Friday, May 7, 2021

Indonesia Submarine: इंडोनेशियाई पनडुब्बी के डूबने का हुआ आधिकारिक ऐलान, 53 नौसैनिकों के मौत की पुष्टि

- Advertisement -


बन्युवांगी
इंडोनेशिया की नौसेना ने अपनी लापता पनडुब्बी के डूबने की घोषणा की है। इस ऐलान के बाद उसमें सवार चालक दल के 53 सदस्यों में से किसी के जिंदा बचे होने की उम्मीद खत्म हो गई है। सेना प्रमुख हादी जाहजंतो ने बताया कि बाली द्वीप के जिस तट पर बुधवार को आखिरी बार पनडुब्बी देखी गई थी, उस स्थान के समीप तेल के साथ-साथ मलबा मिलना इस बात का स्पष्ट सबूत है कि केआरआई नंग्गाला 402 डूब गई।

नौसेना के चीफ ऑफ स्टाफ एडमिरल युदो मारगोनो ने बाली में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘अगर यह विस्फोट होता तो उसके टुकड़े पाए जाते। अगर विस्फोट होता तो सोनार में इसकी आवाज सुनी जाती। नौसेना ने पहले कहा था कि उसे लगता है कि पनडुब्बी 600-700 मीटर की गहराई तक डूब गई। मारगोनो ने कहा कि प्रमाणिक सबूत मिलने से अब हमें लगता है कि पनडुब्बी डूब गई। उन्होंने बताया कि अब तक कोई शव नहीं मिला है।

पनडुब्बी में तीन दिन की ऑक्सिजन बचा था
इस पनडुब्बी की खोज में जहाजों से लेकर विमान और सैकड़ों सैन्यकर्मी लगे थे। हालांकि, इसमें ऊर्जा जाने के बाद सिर्फ तीन दिन की ऑक्सिजन बची थी जिसका समय शनिवार को खत्म हो गया। नौसेना प्रमुख युदो मार्गोनो ने बताया कि अब इस पनडुब्बी को डूबा हुआ माना जा रहा है। उन्होंने साफ किया कि जो सामान मिला है, वह किसी और जहाज का नहीं है।

ज्यादा दबाव नहीं झेल सकी
यह पनडुब्बी बुधवार को एक अभ्यास के दौरान गायब हो गई थी। जिस जगह पर इसके डूबने की आशंका जताई गई थी, वहां तेल फैला हुआ था। इससे अंदाजा लगाया गया कि ईंधन के टैंक को नुकसान के कारण इसके साथ घातक हादसा हुआ है। यह 700 मीटर की गहराई तक का दबाव झेल सकती थी और उसके नीचे जाने पर इसके फटने का खतरा था। इसकी ओर से डाइव की इजाजत मांगी गई थी लेकिन उसके बाद इससे संपर्क टूट गया।


इंडोनेशिया ने जर्मनी से खरीदी थी यह पनडुब्बी
केआरआई नानग्गला 402 एक जर्मन पनडुब्बी है, जिसे इंडोनेशियाई नौसेना में 1981 में कमीशन किया गया था। यह पनडुब्बी गुरुवार को होने वाले मिसाइल फायरिंग युद्धाभ्यास के लिए तैयारियां कर रही थी। इस युद्धाभ्यास को दौरान सैन्य प्रमुख हादी जाहजंतो सहित कई दूसरे सैन्य अधिकारी हिस्सा लेने वाले थे। रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि पनडुब्बी को गोता लगाने की मंजूरी दी गई थी और इसके बाद से उससे संपर्क नहीं हो पाया।



Source link

इसे भी पढ़ें

साली ने जीजा से पूछा मजेदार सवाल

साली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं?नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:May 7, 2021, 06:00AM ISTसाली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं? जीजा...
- Advertisement -

Latest Articles

साली ने जीजा से पूछा मजेदार सवाल

साली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं?नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:May 7, 2021, 06:00AM ISTसाली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं? जीजा...

जिंदगी की जंग: 1980 ओलंपिक में स्वर्ण पदक विजेता हॉकी टीम के दो खिलाड़ियों की हालत गंभीर

नई दिल्ली1980 मॉस्को ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली हॉकी टीम के दो खिलाड़ी महाराज कृष्ण कौशिक और रवींद्र पाल सिंह कोरोना वायरस...