Sunday, June 13, 2021

दरभंगा के निजी अस्पताल पर एक्शन, मृत कोविड मरीज के परिजनों से ज्यादा चार्ज लेने पर कार्रवाई

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • दरभंगा के अस्पताल का हाल, मृत कोविड मरीज के परिजनों से वसूला ज्यादा चार्ज
  • शिकायत पर डीएम ने जांच के लिए बनाया तीन सदस्यीय पैनल
  • पैनल ने की अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करने की भी सिफारिश
  • मृतक मरीज के परिजनों से अस्पताल करीब 1.12 लाख रुपये ज्यादा वसूले

दरभंगा
कोरोना संकट के बीच कई बार ऐसी खबरें सामने आई हैं जिसमें अस्पतालों पर संक्रमित मरीज के परिजनों से ज्यादा पैसों की वसूली के आरोप लगे। बिहार के दरभंगा में भी ऐसे ही एक मामले को लेकर अस्पताल पर एक्शन लिया गया है। अस्पताल प्रशासन पर एक मृत कोविड मरीज के परिजनों से ज्यादा चार्ज लेने को लेकर कार्रवाई की गई है।

इस संबंध में शिकायत मिलने के बाद जिले के डीएम त्यागराजन एसएम की ओर से तीन सदस्यीय जांच समिति का गठन किया गया, जिसकी रिपोर्ट में मामले की पुष्टि हुई। यही नहीं पैनल ने अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करने की भी सिफारिश की है।

मृत मरीज के परिजनों से अस्पताल ने 1.12 लाख रुपये ज्यादा लिए
पूरा मामला 21 मई का है, जब बहेरी प्रखंड निवासी दिलीप को दरभंगा के पारस ग्लोबल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी। इस बीच अस्पताल प्रशासन ने मृतक दिलीप के पिता अजीत कुमार सिंह से करीब 1.12 लाख रुपये की अतिरिक्त राशि ली। बेटे की मौत से आहत अजीत कुमार सिंह ने अस्पताल प्रशासन के खिलाफ आवाज बुलंद की, जिसके बाद जिलाधिकारी ने तीन सदस्यीय पैनल बनाया।

इसे भी पढ़ें:- बंगाल में जारी हिंसा को लेकर बिहार में उठी आवाज: 25 बुद्धिजीवियों ने राज्यपाल को लिखा पत्र, की ये मांग

डीएम के निर्देश बनी तीन सदस्यीय टीम ने क्या कहा
जांच के बाद इस समिति ने अपनी रिपोर्ट में उल्लेख किया कि कोविड मरीज का तय गाइडलाइंस के अनुसार इलाज नहीं किया गया था और बहुत सारी गैर जरूरी दवाएं भी दी गई थीं। इलाज के दौरान मरीज दिलीप सिंह केवल तीन दिनों के लिए वेंटिलेटर पर थे, लेकिन उनके पिता से नौ दिनों का चार्ज किया गया। उनसे ‘नई पीपीई किट और रोजाना इस्तेमाल वाली दूसरी चीजों’ के लिए पैसे भी मांगे गए।

बिहार में कोरोना वैक्सीन पर कहीं उत्साह तो कहीं इंकार, नालंदा में टीका एक्सप्रेस पर लगे पोस्टर से ‘बड़ा कन्फ्यूजन’

अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करने की भी सिफारिश
पैनल ने जांच में यह भी कहा कि राज्य सरकार की ओर से कोरोना के इलाज में निर्धारित दरों के आधार पर मरीज का मेडिकल बिल 1.18 लाख रुपये से ज्यादा का नहीं होना चाहिए। लेकिन पीड़ित परिवार से 2.30 लाख रुपये वसूले गए। खुद डीएम त्यागराजन एसएम ने बुधवार को इस बात की जानकारी दै। उन्होंने बताया कि अस्पताल को मृतक के परिजनों को 1.12 लाख रुपये लौटाने को कहा गया है। साथ ही अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करने की भी बात कही है।



Source link

इसे भी पढ़ें

खत्म हुआ इंतजार ! अगले महीने लॉन्च हो रही 7 सीटर ‘देसी’ SUV

नई दिल्लीस्वदेशी कार निर्माता कंपनी महिंद्रा ऐंड महिंद्रा (Mahindra & Mahindra) की 7 सीटर एसयूवी Mahindra XUV700 अब टेस्टिंग के आखिरी पेज में...

जल्द भारत आ सकता है एक और ताकतवर स्मार्टफोन Vivo V21e 5G, सामने आए फीचर्स

Vivo V21e 5G Specifications: हैंडसेट निर्माता कंपनी Vivo ने पिछले सप्ताह भारत में अपने लेटेस्ट स्मार्टफोन Vivo Y73 2021 को उतारा था और...
- Advertisement -

Latest Articles

खत्म हुआ इंतजार ! अगले महीने लॉन्च हो रही 7 सीटर ‘देसी’ SUV

नई दिल्लीस्वदेशी कार निर्माता कंपनी महिंद्रा ऐंड महिंद्रा (Mahindra & Mahindra) की 7 सीटर एसयूवी Mahindra XUV700 अब टेस्टिंग के आखिरी पेज में...

जल्द भारत आ सकता है एक और ताकतवर स्मार्टफोन Vivo V21e 5G, सामने आए फीचर्स

Vivo V21e 5G Specifications: हैंडसेट निर्माता कंपनी Vivo ने पिछले सप्ताह भारत में अपने लेटेस्ट स्मार्टफोन Vivo Y73 2021 को उतारा था और...

नए अवतार में आ रही मारुति की 4 कारें, जानें डीटेल

नई दिल्लीMaruti Suzuki में कई मॉडल उतारने की तैयारी कर रही है। कंपनी Hyundai को टक्कर देने के लिए कई बड़ी एसयूवी भी...