Tuesday, March 2, 2021

Pfizer Vaccine News: इजरायल के शोध से खुलासा, फाइजर की वैक्‍सीन ने 99 फीसदी रोका कोरोना वायरस का कहर

- Advertisement -


यरूशलम
कोरोना वायरस से जूझ रही दुनिया के लिए इजरायल से बहुत अच्‍छी खबर है। इजरायल में फाइजर की कोरोना वायरस वैक्‍सीन ने बहुत बड़े पैमाने पर कोरोना के संक्रमण को रोक दिया है। इसके साथ ही दुनिया को पहली बार ऐसा वास्‍तविक आंकड़ा मिला है कि जिससे यह संकेत मिलता है कि टीकाकरण कोरोना के संक्रमण को रोकने में सक्षम साबित हुआ है।

इजरायल में 20 दिसंबर को फाइजर की वैक्‍सीन के जरिए राष्‍ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम शुरू हुआ था जो लैब में करीब 89.4 प्रतिशत प्रभावी रहा था। इन कंपनियों ने इजरायल के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के साथ प्रारंभ‍िक विश्‍लेषण किया था। कुछ वैज्ञानिकों ने इसकी शुद्धता पर सवाल उठाया था। दुनिया में औसतन सबसे ज्‍यादा कोरोना वायरस वैक्‍सीन लगाने वाले इजरायल से अब सकारात्‍मक आंकड़े सामने आए हैं।

वैक्‍सीन वायरस से मौतों को रोकने में 99 फीसदी प्रभावी रही
इजरायल में आधी आबादी को कम से कम कोरोना वायरस वैक्‍सीन की एक डोज मिल गई है। इजरायल के अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि फाइजर की कोरोना वैक्‍सीन वायरस से मौतों को रोकने में 99 फीसदी प्रभावी रही है। अगर यह सही है तो यह आंकड़े बहुत उत्‍साह बढ़ाने वाले हैं क्‍योंकि यह वैक्‍सीन अब एसिम्‍प्‍टोमेटिक लोगों को कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने में प्रभावी पाई गई है।

सिडनी की प्रफेसर रैना मैकइंट्रे ने कहा, ‘ये वे आंकड़े हैं जिसकी हमें वैक्‍सीन की मदद से हर्ड इम्‍युनिटी का अनुमान लगाने के लिए जरूरत थी।’ फाइजर ने कहा है कि वह इजरायल की मदद से वास्‍तविक आंकड़े हासिल करने पर काम कर रही है। उसने कहा कि जब यह पूरा होगा तब इसे जारी किया जाएगा। ब्लूमबर्ग के वैक्सीन कैलकुलेटर के मुताबिक, उसकी गणना बताती है कि कोरोनावायरस के खात्मे में अभी सात साल का समय और लग सकता है।

75 पर्सेंट आबादी को टीका लगने का मतलब हर्ड इम्यूनिटी
इस गणना में टीकाकरण की रफ्तार को आधार बनाया गया है। यानी जिस तेजी से दुनियाभर में टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है, उसके मुताबिक सभी देशों को अपनी 75 फीसदी आबादी को टीका लगाने में सात साल का वक्त लग जाएगा। आपको बता दें कि 75 पर्सेंट आबादी को टीका लगने का मतलब हर्ड इम्यूनिटी तक पहुंच जाना है। ऐसा होने पर वायरस का फैलाव रुक जाता है। रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया में रोजाना 40 लाख से ज्यादा लोगों को टीका लगाया जा रहा है।



Source link

इसे भी पढ़ें

Yesterday and Tomorrow Islands: 3 मील दूर दो टापू, फिर भी वक्त में 21 घंटे का अंतर कैसे?

मॉस्को/वॉशिंगटनबिग डायोमीड और लिटिल डायोमीड नाम के दो टापू एक-दूसरे से सिर्फ तीन मील दूर हैं लेकिन इनके बीच आती है प्रशांत महासागर...

Cheteshwar Pujara vs off Spin: ऑफ स्पिन का तोड़ नहीं निकाल पा रहे चेतेश्वर पुजारा, जानिए कितना लंबा है संघर्ष

हाइलाइट्स:मिडल ऑर्डर के दिग्गज बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ऑफ स्पिन के आगे संघर्ष करते दिख रहे हैंदेखा जाए तो उनकी यह कमी रणजी ट्रोफी...
- Advertisement -

Latest Articles

Yesterday and Tomorrow Islands: 3 मील दूर दो टापू, फिर भी वक्त में 21 घंटे का अंतर कैसे?

मॉस्को/वॉशिंगटनबिग डायोमीड और लिटिल डायोमीड नाम के दो टापू एक-दूसरे से सिर्फ तीन मील दूर हैं लेकिन इनके बीच आती है प्रशांत महासागर...

Cheteshwar Pujara vs off Spin: ऑफ स्पिन का तोड़ नहीं निकाल पा रहे चेतेश्वर पुजारा, जानिए कितना लंबा है संघर्ष

हाइलाइट्स:मिडल ऑर्डर के दिग्गज बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ऑफ स्पिन के आगे संघर्ष करते दिख रहे हैंदेखा जाए तो उनकी यह कमी रणजी ट्रोफी...

Tandav Controversy: ऐमजॉन प्राइम वीडियो ने मांगी माफी, कहा- भावनाओं को ठेस पहुंचाने का नहीं था इरादा

ओटीटी प्लेटफॉर्म ऐमजॉन प्राइम वीडियो ने अपनी विवादित वेब सीरीज 'तांडव' को लेकर माफीनामा जारी किया है। माफीनामे में कहा गया है कि...

सीरिया को सुरक्षित बताकर शरणार्थी लौटा रहा डेनमार्क, यूरोप में सबसे पहले उठाया कदम

कॉपेनहेगनडेनमार्क ने युद्धग्रस्त सीरिया से आए शरणार्थियों को वापस भेजना शुरू कर दिया है। सरकार का कहना है कि अब उनके लौटने के...