Friday, May 7, 2021

जिन इलाकों में संक्रमण दर 10 फीसदी से ज्यादा वहां सख्त लॉकडाउन लगाया जाए: डॉ. गुलेरिया

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • जिन इलाकों में संक्रमण दर 10 फीसदी से ज्यादा वहां सख्त लॉकडाउन लगाया जाए
  • रात्रि कर्फ्यू और सप्ताहांत लॉकडाउन की रणनीति का संक्रमण दर पर ज्यादा प्रभाव नहीं होगा
  • संक्रमण की श्रृंखला तोड़ने के लिए सख्त क्षेत्रीय लॉकडाउन लगाने की आवश्यकता है
  • आजीविका और दिहाड़ी मजदूरों पर प्रभाव को देखते हुए संपूर्ण लॉकडाउन समाधान नहीं हो सकता

नई दिल्ली
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने मंगलवार को कहा कि जिन इलाकों में कोविड-19 मामलों की संक्रमण दर 10 प्रतिशत से ज्यादा या जहां अस्पतालों में 60 प्रतिशत से ज्यादा बिस्तर भर चुके हों वहां सख्त लॉकडाउन लगाया जाना चाहिए। उन्होंने कुछ राज्यों द्वारा कोरोना वायरस मामलों की संख्या कम करने के लिये अपनाई जा रही रात्रि कर्फ्यू और सप्ताहांत लॉकडाउन की रणनीति को खारिज करते हुए कहा कि संक्रमण दर पर इनका ज्यादा प्रभाव नहीं होगा।

गुलेरिया ने कहा कि संक्रमण की श्रृंखला तोड़ने के लिए उन इलाकों में सख्त क्षेत्रीय लॉकडाउन लगाने की आवश्यकता है जहां कोविड-19 मामलों की संक्रमण दर 10 प्रतिशत से ज्यादा है या जहां अस्पतालों में 60 प्रतिशत बिस्तर भर चुके हैं। कोविड-19 कार्यबल भी यही सुझाव दे रहा है। उन्होंने कहा कि यह गृह मंत्रालय के दिशानिर्देश में भी है, लेकिन इसे सख्ती से लागू नहीं किया जा रहा।

सात फेरे लेने जा रहा था दूल्हा, कोविड गाइडलाइंस तोड़ी, पुलिस धर ले गई

कैसे रुकेगा कोरोना का कहर
उन्होंने कहा कि एक बार संक्रमण दर घटने के बाद इन इलाकों में क्रमिक तौर पर चरणबद्ध रूप से ‘अनलॉक’ की प्रक्रिया शुरू की जानी चाहिए। उन्होंने हालांकि इस बात पर भी जोर दिया कि उच्च संक्रमण दर वाले इलाकों से लोगों के कम संक्रमण दर वाले इलाकों में आवाजाही पर रोक लगाई जाए जिससे प्रसार पर अंकुश लग सके।

राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन पर उनके विचार पूछे जाने पर गुलेरिया ने कहा कि लोगों की आजीविका और दिहाड़ी मजदूरों पर इसके प्रभाव को देखते हुए संपूर्ण लॉकडाउन समाधान नहीं हो सकता। कम संक्रमण दर वाले इलाकों में पाबंदियों के साथ दैनिक गतिविधियों की इजाजत दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि कोई भी स्वास्थ्य देखभाल ढांचा इस स्तर पर मामलों का प्रबंधन नहीं कर सकता, इसलिए पर्याप्त समय तक आक्रामक निषेधात्मक उपाय किए जाने चाहिए।

नोएडा के बरौला गांव की झुग्गी बस्ती में लगी भीषण आग, कई लोग झुलसे

देश में कोरोना के मामले
गुलेरिया की टिप्पणी ऐसे वक्त आई है जब देश कोविड-19 के गंभीर संकट का सामना कर रहा है और संक्रमण के मामलों व मौतों में बढ़ोतरी हो रही है जबकि अस्पतालों में ऑक्सिजन और बिस्तरों की कमी है। भारत में कोविड-19 संक्रमितों की कुल संख्या दो करोड़ के पार पहुंच चुकी है जबकि 50 लाख से ज्यादा मामले महज बीते 15 दिनों में दर्ज किए गए हैं।



Source link

इसे भी पढ़ें

साली ने जीजा से पूछा मजेदार सवाल

साली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं?नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:May 7, 2021, 06:00AM ISTसाली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं? जीजा...

जिंदगी की जंग: 1980 ओलंपिक में स्वर्ण पदक विजेता हॉकी टीम के दो खिलाड़ियों की हालत गंभीर

नई दिल्ली1980 मॉस्को ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली हॉकी टीम के दो खिलाड़ी महाराज कृष्ण कौशिक और रवींद्र पाल सिंह कोरोना वायरस...
- Advertisement -

Latest Articles

साली ने जीजा से पूछा मजेदार सवाल

साली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं?नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:May 7, 2021, 06:00AM ISTसाली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं? जीजा...

जिंदगी की जंग: 1980 ओलंपिक में स्वर्ण पदक विजेता हॉकी टीम के दो खिलाड़ियों की हालत गंभीर

नई दिल्ली1980 मॉस्को ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली हॉकी टीम के दो खिलाड़ी महाराज कृष्ण कौशिक और रवींद्र पाल सिंह कोरोना वायरस...

कायरन पोलार्ड के लिए खुशखबरी, CPL 2021 में शाहरुख खान की टीम की करते दिखेंगे कप्तानी

नई दिल्लीइंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 2021 सत्र में अपने छक्कों से गेंदबाजों को दहलाने वाले कायरन पोलार्ड (Kieron Pollard) के लिए खुशखबरी...