Wednesday, April 14, 2021

भारत ने रोका कोविड वैक्सीन निर्यात तो अफ्रीका में मचा हाहाकार, अब हालात बिगड़ने का डर

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • भारत के कोरोना वैक्सीन के निर्यात पर अस्थायी पाबंदी से अफ्रीका में दहशत
  • अफ्रीकी यूनियन ने कहा कि वैक्सीन आयात प्रभावित होने का आएगा विनाशकारी परिणाम
  • भारत ने देश में वैक्सीनेशन अभियान तेज करने के लिए वैक्सीन निर्यात पर अस्थायी रोक लगाई है

अदिस अबाबा
भारत के एस्ट्राजेनेका कोरोना वायरस वैक्सीन का निर्यात रोकने से अफ्रीकी देशों में चिंताएं बढ़ गई हैं। संयुक्त राष्ट्र समेत कई स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि भारत के इस फैसले से अफ्रीका में टीकाकरण के लिए चलाए जा रहे अभियान प्रभावित हो सकते हैं। गुरुवार को अफ्रीकी महाद्वीप के रोग नियंत्रण निकाय के प्रमुख ने चेतावनी देते हुए कहा कि इसके विनाशकारी परिणाम सामने आ सकते हैं।

भारत ने घरेलू मांग पूरी करने के लिए लगाई है अस्थायी रोक
भारत में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन का उत्पादन करता है। भारत पहले ही इस कंपनी में बनाए गए कोरोना वैक्सीन के कई करोड़ डोज दुनियाभर के 50 से अधिक देशों को निर्यात कर चुका है। अब देश में बढ़ती मांग और कोरोना टीकाकरण अभियान को तेज करने के लिए सरकार ने विदेशों को वैक्सीन का निर्यात अस्थायी तौर पर निलंबित किया हुआ है। इसी बात को लेकर अफ्रीका में हाहाकार मचा हुआ है।

वैक्सीन की कमी से प्रभावित हो रहा टीकाकरण अभियान
अफ्रीका सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के निदेशक जॉन नेकेंगसॉन्ग ने इथोपिया की राजधानी अदिस अबाबा में बताया कि यह निश्चित रूप से लोगों को लगातार टीकाकरण करने की हमारी क्षमता को प्रभावित करेगा। अफ्रीकी संघ ने वर्ष के अंत तक महाद्वीप की आबादी का 30 से 35 फीसदी लोगों के टीकाकरण करने की योजना बनाई थी। हालांकि, अब वैक्सीन की आवक कम होने पर उन्होंने कहा कि इस देरी से हमारा लक्ष्य चूक सकता है।

कई देशों में वैक्सीन की भारी कमी
अफ्रीकी देश घाना को मई के अंत तक COVAX के माध्यम से एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के 24 लाख डोज मिलने थे। लेकिन, इसे अबतक केवल 6 लाख डोज ही मिल पाया है। घाना के वैक्सीन अभियान के प्रमुख क्वामे अम्पोसा-अचियानो ने कहा कि उन्हें बताया गया है कि अब वैक्सीन के अधिक डोज जून तक पहुंच पाएंगे। अफ्रीका में कोरोना टीकाकरण अभियान में शामिल एक स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि क निर्माता पर इतना भरोसा होना एक बड़ी चिंता का विषय है।

सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन पर अफ्रीकी देश निर्भर
अफ्रीकी यूनियन का 2021 के अंत तक 30 से 35 फीसदी आबादी को टीकारण करने का लक्ष्य COVAX वैक्सीन शेयरिंग फैसिलिटी पर ही निर्भर है। जिसके जरिए इस महाद्वीप में बसे कई गरीब देशों के साथ कुल 64 देशों को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से वैक्सीन दी जाएगी। COVAX का लक्ष्य अफ्रीकी देशों को उनकी आबादी का कम से कम 20 फीसदी टीकाकरण के लिए पर्याप्त शॉट्स प्रदान करना है।

अफ्रीका में कोरोना की भयावह रफ्तार
अफ्रीकी देशों में अबतक 42 लाख 50 हजार से अधिक संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से 112,000 लोगों की मौत भी हो चुकी है, लेकिन स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि वास्तविक संख्या इससे कई गुना ज्यादा हो सकती है। क्योंकि, अधिकतर अफ्रीकी देशों में स्वास्थ्य सेवाओं का बुरा हाल है। बड़ी संख्या में ऐसे केस भी हैं जिन्हें सरकारों ने दर्ज तक नहीं किया है।



Source link

इसे भी पढ़ें

सावधान! Google कर रहा है आपकी जासूसी, चेक कर लें नहीं तो हो सकता है नुकसान

हाइलाइट्स:Google चोरी-छिपे आपकी जासूसी भी करता हैGoogle यूजर के ब्राउजिंग पैटर्न की जानकारी इकट्ठा करता हैजानें FLoC के जरिए कैसे लोगों की जासूसी...
- Advertisement -

Latest Articles

सावधान! Google कर रहा है आपकी जासूसी, चेक कर लें नहीं तो हो सकता है नुकसान

हाइलाइट्स:Google चोरी-छिपे आपकी जासूसी भी करता हैGoogle यूजर के ब्राउजिंग पैटर्न की जानकारी इकट्ठा करता हैजानें FLoC के जरिए कैसे लोगों की जासूसी...

Hero Destini को अब स्मार्टफोन से कनेक्ट कर सकेंगे ग्राहक, शामिल हुआ Hero Connect फीचर

नई दिल्ली।हीरो मोटोकॉर्प (Hero MotoCorp) ने अपने Hero Destini में Hero Connect फीचर शामिल कर दिया है। ऐसे में जो ग्राहक इस सर्विस...