Thursday, March 4, 2021

Brazil COVID Variant: ब्राजील में मिला कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन तीन गुना ज्यादा संक्रामक, जानें किससे-कितना खतरा…

- Advertisement -


ब्राजील के ऐमजॉन में पाया गया कोरोना वायरस का वेरियंट तीन गुना ज्यादा संक्रामक हो सकता है। हालांकि, शुरुआती अनैलेसिस में संकेत मिले हैं कि इसके खिलाफ वैक्सीन कारगर हैं। देश के स्वास्थ्य मंत्री ने इस बारे में जानकारी दी है लेकिन उन्होंने इस दावे का आधार नहीं बताया है। स्वास्थ्य मंत्री एडवर्डो पाजुएलो के मुताबिक पिछले कुछ महीने में वायरस इन्फेक्शन के मामले बढ़े हैं लेकिन अब ये नियंत्रण में हैं। उनका कहना है कि देश की आधी आबादी को जून तक वैक्सिनेट करा लिया जाएगा और बाकी आबादी को साल के अंत तक।

‘अब भी असरदार वैक्सीन’

एडवर्डो के मुताबिक वायरस के नए स्ट्रेन के खिलाफ कोरोना वायरस की वैक्सीनें कारगर हैं लेकिन उन्होंने नहीं बताया कि यह किस जांच में पाया गया है। वहीं, साओ पॉलो के बूटानटान संस्थान के मुताबिक चीनी वैक्सीन को नए स्ट्रेन पर टेस्ट किया जा रहा है लेकिन नतीजे दो हफ्ते से पहले नहीं मिलेंगे। वहीं, रियो डि जेनेरो के Fiocruz बायोमेडिकल सेंटर ने ऑक्सफर्ड की वैक्सीन का वायरस पर असर टेस्ट शुरू कर दिया गया है और सैंपल ऑक्सफर्ड भेजे गए हैं और अभी नतीजों का इंतजार किया जा रहा है।

ब्रिटेन

ब्रिटेन में दिसंबर में नए वेरियंट के तेजी से फैलने से लोगों में डर बैठ गया था और क्रिसमस-न्यू इयर का जश्न फीका हो गया था। B.1.1.7 नाम का यह वेरियंट कई म्यूटेशन के बाद निकला है और यह ज्यादा तेजी से आसानी के साथ फैलता है। जनवरी में एक्सपर्ट्स ने आशंका जताई थी कि दूसरे वायरसों की तुलना में इससे मौत का खतरा बढ़ सकता है। हालांकि, इसे लेकर कोई पुष्टि नहीं की जा सकी। यह अब तक कई देशों में पाया जा चुका है। वहीं ब्रिटेन के जेनेटिक सर्विलांस प्रोग्राम की प्रमुख शेरॉन पीकॉक का कहना है कि एक नए वेरियंट की चपेट में पूरी दुनिया आ सकती है।

दक्षिण अफ्रीका

दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस का दूसरा वेरियंट B.1.351 पाया गया था और इसमें ब्रिटेन के वेरियंट से कई समानताएं थीं। अमेरिका में यह जनवरी के आखिर में पाया गया। इसमें एक म्यूटेशन N501Y है जो इसे ज्यादा संक्रामक बनाता है। वहीं, एक और म्यूटेशन E484K की वजह से यह संक्रमित व्यक्ति के शरीर के इम्यून सिस्टम से बच जाता है। इस वजह से कोरोना वायरस वैक्सीन का असर भी कम हो सकता है। हालांकि, इसे लेकर टेस्टिंग जारी है।

वैक्सीन पर क्या असर?

चिंताजनक बात यह है कि कई वैक्सीनों का इन नए स्ट्रेन पर असर कम दिखाई दे रहा है। इसके बाद ऑक्सफर्ड-AstraZeneca ने वैक्सीन में बदलाव की बात कही है जबकि जॉनसन ऐंड जॉनसन और नोवावैक्स ने भी बताया है कि उनकी वैक्सीनें नए स्ट्रेन के खिलाफ असरदार नहीं हैं। इसी तरह मॉडर्ना नए वेरियंट के लिए बूस्टर शॉट तैयार कर रही हैं जबकि Pfizer-BioNTech की वैक्सीन भी कम असरदार मिली है।



Source link

इसे भी पढ़ें

499 रुपये के मंथली खर्च में 300Mbps की सुपरफास्ट स्पीड वाला प्लान, ऐसे होगी 4,800 रुपये की बचत भी

हाइलाइट्स:500 रुपये से कम में उठाएं 300Mbps की सुपरफास्ट स्पीड का मजासुपरफास्ट स्पीड वाले इस प्लान के साथ कर सकते हैं 4,800 रुपये...
- Advertisement -

Latest Articles

499 रुपये के मंथली खर्च में 300Mbps की सुपरफास्ट स्पीड वाला प्लान, ऐसे होगी 4,800 रुपये की बचत भी

हाइलाइट्स:500 रुपये से कम में उठाएं 300Mbps की सुपरफास्ट स्पीड का मजासुपरफास्ट स्पीड वाले इस प्लान के साथ कर सकते हैं 4,800 रुपये...