Saturday, December 5, 2020

वुहान नहीं इटली से सबसे पहले फैला था कोरोना वायरस, चीनी दावे की वैज्ञानिक ने निकाली हवा

- Advertisement -


पेइचिंग
चीन ने दावा किया है कि कोविड-19 के स्रोत को पता लगाने के लिए किए गए एक अध्‍ययन में यह सामने आया है कि कोरोना वायरस पिछले साल वुहान शहर में फैलने से पहले इटली में फैल चुका था। इससे यह आरोप बेबुनियाद साबित हुआ है कि कोरोना वायरस वुहान से फैला था। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता झाओ ल‍िलिआन ने कहा कि इस अध्‍ययन में यह भी पता चला है कि वायरस के स्रोत का सवाल एक ‘जटिल प्रश्‍न’ और यह संभवत: कई देशों में विकसित हुआ।

उधर, चीनी प्रवक्‍ता के इस दावे को कोरोना अध्‍ययन से जुड़े वैज्ञानिकों ने ही खारिज कर दिया है। अध्‍ययन में शामिल वैज्ञानिक गिओवन्‍नी अपोलोने ने कहा कि उनके शोध में चीन से कोरोना वायरस फैलने की संभावना को खारिज नहीं किया गया है। उन्‍होंने कहा, ‘हम जानते हैं कि चीन ने कोरोना वायरस फैलने की घोषणा करने में देरी की, इसलिए यह नहीं कहा जा सकता है कि वहां पर कब कोरोना वायरस संक्रमण फैलना शुरू हुआ।’

वैज्ञानिक ने कहा कि कोरोना वायरस चुपचाप तरीके से चीन में फैल रहा था और वह भी पहले के अनुमान के कहीं ज्‍यादा समय से पहले से इसका प्रसार हो रहा था। इसके बाद यह उत्‍तरी इटली में आया। उन्‍होंने कहा कि चीन का उत्‍तरी इटली के साथ बहुत घनिष्‍ठ व्‍यवसायिक संबंध है। ऐसा पहली बार नहीं है जब चीनी प्रवक्‍ता ने दूसरे देशों को कोरोना वायरस फैलाने के लिए जिम्‍मेदार ठहराने का प्रयास किया है।

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से अब तक आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक साढे़ पांच करोड़ लोग संक्रमित हुए हैं और 13 लाख लोग मारे गए हैं। इस बीच एक अध्ययन के अनुसार कोविड-19 महामारी के कारण वैश्विक संक्रमणों की वास्तविक संख्या अब तक ज्ञात मामलों की तुलना में छह गुना तक अधिक हो सकती है। ऑस्ट्रेलियाई नेशनल यूनिवर्सिटी (एएनयू) और यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न के शोधकर्ताओं के अनुसार मार्च और अगस्त के दौरान 15 देशों में संक्रमण की दर दर्ज मामलों की तुलना में औसतन 6.2 गुना अधिक थी।

रॉयल सोसायटी ओपन साइंस नामक पत्रिका में प्रकाशित रिपोर्ट के अुनसार ब्रिटेन, फ्रांस, बेल्जियम और इटली में कोरोना वायरस संक्रमण दर ज्ञात मामलों की तुलना में बहुत अधिक है तथा इटली के मामले में तो यह 17 गुना अधिक है। अध्ययन में कहा गया है कि अप्रैल के अंत में 15 देशों के बीच ऑस्ट्रेलिया में संक्रमण का पता लगाने का सबसे अच्छा स्तर था। लेकिन संक्रमण की दर अब भी अगस्त के अंत में आधिकारिक तौर पर बताई गई संख्या की तुलना में पांच गुना अधिक हो सकती है। शोधकर्ताओं ने कहा कि अध्ययन में 11 यूरोपीय देशों के 80 करोड़ से अधिक लोगों की संयुक्त आबादी के साथ-साथ ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, दक्षिण कोरिया और अमेरिका में संक्रमण की सही संख्या का अनुमान लगाया गया है।

अध्ययन के सह-लेखक और एएनयू के प्रफेसर क्वेंटिन ग्राफटन ने कहा कि हमने पाया कि कई देशों में संक्रमण की पुष्टि किए गए मामलों की तुलना में संक्रमण बहुत अधिक है। यह संक्रमण पर नियंत्रण और अनुमान दोनों के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने उदाहरण के लिए ब्रिटेन का जिक्र किया और कहा कि हमारे विश्लेषण में ब्रिटेन में 54 लाख से अधिक लोग यानी आठ प्रतिशत आबादी कोरोना वायरस से संक्रमित है या पहले संक्रमित हो चुकी है।



Source link

इसे भी पढ़ें

किसान आंदोलन के समर्थन में 36 ब्रिटिश सांसद, भारत पर दबाव बनाने के लिए लिखी चिट्ठी

हाइलाइट्स:भारत के किसान आंदोलन को 36 ब्रिटिश सांसदों ने दिया समर्थनब्रिटिश विदेश सचिव को लिखी चिट्ठी, भारत से बात करने की अपील कीबोले-...

Aus vs Ind: कनकशन विवाद पर बोले सहवाग, 24 घंटे बाद तक भी दिखते हैं लक्षण, भारत ने कुछ भी गलत नहीं किया

नयी दिल्लीपूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि भारतीय टीम रविंद्र जडेजा के कनकशन विकल्प को लेने में बिलकुल सही थी...
- Advertisement -

Latest Articles

किसान आंदोलन के समर्थन में 36 ब्रिटिश सांसद, भारत पर दबाव बनाने के लिए लिखी चिट्ठी

हाइलाइट्स:भारत के किसान आंदोलन को 36 ब्रिटिश सांसदों ने दिया समर्थनब्रिटिश विदेश सचिव को लिखी चिट्ठी, भारत से बात करने की अपील कीबोले-...

Aus vs Ind: कनकशन विवाद पर बोले सहवाग, 24 घंटे बाद तक भी दिखते हैं लक्षण, भारत ने कुछ भी गलत नहीं किया

नयी दिल्लीपूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि भारतीय टीम रविंद्र जडेजा के कनकशन विकल्प को लेने में बिलकुल सही थी...

एर्दोगन ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रों को बताया ‘मुसीबत’, बोले- उनसे जल्द छुटकारा पा लेगा फ्रांस

अंकारामुस्लिम देशों के खलीफा बनने की कोशिश कर रहे तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैय्यप एर्दोगन फ्रांस के खिलाफ लगातार जहर उगल रहे हैं।...