Wednesday, June 16, 2021

South China Sea: चीनी वायुसेना के 16 विमानों के जवाब में मलेशिया ने दौड़ाए फाइटर जेट

- Advertisement -


कुआलालंपुर
चीन और मलेशिया के बीच एयरस्पेस में घुसपैठ को लेकर तनाव जैसी स्थिति बनती दिखी है। मलेशिया ने सोमवार को चीनी एयरफोर्स ट्रांसपोर्ट विमानों को इंटरसेप्ट करने के बाद अपने फाइटर जेट दौड़ा दिया। इसके बाद चीन ने बुधवार को सफाई दी है कि उसके विमान रूटीन ट्रेनिंग कर थे। ये वाकया दक्षिण चीन सागर में बॉर्नियो के ऊपर का है जहां दोनों देशों के बीच दावे को लेकर विवाद है।

चीन ने बताया रूटीन ट्रेनिंग
मलेशिया के विदेश मंत्री ने आरोप लगाया कि चीन के 16 विमानों ने घुसपैठ की थी। उन्होंने कहा कि सरकार चीन के पास शिकायत दर्ज कराएगी और चीनी राजदूत को समन करेगी। हालांकि, कुआलालंपुर में चीनी दूतावास के प्रवक्ता ने कहा कि ये गतिविधियां चीनी एयरफोर्स की रूटीन फ्लाइट का हिस्सा थीं और इनके जरिए किसी देश को टार्गेट नहीं किया गया था। उन्होंने कहा, ‘संबंधित अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत चीनी सैन्य एयरक्राफ्ट संबंधित एयरस्पेस में उड़ान भरने के लिए आजाद हैं।’ प्रवक्ता ने आगे कहा कि ये विमान किसी देश के एयरस्पेस में दाखिल नहीं हुए थे।


मलेशिया के विदेश मंत्री के आरोप
मलेशिया की वायुसेना के मुताबिक बॉर्नियो के मलेशियाई हिस्से के 60 नॉटिकल मील के करीब ये विमान पहुंचे थे और इन्होंने संपर्क किए जाने की कोशिशों का कोई जवाब भी नहीं दिया था। इस पर मलेशिया ने अपने फाइटर जेट भेजे। मलेशिया के एयरस्पेस में दाखिल होने से पहले ये विमान वापस चले गए। वहीं, देश के विदेश मंत्री हिशम्मुद्दीन हुसैन का कहना है कि ये विमान देश के मैरीटाइम जोन में आए थे और इसे मलेशिया की एयरस्पेस और प्रभुत्व का उल्लंघन बताया।


दक्षिण चीन सागर में विवाद
दक्षिण चीन सागर को लेकर अकेला ऐसा देश नहीं है जिसका चीन से विवाद है। कई देशों और टापुओं को लेकर चीन ने सैन्य तनाव का माहौल बना रखा है। अभी तक मलेशिया के साथ संबंधों में ज्यादा तल्खी नहीं देखी गई थी। वियतनाम, फिलिपींस, ब्रूने और ताइवान के साथ चीन अक्सर टक्कर में रहता है। वहीं, अमेरिका ने भी नैविगेशन की आजादी के अंतरराष्ट्रीय अधिकार को साबित करने के लिए अपने युद्धपोत यहां तैनात कर रखे हैं।

जो बाइडेन ने चीनी राष्‍ट्रपति को पहली बार लगाया फोन, क्या हुई बात?



Source link

इसे भी पढ़ें

Supreme Court News: राज्यों में बोर्ड एग्जाम कैंसल करने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्लीसुप्रीम कोर्ट उस याचिका पर 17 जून को सुनवाई करेगा जिसमें याचिकाकर्ता ने कहा है कि राज्यों के बोर्ड एग्जाम कैंसल किया...
- Advertisement -

Latest Articles

Supreme Court News: राज्यों में बोर्ड एग्जाम कैंसल करने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्लीसुप्रीम कोर्ट उस याचिका पर 17 जून को सुनवाई करेगा जिसमें याचिकाकर्ता ने कहा है कि राज्यों के बोर्ड एग्जाम कैंसल किया...