Thursday, February 25, 2021

इंसानी कोशिकाओं पर कैसे कब्जा करता है कोरोना वायरस, भारतीय मूल के वैज्ञानिक की टीम ने की खोज

- Advertisement -


बर्लिन
वैज्ञानिकों ने इंसानी प्रोटीन के उस हिस्से की पहचान की है जिसका इस्तेमाल नया कोरोना वायरस मेजबान कोशिकाओं की प्रक्रियाओं पर कब्जा जमाने के लिये कर सकता है। यह अध्ययन कोविड-19 के उपचार के लिये उन्नत दवा विकसित करने में और सहायक हो सकता है। जर्मनी की यूरोपियन मॉलीक्यूलर बायोलॉजी लेबोरेटरी (ईएमबीएल) के अनुसंधानकर्ताओं में भारतीय मूल के मंजीत कुमार भी शामिल हैं।

अनुसंधानकर्ताओं ने कोरोना वायरस संक्रमण में शामिल इंटेग्रिन्स श्रेणी की तरह के इंसानी प्रोटीन बनाने वाले अमीनो अम्ल के अणुओं की श्रृंखला का विश्लेषण किया। पूर्व में हुए अध्ययनों में पाया गया था कि कोविड-19 फैलाने वाला सार्स-सीओवी-2 विषाणु कोशिका की सतह पर एसीई2 रिसेप्टर और संभवत: इंटेग्रिन्स जैसे अन्य प्रोटीनों से जुड़कर एंडोसाइटोसिस नामक प्रक्रिया के तहत कोशिकाओं में प्रवेश करता है।

‘साइंस सिग्नलिंग’ नामक पत्रिका में प्रकाशित मौजूदा अध्ययन में वैज्ञानिकों ने खास तौर पर अमीनो अम्लों की छोटी कड़ी पर अपना ध्यान केंद्रित किया जिन्हें लघु रैखिक विशेषताएं (एसएलआईएमएस) कहा जाता है। ये कोशिकाओं के अंदर और बाहर सूचनाओं के संप्रेषण में शामिल होती हैं। उन्होंने देखा कि कुछ इंटेग्रिन्स में ‘एसएलआईएमएस’ होते हैं जो संभव है पदार्थों को ग्रहण और निस्तारित करने की कोशिकीय प्रक्रियाओं में शामिल हों जिन्हें एंडोसाइटोसिस और ऑटोफेगी कहा जाता है।

ईएमबीएल के अध्ययन के सह-लेखक बालिंट मेस्जारोस कहते हैं, “सार्स-सीओवी-2 अगर एंडोसाइटोसिस और ऑटोफेगी में शामिल प्रोटीन को निशाना बनाता है, तो इसका मतलब है कि संक्रमण के दौरान विषाणु द्वारा इन प्रक्रियाओं पर कब्जा जमाया जा सकता है।” शोधकर्ताओं का मानना है कि इस अध्ययन से कोविड-19 के उपचार को नया नजरिया मिल सकता है।

अध्ययन की वरिष्ठ लेखिका लुसिया चेम्स बताती हैं किएसएलआईएमएस विषाणु के प्रवेश संकेतों को चालू या बंद करने के लिये ‘स्विच’ बन सकता है। इसका मतलब है कि अगर हम दवा का इस्तेमाल कर इन संकेतों को पलटने का तरीका खोज सकते हैं तो यह कोरोना वायरस को कोशिकाओं में प्रवेश करने से रोक सकता है। इन नतीजों के आधार पर शोधकर्ताओं ने मौजूदा दवाओं की एक सूची तैयार की है जो एंडोसाइटोसिस और ऑटोफेगी में दखल दे सकती है। कुमार कहते हैं कि ह्यूमन ट्रायल में अगर इनमें से कुछ दवाएं कोविड-19 के खिलाफ कारगर मिलती हैं तो यह परिवर्तनकारी हो सकता है।



Source link

इसे भी पढ़ें

Infinix के इन स्मार्टफोन्स को 700 रुपये से भी कम में खरीदने का बम्पर मौका

हाइलाइट्स:Flipkart पर चल रही Mobile Bonanza Saleसेल 28 फरवरी तक चलेगी10 फीसद का इंस्टैंट डिस्काउंट Mobile Bonanza Sale 2021: ई-कॉमर्स साइट Flipkart ने...

OnePlus 9R होगा वनप्लस 9 सीरीज का सबसे सस्ता फोन, मिल सकते हैं ये फीचर

हाइलाइट्स:वनप्लस 9R होगा नई सीरीज का सस्ता स्मार्टफोनमिल सकता है 64MP का प्राइमरी रियर कैमरा5000mAh बैटरी और SD690 प्रोसेसरनई दिल्लीOnePlus 9 सीरीज पिछले...
- Advertisement -

Latest Articles

Infinix के इन स्मार्टफोन्स को 700 रुपये से भी कम में खरीदने का बम्पर मौका

हाइलाइट्स:Flipkart पर चल रही Mobile Bonanza Saleसेल 28 फरवरी तक चलेगी10 फीसद का इंस्टैंट डिस्काउंट Mobile Bonanza Sale 2021: ई-कॉमर्स साइट Flipkart ने...

OnePlus 9R होगा वनप्लस 9 सीरीज का सबसे सस्ता फोन, मिल सकते हैं ये फीचर

हाइलाइट्स:वनप्लस 9R होगा नई सीरीज का सस्ता स्मार्टफोनमिल सकता है 64MP का प्राइमरी रियर कैमरा5000mAh बैटरी और SD690 प्रोसेसरनई दिल्लीOnePlus 9 सीरीज पिछले...

Dish TV ग्राहकों के लिए शानदार ऑफर, 6 माह तक फ्री में उठाएं इस सर्विस का लाभ

हाइलाइट्स:6 महीने का मुफ्त सब्सक्रिप्शनऐप टीवी शो, लाइव न्यूज अपडेट, वेब सीरीज, मूवीज देख सकते हैंऐप पर कंटेंट कई भाषाओं में देखा जा...

Prithvi Shaw Double Century : पृथ्वी साव ने दोहरा शतक जड़कर बनाया रेकॉर्ड, विजय हजारे ट्रोफी में सर्वश्रेष्ठ निजी स्कोर

हाइलाइट्स:मुंबई के लिए खेलते हुए पृथ्वी साव ने पुडुचेरी के खिलाफ जड़ा दोहरा शतक, सूर्यकुमार की भी सेंचुरीजयपुर में एलीट ग्रुप-डी के इस...