Wednesday, April 14, 2021

लॉकडाउन को ना कहें, सावधानी को हां

- Advertisement -


से जुड़ी डराने वाली खबरों के बीच यह तथ्य कहीं दब गया कि कोरोना का टीका लगाने के मामले में भारत ने नया रेकॉर्ड बनाया है। सोमवार को यहां एक दिन में 43 लाख से ज्यादा टीके लगाए गए। मंगलवार तक देश भर में 8.4 करोड़ डोज दिए जा चुके थे। औसत की बात करें तो भारत में टीकाकरण अभियान के तहत लोगों को रोज 26.53 लाख डोज दिए जा रहे हैं, जो अमेरिका के बाद पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है। बावजूद इसके, महामारी की चुनौती के मद्देनजर देखें तो हमारे ये प्रयास बिल्कुल नाकाफी लगते हैं। अब तक देश में दोनों डोज लेकर टीके की सुरक्षा घेरे में आ चुके लोगों की कुल संख्या एक करोड़ तक ही पहुंच सकी है। दूसरी तरफ कोरोना के नए मामले चिंताजनक ढंग से बढ़ रहे हैं। मंगलवार को देश में कुल एक्टिव केसों की संख्या 8 लाख के पार चली गई। ध्यान रहे, दो दिन पहले यह संख्या 7 लाख थी।

यानी दो दिन में एक लाख की बढ़ोतरी। ऐसी तेज बढ़ोतरी तो तब भी नहीं देखी गई थी, जब वायरस का कहर चरम पर था। जाहिर है, मामला पहली या दूसरी लहरों का नहीं है। बात यह है कि जिस वायरस को काबू में आया हुआ माना जाने लगा था, उसने यह दूसरा ऐसा हमला किया है, जो पहले से भी ज्यादा खतरनाक है। स्वाभाविक ही सरकारें एक बार फिर अलर्ट मोड में आ रही हैं। राजधानी दिल्ली में नाइट कर्फ्यू की घोषणा कर दी गई है। महाराष्ट्र में पहले ही यह घोषणा की जा चुकी है। कई इलाकों में आंशिक लॉकडाउन लागू किया जा रहा है। कई राज्य बाहर से आने वालों पर तरह-तरह की पाबंदियां लगाने का ऐलान कर रहे हैं। इन सबका मकसद यह बताया जा रहा है कि लोगों के स्तर पर देखी जा रही लापरवाहियों में कमी आए। मगर इन पाबंदियों का कुछ और ही असर हो रहा है। लगभग साल भर की सुस्ती के बाद बिजनेस गतिविधियों में जो तेजी दिखाई दे रही थी, वह दोबारा मंद पड़ने लगी है। गांवों से काम की तलाश में शहर लौटे मजदूरों के भी वापस गांवों का रुख करने के संकेत मिल रहे हैं। इसने कंपनी प्रबंधकों की चिंता बढ़ा दी है। लेबर की कमी उनकी रिवाइवल की योजना पर पानी फेर सकती है।

यही नहीं कर्फ्यू और लॉकडाउन जैसे कदम वैक्सिनेशन प्रक्रिया को भी प्रभावित करेंगे। लोगों की चिकित्सा सुविधाओं तक पहुंच को मुश्किल बनाएंगे। इससे लोगों की आजीविका तो संकट में पड़ेगी ही, कोरोना को रोकने के उपाय भी कमजोर होंगे। साफ है कि चुनौती कठिन भले हो, लेकिन जरूरत लॉकडाउन की तरफ बढ़ने की नहीं, टीकाकरण को जितना हो सके बढ़ाने और मास्क लोगों तक मुफ्त पहंचाने जैसे कदम उठाने की है।



Source link

इसे भी पढ़ें

Xiaomi Mi 11 को मिला MIUI 12.5 अपडेट, जुड़े कई शानदार फीचर

हाइलाइट्स:शाओमी मी 11 को मिला MIUI 12.5 अपडेटनए फीचर्स के साथ कई ऑप्टिमाइजेशन भीदिया जा रहा मार्च 2021 का सिक्यॉरिटी पैचनई दिल्लीXiaomi Mi...

Covid-19 By Touching Surface: बेवजह पोछा मत लगाइए, सतह को छूने से कोरोना संक्रमित होने का अबतक नहीं मिला कोई सबूत

हाइलाइट्स:सतह को छूने से नहीं फैलता है कोरोना का संक्रमण, अमेरिकी सीडीसी ने बतायाविशेषज्ञ बोले- सतह से नहीं, बल्कि हवा के जरिए फैलता...
- Advertisement -

Latest Articles

Xiaomi Mi 11 को मिला MIUI 12.5 अपडेट, जुड़े कई शानदार फीचर

हाइलाइट्स:शाओमी मी 11 को मिला MIUI 12.5 अपडेटनए फीचर्स के साथ कई ऑप्टिमाइजेशन भीदिया जा रहा मार्च 2021 का सिक्यॉरिटी पैचनई दिल्लीXiaomi Mi...

Covid-19 By Touching Surface: बेवजह पोछा मत लगाइए, सतह को छूने से कोरोना संक्रमित होने का अबतक नहीं मिला कोई सबूत

हाइलाइट्स:सतह को छूने से नहीं फैलता है कोरोना का संक्रमण, अमेरिकी सीडीसी ने बतायाविशेषज्ञ बोले- सतह से नहीं, बल्कि हवा के जरिए फैलता...

IPL 2021: कमेंट्री के दौरान RCB से खुन्‍नस निकाल रहे पार्थिव पटेल? इस ट्वीट पर भड़क उठे फैन्‍स

हाइलाइट्स:क्‍या RCB से अबतक नाराज चल रहे हैं पार्थिव पटेल?कमेंट्री के आधार पर RCB फैन्‍स ने उठाए हैं सवालपार्थिव पटेल का ट्वीट- लोग...