Thursday, May 13, 2021

Explained: पाकिस्तान में पुलिस-प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प में 7 की मौत, सैकड़ों घायल, समझिए क्यों हैं गृह युद्ध जैसे हालात

- Advertisement -


इस्लामाबाद/लाहौर
पिछले 3 दिनों से पाकिस्तान की सड़कों पर एक इस्लामिक कट्टरपंथी पार्टी के समर्थक तांडव मचाए हुए हैं। सड़कें जैसे जंग का मैदान बन गई हैं। सबसे बुरा हाल लाहौर का है। हजारों की तादाद में प्रदर्शनकारी सड़कों पर डटे हैं। पुलिस और सुरक्षा बलों की इस्लामिक कट्टरपंथियों के बीच झड़पों में 7 लोगों की मौत हो चुकी है। ये आंकड़ा बहुत ज्यादा भी हो सकता है क्योंकि सोशल मीडिया पर कई अपुष्ट वीडियो सामने आ रहे हैं जिसमें पाकिस्तानी सेना प्रदर्शनकारियों के ऊपर सैन्य वाहन चढ़ाती दिख रही है। ट्विटर पर #CivilWarinPakistan ट्रेंड कर रहा है। 2 पुलिसकर्मी भी मारे गए हैं, 300 से ज्यादा जख्मी हैं। आइए समझते हैं कि आखिर क्यों मचा है पाकिस्तान की सड़कों पर गदर।

मजहबी कट्टरता और आतंकवाद के जिस दैत्य को पाकिस्तान अपने वजूद में आने के बाद से ही पालता-पोसता आया है, वह अब भस्मासुर की तरह उसे ही झुलसा रहा है। सड़कों पर गृह युद्ध जैसे हालात हैं। इसकी असली वजह समझने के लिए पाकिस्तान के मजहबी कट्टरपंथ और आतंकवाद के खेल को संक्षेप में समझना जरूरी है। अपने वजूद में आने के बाद से ही पाकिस्तान इस्लामिक कट्टरता को सींचता रहा। उससे भी आगे बढ़कर भारत के खिलाफ आतंकवाद का इस्तेमाल किया जो अब भी जारी है। अब उसके बोए ये बीज बिष बेल में तब्दील हो चुके हैं। कभी-कभी ये विष बेल उसे भी जकड़ लेती है। थोड़ी सी छटपटाहट के बाद जैसे ही वह इनकी जकड़ से निकलता है फिर से वही खतरनाक खेल शुरू कर देता है।

अपने ही उगाए जहर का स्वाद चख रहा पाकिस्तान
पाकिस्तान अपने ही उगाए जहर का स्वाद चख रहा है फिर भी शायद ही वह सबक ले क्योंकि उसकी फितरत ही मजहबी कट्टरता और आतंकवाद को टूल के तौर पर इस्तेमाल करने की है। अगर सुधरना होता तो 2014 में पेशावर के स्कूल में आतंकी हमले में हुए बालसंहार के बाद आतंकवाद को समर्थन देना बंद कर दिया होता लेकिन जो सुधर जाए वह पाकिस्तान कैसा। अंतरराष्ट्रीय समुदाय की आंखों में धूल झोंकने और खुद को FATF की तरफ से ब्लैकलिस्ट किए जाने से बचने के लिए पाकिस्तान समय-समय पर आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई का ढोंग करता रहा है। उसकी इन हरकतों से मजहबी कट्टरपंथी तत्वों का हौसला लगातार बढ़ता रहा है। इस बार भी वही मजहबी कट्टरपंथी पाकिस्तान सरकार की ईंट से ईंट बजा रहे हैं।

Pakistan Protest : पाकिस्तान के कई शहरों में हिंसा, भारतीय सिख श्रद्धालुओं की सुरक्षा पर बोले विदेश मंत्री जयशंकर- लगातार संपर्क में हैं

Lahore1

क्या है मामला
पाकिस्तान में मौजूदा गदर के केंद्र में फ्रांस की पत्रिका में पिछले साल पैगंबर मोहम्मद के छपे विवादित कार्टून हैं। कट्टरपंथी इस्लामिक पार्टी तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (TLP) ने इमरान सरकार को फ्रांस के राजदूत को तत्काल वापस भेजे जाने के लिए 20 अप्रैल की डेडलाइन दी थी। ऐसा नहीं होने पर 20 अप्रैल से देशभर में उग्र प्रदर्शन की चेतावनी दी थी। लेकिन उससे पहले ही सोमवार को TLP के मुखिया मौलाना साद हुसैन रिजवी को गिरफ्तार कर लिया गया। उसकी गिरफ्तारी से उसके समर्थक भड़क गए और सड़कों पर उतर गए। जगह-जगह पथराव, तोड़फोड़ और आगजनी करने लगे। सेना, पुलिस और सुरक्षा बलों के साथ प्रदर्शनकारियों की हिंसक झड़पें होने लगी।

इसी बीच बुधवार को पाकिस्तान सरकार ने तहरीक-ए-लब्बैक को आतंकवाद रोधी कानून के तहत प्रतिबंधित करने का ऐलान कर दिया। गृह मंत्री शेख राशिद ने पत्रकारों से कहा कि तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) को 1997 के आतंकवाद रोधी अधिनियम के नियम 11-बी के तहत प्रतिबंधित किया जा रहा है।उन्होंने कहा, ‘मैंने टीएलपी पर प्रतिबंध लगाने के लिये पंजाब सरकार की तरफ से भेजे गए प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।’ इस ऐलान के बाद कट्टरपंथी इस्लामी संगठन के कार्यकर्ता और भड़क गए हैं। दूसरी तरफ सेना और पुलिस भी बलपूर्वक उनके दमन में लग गई हैं।

Smoke

मजहबी कट्टरपंथियों को खुश करने के लिए इमरान सरकार ने किया था समझौता
आज तहरीक-ए-लब्बैक के खिलाफ प्रतिबंध का पैंतरा खेलने वाली पाकिस्तान की इमरान सरकार ने इसी के सामने पिछले साल घुटने टेके थे। फ्रांस की एक पत्रिका में मुहम्मद साहब के विवादित कार्टून छपे थे। इसके खिलाफ टीएलपी ने नवंबर में जबरदस्त विरोध-प्रदर्शन किया था। उसने मांग की कि पाकिस्तान से फ्रांसीसी राजदूत को निकाला जाए और फ्रांस से किसी भी चीज के आयात पर रोक लगाई जाए।

इमरान खान सरकार ने तब न सिर्फ फ्रांसीसी राजदूत को निकालने की हामी भरी बल्कि मौलाना साद हुसैन रिजवी के साथ बाकायदे एक करार पर दस्तखत भी किए गए। आश्वासन दिया गया कि फरवरी 2021 तक राजदूत को निकाल दिया जाएगा। इसके बाद विरोध-प्रदर्शन शांत हो गया। मामला ठंडा पड़ने के बाद समझौते को 20 अप्रैल तक बढ़ा दिया गया। आखिरकार तहरीक-ए-लब्बैक ने इमरान खान सरकार को चेतावनी दे दी कि वह 20 अप्रैल तक इंतजार करेगी, अगर तब तक फ्रांसीसी राजदूत को नहीं निष्कासित किया गया तो वह देशभर में फिर से प्रदर्शन करेगी। पाकिस्तान सरकार को लगा कि अगर मौलाना साद रिजवी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा तो टीएलपी का प्रस्तावित विरोध-प्रदर्शन कमजोर पड़ जाएगा। 12 अप्रैल को मौलाना को गिरफ्तार कर लिया गया लेकिन इसके बाद जगह-जगह बड़ी तादाद में टीएलपी के कार्यकर्ता सड़कों पर उतर गए।

कौन हैं मौलाना साद हुसैन रिजवी और तहरीक-ए-लब्बैक
साद रिजवी एक कट्टरपंथी मौलाना है। वह खादिम हुसैन रिजवी का बेटा है, जिसकी कुछ महीने पहले रहस्यमय हालात में मौत हो गई। खादिम हुसैन रिजवी वही मौलाना था जिसने 2017 में इस्लामाबाद शहर की कई दिनों तक नाकेबंदी की थी। उसके समर्थकों ने इस्लामाबाद के पास फैसलाबाद चौराहे पर तीन सप्ताह तक विशाल विरोध-प्रदर्शन किया था। तत्कालीन सरकार की तरफ से कानून मंत्री को हटाए जाने के बाद टीएलपी ने शहर से लॉकडाउन हटाया था। उसी वक्त पहली बार तहरीक-ए-लब्बैक चर्चा में आई थी। 2018 के आम चुनाव में तहरीक-ए-लब्बैक ने 25 लाख वोट हासिल किए थे।



Source link

इसे भी पढ़ें

Mithali Raj Ramesh Powar Controversy: रमेश पोवार फिर बने कोच, कभी मिताली राज ने लगाया था करियर खत्म करने का आरोप

नई दिल्लीपूर्व स्पिनर रमेश पोवार को गुरुवार को डब्ल्यू वी रमन की जगह भारतीय महिला क्रिकेट टीम का मुख्य कोच नियुक्त किया गया।...

लॉन्च से पहले Samsung Galaxy A22s 5G की स्पेसिफिकेशन डीटेल लीक, दाम हो सकते हैं कम

हाइलाइट्स:कम दाम में ज्यादा फीचर्स की संभावनागैलेक्सी ए सीरीज में नया 5जी फोनभारत में 20 हजार रुपये से कम के कई 5जी फोननई...
- Advertisement -

Latest Articles

Mithali Raj Ramesh Powar Controversy: रमेश पोवार फिर बने कोच, कभी मिताली राज ने लगाया था करियर खत्म करने का आरोप

नई दिल्लीपूर्व स्पिनर रमेश पोवार को गुरुवार को डब्ल्यू वी रमन की जगह भारतीय महिला क्रिकेट टीम का मुख्य कोच नियुक्त किया गया।...

लॉन्च से पहले Samsung Galaxy A22s 5G की स्पेसिफिकेशन डीटेल लीक, दाम हो सकते हैं कम

हाइलाइट्स:कम दाम में ज्यादा फीचर्स की संभावनागैलेक्सी ए सीरीज में नया 5जी फोनभारत में 20 हजार रुपये से कम के कई 5जी फोननई...

2021 Ducati Streetfighter V4 भारत में हुई लॉन्च, धांसू इंजन के साथ मिलेगा स्टाइलिश लुक

नई दिल्ली।2021 Ducati Streetfighter V4 भारत में लॉन्च हो गई है। कंपनी की इस फ्लैगशिप नेकेड स्पोर्ट मोटरसाइकिल में ग्राहकों को Streetfighter V4...