Wednesday, January 20, 2021

पीएम मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों से कहा- वैक्सीनेशन में न आए कोई ‘IF and BUT’, 4 और कोरोना वैक्सीन आने वाली हैं

- Advertisement -


नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 16 जनवरी से दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू कर रहे हैं। जिन 2 वैक्सीन के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दी गई है, वो दोनों ही मेड इन इंडिया हैं। अभी चार और वैक्सीन प्रोग्रेस में हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देशवासियों को एक प्रभावी वैक्सीन देने के लिए एक्सपर्ट ने हर प्रकार की सावधानियां बरती हैं। साथ ही उन्होंने नेताओं से कहा कि जब भी उनका नंबर आए वे वैक्सीन जरूर लें और नियम न तोड़ें।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वर्चुअल माध्यम से मुख्यमंत्रियों को संबोधित करते हुए कहा, ‘हमारी कोशिश सबसे पहले उन लोगों तक कोरोना वैक्सीन पहुंचाने की है जो दिनरात देशवासियों की स्वास्थ्य रक्षा में जुड़े हुए हैं यानी हमारे हेल्थ वर्कर्स चाहे वो सरकारी हों या प्राइवेट।’

पढ़ें- सरकार ने दिया 6 करोड़ से अधिक खुराक का ऑर्डर, कितना दाम और कैसे होगा वैक्सीनेशन, जानें सबकुछ

उन्होंने कहा, ‘हमारे जो सफाई कर्मचारी हैं, दूसरे फ्रंट लाइन वर्कर्स हैं, सैन्य बल हैं, पुलिस और केंद्रीय बल हैं, होमगार्डस हैं, डिजास्टर मैनेजमेंट वोलेंटियर्स समेत सिविल डिफें स के जवान हैं, कंटेनमेंट और सर्विलांस से जुड़े कर्मचारियों को पहले चरण में टीका लगाया जाएगा। तीन करोड़ संख्या होती है फ्रंटलाइन वर्कर्स की। इनके वैक्सीनेशन पर आने वाले खर्च को राज्य सरकारों को वहन नहीं करना है।’

कोरोना वैक्सीन की कीमत का खुलासा, कितने में मिलेगी एक शीशी?

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वैक्सीनेशन के दूसरे चरण में 50 वर्ष से ऊपर के सभी लोगों को और 50 वर्ष से नीचे के उन बीमार लोगों को जिनको संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा है, उनको टीका लगाया जाएगा। इस टीकाकरण अभियान में सबसे अहम उनकी पहचान और मॉनीटरिंग का है जिनको टीका लगाना है। बूथस्तर तक की रणनीति को अमल में लाना है।

ममता बनर्जी का ऐलान, फ्री में लगवाएंगे कोरोना की वैक्‍सीन

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आधुनिक टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए को-विन नाम का एक डिजिटल प्लेटफॉर्म भी बनाया गया है। भारत को टीकाकरण का जो अनुभव है, जो दूर-सुदूर क्षेत्रों तक पहुंचने की व्यवस्थाएं हैं वो कोरोना टीकाकरण में बहुत काम आने वाली हैं।

8 करोड़ से अधिक की खुराक का ऑर्डर
देश में 16 जनवरी से शुरू होने वाले टीकाकरण अभियान से पहले सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) और भारत बायोटेक से कोविड-19 टीके की छह करोड़ से अधिक खुराक खरीदने का ऑर्डर दिया। इस ऑर्डर की कुल कीमत करीब 1300 करोड़ रुपये होगी। सूत्रों ने बताया कि सरकार ने भारत बायोटेक को 55 लाख खुराक का ऑर्डर दिया है, जिसकी लागत 162 करोड़ रुपये है। सरकार ने एसआईआई से ऑक्सफोर्ड के कोविड-19 टीके ‘कोविशील्ड’ की 1.1 करोड़ खुराक खरीदने का सोमवार को ऑर्डर दिया।



Source link

इसे भी पढ़ें

अमेरिका ने चीन को द‍िया बड़ा झटका, उइगर मुस्लिमों के साथ व्‍यवहार को ‘नरसंहार’ घोषित किया

वॉशिंगटन अमेरिका की डोनाल्‍ड ट्रंप सरकार ने जाते-जाते चीन को बड़ा झटका दिया है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने शिंजियांग प्रांत में...
- Advertisement -

Latest Articles

अमेरिका ने चीन को द‍िया बड़ा झटका, उइगर मुस्लिमों के साथ व्‍यवहार को ‘नरसंहार’ घोषित किया

वॉशिंगटन अमेरिका की डोनाल्‍ड ट्रंप सरकार ने जाते-जाते चीन को बड़ा झटका दिया है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने शिंजियांग प्रांत में...

गोलू ने क्लास से बाहर फेंका बैग

मैडम (बच्चों से) - जो बच्चा मेरे सवाल का जवाब देगा,उसे मैं घर जाने दूंगी...गोलू ने तुरंत अपना बैग खिड़की के बाहर फेंक...

IND vs AUS: जब 32 साल बाद पहली बार गाबा में हारी ऑस्ट्रेलिया, देखिए क्या कह रहा है वहां का मीडिया

हाइलाइट्स:भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुई टेस्ट सीरीज की शुरुआत में अधिकतर लोगों को लग रहा था कि भारत इस बार जीत नहीं...