Wednesday, August 4, 2021

पेगासस फोन हैकिंग विवाद पर अश्विनी वैष्णव ने विपक्ष को दिया जवाब, कहा- मॉनसून सत्र से एक दिन पहले जासूसी की रिपोर्ट आना संयोग नहीं

- Advertisement -


नई दिल्‍ली
पेगासस फोन हैकिंग विवाद पर उम्‍मीद के अनुसार सोमवार को संसद में जमकर हंगामा हुआ। मामले में आगबबूला विपक्ष को लोकसभा में सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्‍णव ने जवाब दिया। उन्‍होंने इस बारे में आई रिपोर्टों पर संदेह जताया। उन्‍होंने कहा कि संसद के मॉनसून सत्र से एक दिन पहले प्रेस रिपोर्टों का आना संयोग नहीं हो सकता है।

हंगामे के बीच वैष्‍णव ने कहा कि रविवर रात एक वेब पोर्टल पर बेहद सनसनीखेज स्‍टोरी चली। इस स्‍टोरी में बड़े-बड़े आरोप लगाए गए। संसद के मॉनसून सत्र से एक दिन पहले प्रेस रिपोर्ट सामने आईं। यह संयोग नहीं हो सकता।

पेगासस जासूसी विवाद: इजरायली कंपनी NSO ग्रुप ने कहा- खुलासों में कुछ दम नहीं, मनगढ़ंत हैं दावे
रविवार को अंतरराष्‍ट्रीय मीडिया की ओर से जारी इस रिपोर्ट में बड़ा दावा किया गया। इसमें कहा गया कि इजरायल के पेगासस सॉफ्टवेयर की मदद से भारत में कई नेताओं, पत्रकारों और सार्वजनिक जीवन से जुड़े लोगों का फोन हैक किया गया है। रिपोर्ट में 150 से ज्‍यादा लोगों के फोन हैक करने की बात कही गई है। इस आरोप का सरकार ने खंडन किया। साथ ही यह भी कहा कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है। यहां प्राइवेसी मौलिक अधिकार है। रिपोर्ट सरासर गलत है।

क्‍या है पूरा मामला?
दुनियाभर के 17 मीडिया संस्‍थानों ने रविवार को एक रिपोर्ट छापी। दावा किया गया कि भारत समेत कई देशों की सरकारों ने 150 से ज्‍यादा पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और अन्‍य ऐक्टिविस्‍ट्स की जासूसी कराई। इसके लिए इजरायल के NSO ग्रुप के ‘पेगासस’ स्‍पाईवेयर का इस्‍तेमाल किया गया। रिपोर्ट के अनुसार, भारत में कम से कम 38 लोगों की निगरानी की गई। हालांकि, भारत सरकार ने इन आरोपों को सिरे से खारिज किया है।

जासूसी में हर सॉफ्टवेयर का बाप है ‘पेगासस’, आपको पता भी नहीं चलेगा और हैक हो जाएगा फोन
इजरायली कंपनी ने रिपोर्ट को बताया मनगढ़ंत
उधर, इजरायली कंपनी NSO ग्रुप ने अपने ‘पेगासस’ सॉफ्टवेयर को लेकर हुए खुलासों पर बयान जारी किया। कंपनी का कहना है कि ‘फॉरबिडेन स्‍टोरीज’ की रिपोर्ट ‘गलत धारणाओं और अपुष्‍ट सिद्धांतों’ से भरी हुई है। एक बयान में इजरायल की इस साइबर इंटेलिजेंस कंपनी ने कहा कि रिपोर्ट का कोई ‘तथ्‍यात्‍मक आधार नहीं है और यह सच्‍चाई से परे है।’ कंपनी के मुताबिक, ऐसा लगता है कि ‘अज्ञात सूत्रों’ ने गलत जानकारी मुहैया कराई है।

ashwini



Source link

इसे भी पढ़ें

- Advertisement -

Latest Articles

भव्य स्वागत देख बोले पीवी सिंधु के कोच कोच पार्क ताइ सांग- मुझे ‘गुरु’ बनाने के लिए शुक्रिया

नई दिल्लीतोक्यो ओलिंपिक में इतिहास रचने वाली भारत की बेटी पीवी सिंधु के विदेशी कोच पार्क ताइ सांग भव्य स्वागत से अभिभूत दिखे।...

India vs Germany Head to Head in Hockey: भारत के लिए ब्रॉन्ज मेडल नहीं होगा आसान, जानें जर्मनी के खिलाफ कैसा है रेकॉर्ड

तोक्योतोक्यो ओलिंपिक में 130 करोड़ भारतीयों की गोल्डन उम्मीद ने उस वक्त दम तोड़ दिया, जब पुरुष हॉकी टीम को बेल्जियम से सेमीफाइनल...