Wednesday, August 4, 2021

इंसान ने कब, कैसे और कहां शुरू किया शराब और नशीले पदार्थों के साथ एक्सपेरिमेंट?

- Advertisement -


लंदन
इंसान लगातार दुनिया को बदलते हैं। हम खेतों में आग लगाते हैं, जंगलों को खेतों में बदलते हैं, और पौधों और जानवरों का प्रजनन करते हैं लेकिन मनुष्य केवल हमारी बाहरी दुनिया को नया आकार नहीं देते हैं – हम अपने आंतरिक संसार का निर्माण करते हैं, और अपने दिमाग को नया आकार देते हैं। ऐसा करने का एक तरीका है कि हम अपने मानसिक ‘सॉफ्टवेयर’ को अपग्रेड करें, ताकि मिथकों, धर्म, दर्शन और मनोविज्ञान के बारे में बात कर सकें।

दूसरा हमारे मानसिक हार्डवेयर – हमारे दिमाग को बदलना है। और हम रसायन शास्त्र के साथ ऐसा करते हैं। आज, मनुष्य दुनिया के अपने अनुभव को बदलने के लिए हजारों मनो-सक्रिय यौगिकों का उपयोग करते हैं। कई पौधों और कवक से प्राप्त होते हैं, अन्य जो हम बनाते हैं। कुछ, जैसे कॉफी और चाय, जो सतर्कता बढ़ाते हैं; अन्य, जैसे शराब और अफीम, जो इसे कम करते हैं। मनश्चिकित्सीय दवाएं मूड को प्रभावित करती हैं, जबकि मनोविकृतिकारी पदार्थ वास्तविकता को बदल देते हैं।

हम मस्तिष्क रसायन विज्ञान को कई कारणों से बदलते हैं और मनोरंजन, सामाजिक, चिकित्सकीय अथवा पारंपरिक कारणों से विभिन्न पदार्थों का इस्तेमाल करते हैं। जंगली जानवर कभी-कभी सड़े हुए फल खाते हैं, लेकिन इस बात के बहुत कम प्रमाण हैं कि वे साइकोएक्टिव पौधे खाते हैं। हमारे उत्साह में हम असामान्य जानवर बन जाते हैं और नशीले पदार्थों का इस्तेमाल करके अपने होश खो बैठते हैं। लेकिन यह सब कब, कहां और क्यों शुरू हुआ?

इजरायल में पुरातत्‍वविदों को मिला 6500 साल पुराना ‘खजाना’, बदलेगा दुनिया का इतिहास
नशे में बनाई थीं तस्वीरें
मदिरा और मादक पदार्थों के साथ इंसान के प्रेम को देखते हुए, आप मान सकते हैं कि नशा करना एक प्राचीन, यहां तक कि प्रागैतिहासिक परंपरा है। कुछ शोधकर्ताओं का तो यह तक कहना है कि प्रागैतिहासिक गुफा चित्र भी चेतना की परिवर्तित अवस्थाओं का अनुभव करने वाले मनुष्यों द्वारा ही बनाए गए थे। अन्य, शायद कठिन सबूतों की तुलना में मतिभ्रम से अधिक प्रेरित हैं, यह सुझाव देते हैं कि दवाओं ने मानव चेतना के विकास को गति दी।

फिर भी प्रागैतिहासिक नशीली दवाओं के उपयोग के संबंध में आश्चर्यजनक रूप से बहुत कम पुरातात्विक साक्ष्य हैं। शुरुआती मनुष्यों द्वारा दवाओं के उपयोग के लिए सबसे सम्मोहक सबूत एक संभावित मतिभ्रम वाला पौधा है! कैशे, जिसका उपयोग जड़ी बूटी के तौर पर किया जाता है, जो माना जाता है कि लोगों को ‘थोड़ी देर के लिए पागल’ कर देता है।

इजरायल में मिला वर्कशॉप

इजरायल में मिला वर्कशॉप

निहितार्थ यह है कि, अफ्रीका के विविध पौधों और कवक के बावजूद, प्रारंभिक मनुष्यों ने शायद ही कभी दवाओं का इस्तेमाल किया, शायद उनकी जीवनशैली ही ऐसी थी कि उन्हें कभी अपने आप से भागने की जरूरत ही महसूस नहीं हुई।

व्यायाम, धूप, प्रकृति, दोस्तों और परिवार के साथ समय – ये शक्तिशाली एंटीडिप्रेसेंट हैं। ड्रग्स भी खतरनाक हैं; जिस तरह आपको शराब पीकर गाड़ी नहीं चलानी चाहिए, उसी तरह जब शेर झाड़ियों में बैठा हो या एक शत्रुतापूर्ण जनजाति एक घाटी में इंतजार कर रही हो, तो नशा करना जोखिम भरा होता है।

अफ्रीका से बाहर
1,00,000 साल पहले अफ्रीका से बाहर आकर, मनुष्यों ने नई भूमि की खोज की और उसका नए पदार्थों से सामना हुआ। लोगों ने भूमध्य सागर में अफीम की भूसी और एशिया में भांग और चाय की खोज की। पुरातत्वविदों को यूरोप में 5,700 ईसा पूर्व तक अफीम के उपयोग के प्रमाण मिले हैं। भांग के बीज एशिया में 8,100 ईसा पूर्व में पुरातात्विक खुदाई में दिखाई देते हैं, और प्राचीन यूनानी इतिहासकार हेरोडोटस ने सीथियन को 450 ईसा पूर्व में किसी घास से नशा होने की सूचना दी थी। चीन में चाय का निर्माण 100 ईसा पूर्व हुआ था।

यह संभव है कि पुरातात्विक साक्ष्यों से पहले हमारे पूर्वजों ने पदार्थों के साथ प्रयोग किया हो। पत्थर और मिट्टी के बर्तन अच्छी तरह से संरक्षित रहते हैं, लेकिन पौधे और रसायन जल्दी सड़ जाते हैं। हम सभी जानते हैं कि निएंडरथल बर्तन से धूम्रपान करने में पहले हो सकते थे। लेकिन पुरातत्व से पता चलता है कि मनोवैज्ञानिक पदार्थों की खोज और गहन उपयोग अधिकांशत: देर से हुआ, 10,000 ईसा पूर्व में नवपाषाण क्रांति के बाद, जब हमने खेती और सभ्यता का आविष्कार किया

शराब का आविष्कार
अय्याशी के विकास में एक बड़ा कदम कृषि का आविष्कार था, क्योंकि खेती ने शराब को संभव बनाया। इसने शर्करा और स्टार्च का एक अधिशेष बनाया, जिसे मैश किया गया और सड़ने या खमीर होने के लिए छोड़ दिया गया, जिसके बाद यह जादुई रूप से शक्तिशाली काढ़े में बदल गया।

मनुष्य ने स्वतंत्र रूप से कई बार शराब का आविष्कार किया। सबसे पुरानी शराब चीन में 7,000 ईसा पूर्व की है। शराब 6000 ईसा पूर्व में काकेशस में बनाई गई थी; सुमेरियों ने 3,000 ईसा पूर्व में बीयर पी थी। अमेरिका में, एज़्टेक ने आज के एलोवेरा जैसे एक पौधे का इस्तेमाल करके एक पेय बनाया, जो आज टकीला के लिए उपयोग किया जाता है; इंकास ने चीचा, एक मक्के की बीयर बनाई।

अमेरिका में जहां साइकेडेलिक्स विशेष रूप से महत्वपूर्ण प्रतीत होते हैं, यूरेशियन और अफ्रीकी सभ्यताओं ने शराब को प्राथमिकता दी। शराब प्राचीन ग्रीक और रोमन संस्कृतियों का केंद्र हुआ करती थी।

(निकोलस आर लॉन्गरिच, इवोल्यूशनरी बायोलॉजी एंड पेलियोन्टोलॉजी में सीनियर लेक्चरर, यूनिवर्सिटी ऑफ बाथ, द कन्वरसेशन)



Source link

इसे भी पढ़ें

- Advertisement -

Latest Articles

भव्य स्वागत देख बोले पीवी सिंधु के कोच कोच पार्क ताइ सांग- मुझे ‘गुरु’ बनाने के लिए शुक्रिया

नई दिल्लीतोक्यो ओलिंपिक में इतिहास रचने वाली भारत की बेटी पीवी सिंधु के विदेशी कोच पार्क ताइ सांग भव्य स्वागत से अभिभूत दिखे।...

India vs Germany Head to Head in Hockey: भारत के लिए ब्रॉन्ज मेडल नहीं होगा आसान, जानें जर्मनी के खिलाफ कैसा है रेकॉर्ड

तोक्योतोक्यो ओलिंपिक में 130 करोड़ भारतीयों की गोल्डन उम्मीद ने उस वक्त दम तोड़ दिया, जब पुरुष हॉकी टीम को बेल्जियम से सेमीफाइनल...