Wednesday, November 25, 2020

हॉन्‍ग कॉन्‍ग पर घिरे चीन ने अमेरिका समेत पश्चिमी देशों को दी धमकी, ‘आंखें फोड़कर कर देंगे अंधा’

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • चीन ने अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्‍ट्रेलिया, न्‍यूजीलैंड और कनाडा को ‘आंखें’ निकाल लेने की धमकी दी है
  • इन देशों ने चीन के विरोधियों को हॉन्‍ग कॉन्‍ग में सांसद नहीं चुने जाने के नए नियम की आलोचना की थी
  • अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्‍ट्रेलिया, न्‍यूजीलैंड और कनाडा ने चीन से कहा है कि वह अपने नियमों को वापस ले

पेइचिंग
हॉन्‍ग कॉन्‍ग के मुद्दे पर आलोचना करने भड़के चीन ने अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्‍ट्रेलिया, न्‍यूजीलैंड और कनाडा को ‘आंखें’ निकाल लेने की धमकी दी है। इन पांचों ही पश्चिमी देशों ने चीन के विरोधियों को हॉन्‍ग कॉन्‍ग में सांसद नहीं चुने जाने के लिए नए नियम बनाने की आलोचना करने के लिए ‘फाइव आइज’ गठबंधन बनाया है। अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्‍ट्रेलिया, न्‍यूजीलैंड और कनाडा ने चीन से कहा है कि वह अपने नए नियमों को वापस ले।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता झाओ लिजिआन ने पश्चिमी देशों को चेतावनी दी कि वे चीन के मामलों से दूर रहें। चीनी विदेश मं‍त्रालय के वुल्‍फ वॉरियर कहे जाने वाले लिजिआन ने कहा, ‘पश्चिमी देशों को सतर्क रहना चाहिए अन्‍यथा उनकी आंखों को निकाल लिया जाएगा।’ चीनी प्रवक्‍ता ने कहा, ‘चीन कभी कोई परेशानी नहीं खड़ा करता है और न ही किसी चीज से डरता है।’

‘फाइव आइज की आंखों को फोड़कर अंधा किया जा सकता है’

चीनी प्रवक्‍ता ने कहा कि पश्चिमी देशों को इस ‘सच्चाई को स्वीकार करना चाहिए’ कि चीन पूर्व ब्रिटिश कॉलोनी हॉन्‍ग कॉन्‍ग को वापस पा चुका है। अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्‍ट्रेलिया, न्‍यूजीलैंड और कनाडा ने आपस में खुफिया साझेदारी कर रखी है, जिसे ‘फाइव आइज़’ यानी पांच आंखें कहा जाता है। लिजिआन ने कहा, ‘उनकी पांच आखें हैं या दस, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। अगर वे चीन की संप्रभुता, सुरक्षा और विकास संबंधी हितों को नुकसान पहुंचाने की हिमाकत करते हैं तो उन्हें अपनी आंखों को लेकर सावधान रहना चाहिए जिन्हें फोड़कर उन्हें अंधा किया जा सकता है।’

गौरतलब है कि पांचों देशों के विदेश मंत्रियों ने कहा है कि हांगकांग के लोकतंत्र समर्थक चार सांसदों को अयोग्य करार देने से संबंधित चीन सरकार का नया प्रस्ताव ‘सभी आलोचकों की आवाज दबाने के सोचे-समझे अभियान’ का हिस्सा प्रतीत होता है। इन देशों के संयुक्त बयान में प्रस्ताव को चीन की अंतरराष्ट्रीय बाध्यताओं और हांगकांग को उच्चस्तरीय स्वायत्तता तथा अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता प्रदान करने के उसके वादे का उल्लंघन बताया गया है। ब्रिटेन ने लगभग 75 लाख की आबादी वाले हांगकांग शहर को 1997 में एक समझौते के तहत चीन को वापस सौंप दिया था, लेकिन समझौते में शर्त रखी गई थी कि 50 वर्ष बाद स्थानीय मामलों में हांगकांग को स्वायत्ता प्रदान की जाएगी।



Source link

इसे भी पढ़ें

Datsun कारों पर धमाकेदार इयर एंड डिस्काउंट, 51,000 रुपये तक की बचत

नई दिल्ली Datsun India ने अपनी कारों पर स्पेशल इयर एंड ऑफर्स की घोषणा की है। यह डिस्काउंट कंपनी की BS6 कंप्लायंट कारों...

iPhone 12 Pro और 12 Pro Max की उम्मीद से ज्यादा डिमांड, खूब बिक रहे हैं प्रीमियम डिवाइस

नई दिल्लीप्रीमियम टेक ब्रैंड ऐपल की ओर से पिछले महीने लेटेस्ट iPhone 12 लाइनअप अनाउंस किया गया है और इसके डिवाइसेज की सेल...
- Advertisement -

Latest Articles

Datsun कारों पर धमाकेदार इयर एंड डिस्काउंट, 51,000 रुपये तक की बचत

नई दिल्ली Datsun India ने अपनी कारों पर स्पेशल इयर एंड ऑफर्स की घोषणा की है। यह डिस्काउंट कंपनी की BS6 कंप्लायंट कारों...

iPhone 12 Pro और 12 Pro Max की उम्मीद से ज्यादा डिमांड, खूब बिक रहे हैं प्रीमियम डिवाइस

नई दिल्लीप्रीमियम टेक ब्रैंड ऐपल की ओर से पिछले महीने लेटेस्ट iPhone 12 लाइनअप अनाउंस किया गया है और इसके डिवाइसेज की सेल...

ऑस्कर के लिए मलयालम फिल्म ‘जलीकट्टू’ है भारत की ऑफिशल एंट्री

हर साल ऑस्कर में इंटरनैशनल फीचर फिल्म या विदेशी भाषा की फिल्म कैटिगरी के लिए अलग-अलग देशों से फिल्में भेजी जाती हैं। भारत...