Monday, March 1, 2021

चलता-फिरता किला है कल्‍याणी M4, IED हो या लैंडमाइन… नहीं होगा किसी धमाके का असर

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • रक्षा मंत्रालय ने भारत फोर्ज लिमिटेड को दिया कल्‍याणी एम4 का ऑर्डर
  • लद्दाख में हो सकती है पहली तैनाती, चलता-फिरता किला है ये वाहन
  • सीधी चढ़ाई हो या ढलान, इसे बेहद आसानी से ऑपरेट कर सकते हैं
  • 50 किलो टीएनटी का विस्‍फोट झेलने में सक्षम, ऐंटी-टैंक माइन बेअसर

नई दिल्‍ली
भारतीय सेना को जल्‍द ही चलता-फिरता किला मिलने वाला है। हैरान मत होइए। कल्‍याणी एम4 ऐसा आर्मर्ड वीकल है जिसपर न तो लैंडमाइन के ब्‍लास्‍ट का असर होगा, न ही बमों का। पूरी तरह विदेश में ही बनने वाला यह आर्मर्ड वीकल 50 किलो टीएनटी विस्‍फोटक से सुरक्षा दे सकता है। सेना को इससे मुश्किल इलाकों तक आसानी से पहुंचने में मदद मिलेगी। रक्षा मंत्रालय ने भारत फोर्ज लिमिटेड को 177.95 करोड़ रुपये का ठेका दिया है ताकि वह कल्‍याणी एम4 सप्‍लाई कर सके। संभावना है कि इन्‍हें सबसे पहले लद्दाख में तैनात किया जाएगा जहां चीन की वजह से हलचल ज्‍यादा तेज है।

क्‍यों चलता-फिरता किला है कल्‍याणी एम4?

  • यह ऐसा बख्‍तरबंद वाहन है जिसमें जोर परफॉर्मेंस और सैनिकों की सुरक्षा पर है।
  • करीब 16 टन वजनी इस वाहन में 2.3 टन वजन लादा जा सकता है। आठ सैनिक बैठ सकते हैं।
  • यह 43 डिग्री के अप्रोच ऐंगल और 44 डिग्री के डीसेंट ऐंगल पर आसानी से चल सकती है।
  • -20 डिग्री से लेकर 50 डिग्री तापमान में लगातार चल सकती है।
  • इसका डिजाइन मोनोकॉक है यानी सबकुछ इसके भीतर है, बाहर कुछ भी नहीं।
  • इसमें लगे शीशे इतने मजबूत हैं कि वे स्‍नाइपर और ऐंटी-मैटीरियल राइफल के फायर को झेल सकते हैं।
  • इसमें छ‍ह सिलिंडर का टर्बाचार्ज्‍ड डीजल इंजन लगा है। भारतीय सेना के पास मौजूद किसी भी वाहन से दोगुना ताकतवर।
  • कल्‍याणी एम4 की टॉप स्‍पीड 140 किलोमीटर प्रतिघंटा है और इसकी रेंज 800 किलोमीटर तक है।
  • इसके भीतर 16 किलोवॉट का एयर कंडीशनिंग सिस्‍टम लगा है।
  • यह वाहन आसानी से मशीन गन का फायर झेल सकती है। 10KG के ऐंटी-टैंक माइन का इसपर कोई असर नहीं होगा।

क्‍यों महसूस हुई ऐसे वीकल की जरूरत?
दो साल पहले, जम्‍मू और कश्‍मीर के पुलवामा में एक आत्‍मघाती हमलावर ने सेंट्रल पैरामिलिट्री रिजर्व फोर्स (CRPF) के काफिले को उड़ा दिया था। उसमें हमारे 40 जवान मार गए। उस आतंकी हमले के बाद एक ऐसे आर्मर्ड वीकल की जरूरत महसूस हुई जिसपर ऐसे धमाकों का कोई असर न हो। यह वीकल न सिर्फ धमाकों से रक्षा करता है, बल्कि स्‍पीड भी जबर्दस्‍त है और इसे मेंटेन करना भी आसान है।



Source link

इसे भी पढ़ें

बजरंग पूनिया ने कहा, ओलिंपिक तक सभी सोशल मीडिया हैंडल बंद कर रहा हूं

नई दिल्लीओलिंपिक की तैयारियों में लगे पहलवान बजरंग पूनिया ने सोमवार को घोषणा की कि वह जुलाई अगस्त में तोक्यो में होने वाले...

वैक्सीन लगाने के 4 दिन बाद किसी की मौत होती है तो टीका जिम्मेदार नहीं, जानें क्या बोले स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन

हाइलाइट्स:स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- वैक्सीनेशन के कुछ दिन बाद होने वाली मौत की होगी साइंटिफिक जांचहाई पावर्ड कमेटी ने माना- कोरोना वैक्सीन से...
- Advertisement -

Latest Articles

बजरंग पूनिया ने कहा, ओलिंपिक तक सभी सोशल मीडिया हैंडल बंद कर रहा हूं

नई दिल्लीओलिंपिक की तैयारियों में लगे पहलवान बजरंग पूनिया ने सोमवार को घोषणा की कि वह जुलाई अगस्त में तोक्यो में होने वाले...

वैक्सीन लगाने के 4 दिन बाद किसी की मौत होती है तो टीका जिम्मेदार नहीं, जानें क्या बोले स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन

हाइलाइट्स:स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- वैक्सीनेशन के कुछ दिन बाद होने वाली मौत की होगी साइंटिफिक जांचहाई पावर्ड कमेटी ने माना- कोरोना वैक्सीन से...

कंगना रनौत ने याद किया अपना बचपन तो लोग बोले- तंग आ गए नई कहानियों से

बॉलिवुड ऐक्ट्रेस कंगना रनौत आजकल सोशल मीडिया पर काफी ऐक्टिव रहती हैं। यूं तो कंगना की पोस्ट्स को उनके फैन्स काफी पसंद करते...

Corona Vaccination : बीजेपी के सभी मंत्री और विधायक पैसा देकर लगवाएंगे कोरोना का टीका

हाइलाइट्स:भाजपा के सभी मंत्री, सांसद, विधायक और दूसरे जनप्रतिनिधि पैसा देकर कोरोना का टीका लगवाएंगे आत्मनिर्भर भारत के निर्माण के लिए पीएम मोदी...