Thursday, August 5, 2021

रासुका के तहत मणिपुर के कार्यकर्ता की गिरफ्तारी से सुप्रीम कोर्ट आग बबूला, कहा- आज शाम पांच बजे तक करें रिहा

- Advertisement -


हाइलाइट्स

  • सुप्रीम कोर्ट ने राजनीतिक कार्यकर्ता इरेंद्रो लिचोबाम को रिहा करने का आदेश
  • सर्वोच्च न्यायलय ने कहा कि लिचोबाम को हिरासत में रखना मौलिक अधिकार का उल्लंघन
  • लिचोबाम ने कोविड के इलाज में गोमूत्र के इस्तेमाल के बीजेपी नेताओं के बयान की आलोचना की थी

नई दिल्ली
सुप्रीम कोर्ट ने कोविड-19 के उपचार को लेकर बीजेपी नेताओं की आलोचना करने पर रासुका के तहत हिरासत में लिए गए मणिपुर के राजनीतिक कार्यकर्ता को सोमवार शाम पांच बजे तक रिहा करने का निर्देश दिया। न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एमआर शाह की पीठ ने कहा कि उनको हिरासत में रखने से संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत उनके जीवन की स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार का उल्लंघन होगा।

शाम पांच बजे तक की मियाद

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि वह याचिका का विरोध नहीं कर रहे, लेकिन जवाब दाखिल करेंगे। इसके बाद पीठ ने याचिका को मंगलवार को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध कर दिया। शीर्ष अदालत ने निर्देश दिया कि मणिपुर जेल अधिकारियों को इस आदेश के बारे में तुरंत सूचित किया जाए ताकि सोमवार शाम पांच बजे तक कार्यकर्ता को रिहा किया जा सके।

बीजेपी नेताओं की आलोचना की सजा?

इससे पहले, राजनीतिक कार्यकर्ता इरेंद्रो लिचोमबाम के पिता एल रघुमणि सिंह की ओर से पेश अधिवक्ता शादान फरासत ने कहा था कि निवारक निरोध खंड (Preventive Detention Clause) का उपयोग ऐसे मामले में किया गया है, जहां साधारण दंड प्रावधानों की भी आवश्यकता नहीं है। कार्यकर्ता ने केवल कोविड-19 के इलाज के लिए गोबर तथा गोमूत्र के इस्तेमाल की वकालत करने वाले भाजपा नेताओं की आलोचना की है।

याचिका में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत राजनीतिक कार्यकर्ता को हिरासत में रखने को चुनौती दी गई है। याचिका में आरोप लगाया गया है कि ऐसा केवल कोविड-19 के इलाज के रूप में गोबर तथा गोमूत्र के इस्तेमाल की वकालत करने वाले भाजपा नेताओं की आलोचना करने के कारण उनको सजा देने के लिए किया गया।

UP Population Control Policy: जनसंख्या नीति पर योगी को शिवसेना का समर्थन, पर साथ में ये नसीहत भी दी

13 मई को डाली थी पोस्ट
कार्यकर्ता के पिता की ओर से दायर याचिका में दावा किया गया था कि उनके बेटे ने 13 मई को सोशल मीडिया फेसबुक पर एक पोस्ट में कोविड-19 के इलाज के लिए गोबर तथा गोमूत्र के इस्तेमाल की आलोचना की थी। याचिका में कहा गया, ‘मणिपुर भाजपा के प्रमुख एस टिकेंद्र सिंह के निधन के बाद भाजपा नेताओं के कोविड-19 से निपटने के लिए गोबर तथा गोमूत्र के इस्तेमाल करने जैसे अवैज्ञानिक तथ्यों तथा उनके गलत जानकारियां फैलाने की आलोचना करने के संदर्भ में वह बयान दिया गया था।’

लिचोबाम पर लगा रासुका

याचिका में कहा गया कि 13 मई को पोस्ट करने के बाद उसे खुद ही हटा भी दिया गया था। वकील शादान फरासत ने कहा कि इस आलोचना के लिए इरेंद्रो ने अपने खिलाफ शुरू किए गए आपराधिक मामलों के अनुसार हिरासत में कुछ दिन बिताए और उसके बाद जमानत मिलने के बाद भी वह हिरासत में हैं। याचिका में कहा गया है कि इरेंद्रो को जमानत दे दी गई थी, लेकिन जिला मजिस्ट्रेट के रासुका के तहत उन्हें हिरासत में रखने का आदेश देने के कारण रिहा नहीं किया गया।

इरेंद्रो लिचोबाम (फाइल फोटो)



Source link

इसे भी पढ़ें

Today Olympic Schedule: एक गोल्ड समेत दांव पर चार मेडल, ऐसा है पांच अगस्त को भारत का कार्यक्रम

तोक्योओलिंपिक में चार अगस्त यानी बुधवार का दिन भारतीय दल के लिए थोड़ी खुशी थोड़ा गम जैसा रहा। मगर गुरुवार को एक नहीं...

पाकिस्तान में कट्टरपंथियों ने एक और मंदिर को तोड़ा, फेसबुक लाइव कर शेयर किया वीडियो

इस्लामाबादपाकिस्तान के पंजाब सूबे में कट्टरपंथियों ने हिंदुओं के एक और मंदिर को तोड़ दिया है। दिन के उजाले में मंदिर के ऊपर...
- Advertisement -

Latest Articles

Today Olympic Schedule: एक गोल्ड समेत दांव पर चार मेडल, ऐसा है पांच अगस्त को भारत का कार्यक्रम

तोक्योओलिंपिक में चार अगस्त यानी बुधवार का दिन भारतीय दल के लिए थोड़ी खुशी थोड़ा गम जैसा रहा। मगर गुरुवार को एक नहीं...

पाकिस्तान में कट्टरपंथियों ने एक और मंदिर को तोड़ा, फेसबुक लाइव कर शेयर किया वीडियो

इस्लामाबादपाकिस्तान के पंजाब सूबे में कट्टरपंथियों ने हिंदुओं के एक और मंदिर को तोड़ दिया है। दिन के उजाले में मंदिर के ऊपर...

क्या होता है ‘Win By Fall’? जिसके दम पर रवि दहिया ने विपक्षी पहलवान को चटाई धूल

तोक्योभारत के पहलवान रवि कुमार दहिया तोक्यो ओलिंपिक में कुश्ती के पुरुष फ्रीस्टाइल 57 किग्रा भार वर्ग के सेमीफाइनल मुकाबले में कजाखस्तान के...

IND vs ENG Day-1 Highlights: इंग्लैंड की पहली पारी 183 पर ढेर, पहले दिन बुमराह-शमी छाए रहे

नॉटिंघमजसप्रीत बुमराह ने अपनी खोयी लय हासिल की जबकि मोहम्मद शमी ने अपनी गेंदबाजी में पैनापन दिखाया जिससे भारत ने पहले टेस्ट क्रिकेट...