Friday, November 27, 2020

नगरोटा एनकाउंटर में बड़ा खुलासा, जैश सरगना मसूद अजहर का भाई था मास्टरमाइंड

- Advertisement -


नई दिल्ली
जम्मू कश्मीर के नगरोटा (Nagrota Encounter) में गुरुवार को हुए एनकाउंटर पर बड़ा खुलासा हुआ है। सरहद पार से भारत आए जैश ए मोहम्मद ( jaish e mohammed) के चार आंतकियों को भारतीय सुरक्षाबलों ने मौत के घाट उतार दिया। ये आतंकवादी भारत में बड़ी तबाही के इरादे से दाखिल हुए थे मगर सुरक्षाबलों ने इनके और सरहद पार बैठे इनके आकाओं के सभी अरमानों पर पारी फेर दिया। सूत्रों के हवाले से पता चला है कि इसके पीछे आतंकी मसूद अजहर (Masood Azhar) के भाई का हाथ है।

सीमापार बनी थी योजना
बीते गुरुवार की सुबह, नगरोटा के पास बान टोल प्लाजा पर आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ हुई। इसमें चार आतंकवादी मारे गए, लेकिन यह सिर्फ एक मुठभेड़ नहीं थी। यह एक खुफिया-आधारित ऑपरेशन था। सुरक्षाबलों ने माना है कि इसका उद्देश्य एक बड़ा हमला करना हो सकता था, जिसकी योजना सीमा पार से बनाई गई थी। जैश के मेन आतंकी कैंप से चार जिहादियों का चयन भी मसूद अजहर के भाई ने किया था। वहां पर इनकी एक मीटिंग भी हुई थी।

मसूद अजहर का छोटा भाई
पाकिस्तान स्थित आतंकी समूह जैश-ए-मोहम्मद (जेएम) के ऑपरेशनल कमांडरों मुफ्ती रऊफ असगर और कारी ज़ार के संपर्क में थे। इनका उद्देश्य घाटी में कहर बरपाने का था। मुफ्ती असगर जेएम प्रमुख और संयुक्त राष्ट्र नामित वैश्विक आतंकवादी मसूद अजहर का छोटा भाई है। मामले के जानकारों का कहना है कि मारे गए आतंकियों के पास से मिले जीपीएस डिवाइस और मोबाइल फोन की आधार पर की गई शुरुआती आंकड़ों से पता चलता है कि ये सभी पाकिस्तान से ही यहां आए थे।

पाकिस्तान से सुरंग खोद भारत में आए आतंकी, चीन में बने हथियार… नगरोटा में ढेर आतंकियों के इन कनेक्शन से सेना अलर्ट

बड़े हमले के फिराक में थे सभी आतंकी
मुफ्ती असगर जेईएम प्रमुख और संयुक्त राष्ट्र द्वारा नामित वैश्विक आतंकी मसूद अजहर का छोटा भाई है। आतंकियों के साथ मुठभेड़ इत्तेफाक से नहीं हुई थी। यह खुफिया सूचना आधारित ऑपरेशन था। सुरक्षाबलों का मानना है कि सीमापार से आए आतंकी एक बड़े हमले को अंजाम देने वाले थे। इस घटना से संबंधित जानकारी रखने वाले लोगों का कहना है कि ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) डिवाइस के शुरुआती आंकड़ों से और चारों आतंकवादियों के पास मिले मोबाइल फोन से पता चलता है कि वे पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के ऑपरेशनल कमांडर मुफ्ती रऊफ असगर और कारी जरार के संपर्क में थे। इनका मकसद कश्मीर घाटी में बड़ा हमला करना था।

कहां पहुंचे? कोई मुश्किल तो नहीं?…नगरोटा में ढेर आतंकियों के मोबाइल से खुला राज
पीएम मोदी ने की थी अहम बैठक
नगरोटा एनकाउंटर के अगले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अहम बैठक में अमित शाह, अजीत डोभाल के अलावा, विदेश सचिव और शीर्ष खुफिया विभाग के अधिकारी शामिल हुए। सरकारी सूत्रों के अनुसार, नगरोटा एनकाउंटर में ढेर हुए चारों आतंकवादी मुंबई हमले (26/11) की बरसी के मौके पर बड़ा हमला करने की योजना बना रहे थे। समीक्षा बैठक में नगरोटा एनकाउंटर पर विस्तार से चर्चा की गई।

पीएम मोदी ने किया था ट्वीट
इस बैठक के बाद पीएम मोदी ने ट्वीट किया था कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े 4 आतंकवादियों को मार गिराया जाना और उनके पास बड़ी मात्रा में हथियारों और विस्फोटकों की मौजूदगी संकेत देती है कि वे तबाही और विनाश को भड़काने वाले थे, लेकिन उनके प्रयासों को एक बार फिर से विफल कर दिया गया।



Source link

इसे भी पढ़ें

इन टिप्स के जरिये आसानी से WhatsApp Messages Schedule करें

नई दिल्ली।भागदौड़ भरी जिंदगी में किसी को समय से कोई बात याद नहीं दिला पाना या बर्थडे मेसेज न भेज पाना जैसी बातें...
- Advertisement -

Latest Articles

इन टिप्स के जरिये आसानी से WhatsApp Messages Schedule करें

नई दिल्ली।भागदौड़ भरी जिंदगी में किसी को समय से कोई बात याद नहीं दिला पाना या बर्थडे मेसेज न भेज पाना जैसी बातें...

कोरोना वायरस: सवालों के घेरे में आया ऑक्‍सफर्ड का टीका, फिर ट्रायल कराएगी AstraZeneca

लंदन कोरोना वायरस से जंग में ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी और दवा कंपनी एस्ट्राजेनेका के टीके के प्रभावी होने को लेकर उठ रहे सवालों के...

मासूमियत: 8 साल के बच्चे ने ब्रिटिश प्रधानमंत्री से पूछा- कोरोना काल में क्‍या सेंटा आएगा?

लंदनब्रिटेन में रहने वाले 8 साल के एक बच्चे मोंटी ने मासूमियत भरा एक सवाल ब्रिटेन के प्रधानमंत्री से पूछा है। मोंटी के...