में हिंसा के दौरान ट्रंप के कुछ समर्थकों ने माइक पेंस को फांसी देने तक की मांग कर डाली थी।

इस हिंसा के बाद से डेमोक्रेट‍िक पार्टी के नेता माइक पेंस से संव‍िधान के 25वें संशोधन को लागू करने तथा ट्रंप को राष्‍ट्रपति कार्यालय के लिए अनफिट घोष‍ित करने की मांग कर रहे हैं। हालांकि पेंस बार-बार इस मांग को खारिज कर रहे हैं। चार साल तक साथ रहने के बाद संसद में हिंसा को लेकर माइक पेंस और ट्रंप के बीच बातचीत बंद थी, जो अब फिर से शुरू हुई है। वॉशिंगटन पोस्‍ट अखबार के मुताबिक माइक पेंस और डोनाल्‍ड ट्रंप के बीच यह विवाद काफी बढ़ गया था।

ट्रंप के तमाम बयानों के बाद भी माइक पेंस ने एक सच्‍चे सिपाही की तरह से अपने राष्‍ट्रपति के खिलाफ कुछ नहीं कहा था जबकि उनके सलाहकारों ने उन्‍हें ऐसा करने के लिए कहा था। माइक पेंस ने घोषणा की है कि वह जो बाइडन के शपथ ग्रहण समारोह में जाएंगे। उधर, डोनाल्‍ड ट्रंप ने ऐलान किया है कि वह इस समारोह से दूर रहेंगे। पेंस के सहयोगी इस बात से नाराज हैं कि जब ट्रंप समर्थकों से अपनी जान बचाने के लिए माइक पेंस बंकर में जा छिपे तब उस समय ट्रंप ने उन्‍हें फोन तक नहीं किया था।



Source link

इसे भी पढ़ें

अमेरिका ने चीन को द‍िया बड़ा झटका, उइगर मुस्लिमों के साथ व्‍यवहार को ‘नरसंहार’ घोषित किया

वॉशिंगटन अमेरिका की डोनाल्‍ड ट्रंप सरकार ने जाते-जाते चीन को बड़ा झटका दिया है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने शिंजियांग प्रांत में...

गोलू ने क्लास से बाहर फेंका बैग

मैडम (बच्चों से) - जो बच्चा मेरे सवाल का जवाब देगा,उसे मैं घर जाने दूंगी...गोलू ने तुरंत अपना बैग खिड़की के बाहर फेंक...
- Advertisement -

Latest Articles

अमेरिका ने चीन को द‍िया बड़ा झटका, उइगर मुस्लिमों के साथ व्‍यवहार को ‘नरसंहार’ घोषित किया

वॉशिंगटन अमेरिका की डोनाल्‍ड ट्रंप सरकार ने जाते-जाते चीन को बड़ा झटका दिया है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने शिंजियांग प्रांत में...

गोलू ने क्लास से बाहर फेंका बैग

मैडम (बच्चों से) - जो बच्चा मेरे सवाल का जवाब देगा,उसे मैं घर जाने दूंगी...गोलू ने तुरंत अपना बैग खिड़की के बाहर फेंक...

IND vs AUS: जब 32 साल बाद पहली बार गाबा में हारी ऑस्ट्रेलिया, देखिए क्या कह रहा है वहां का मीडिया

हाइलाइट्स:भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुई टेस्ट सीरीज की शुरुआत में अधिकतर लोगों को लग रहा था कि भारत इस बार जीत नहीं...