Monday, June 14, 2021

Corona in Mumbai: मुंबई का रिकवरी रेट पहुंचा 95 फीसदी, कोविड की दूसरी लहर में बच्चे भी रहे सुरक्षित

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • महज एक महीने में मुंबई का रिकवरी रेट 6% बढ़ा
  • डबलिंग रेट बढ़ा, 79% कम हुए नए कोरोना मरीज
  • कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में बच्चे रहे सुरक्षित

मुंबई
कोरोना नियंत्रण को लेकर मुंबईकरों के लिए राहत भरी खबर है। मुंबई में कोरोना से रिकवर होने वालों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। महज एक महीने में मुंबई का रिकवरी रेट 89 फीसदी से बढ़कर 95 फीसदी तक पहुंच गया है। इसके साथ ही इस एक महीने में कोरोना के नए मरीजों की संख्या 79 फीसदी घट गई है। कोरोना की दूसरी लहर में बच्चे भी सुरक्षित रहे।

मुंबई में बीते माह मई के शुरुआती सप्ताह में कोरोना से रोजाना नए मिलने वाले मरीजों की संख्या 3 से 4 हजार के बीच थी। इसके बाद से यह संख्या घटकर दो हजार और फिर एक हजार तक आ गई। जून के शुरुआत में नए मरीजों की संख्या 900 के नीचे चली गई। मंगलवार को कोरोना के 831 नए मरीज मिले और 23 लोगों की कोरोना से मौत हुई है।

मई माह के अंतिम सप्ताह से रोजाना डिस्चार्ज हो रहे मरीजों की संख्या नए मरीजों की तुलना में तीन से चार गुना अधिक रही है। यह क्रम जून के पहले दिन भी दिखा। मंगलवार एक जून को नए मरीज 831 के मुकाबले 5868 मरीज डिस्चार्ज होकर घर लौटे। ज्यादा मरीज स्वस्थ होने से रिकवरी रेट भी बढ़ रहा है। यही हाल राज्य का भी है। मंगलवार को राज्य में कोरोना के 14,123 नए मरीज मिले। इसके दो गुना मरीज 35949 मरीज कोरोनामुक्त हुए हैं। इसके अलावा राज्यभर में कोरोना से 477 लोगों की मौत हुई है।

मौतों में 74 फीसदी की कमी
मुंबई में कोरोना से होने वाली मौतों की संख्या में 74 फीसदी की कमी महज एक महीने में आई है। 1 मई को मुंबई में कोरोना से 90 लोगों की मौत हुई थी, जो एक जून को घटकर 23 फीसदी तक पहुंच गई। इन आंकड़ों का आकलन करें, तो मौत की संख्या में 76 फीसदी की कमी आई है।

डबलिंग रेट 453 दिन हुआ
कोरोना मरीजों के दोगुने होने की कालावधि अब 453 दिन हो गई है। 1 मई को मुंबई का डबलिंग रेट 96 दिन था, जो 31 दिनों में बढ़कर 453 दिन हो गई है। यानी अब कोरोना मरीजों के दोगुने होने की अवधि साल भर के ऊपर हो गई।

दूसरी लहर में बच्चे रहे सुरक्षित
कोरोना की तीसरी लहर में भले ही बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने की आशंका हो, लेकिन राज्य में दूसरी लहर में ऐसा नहीं हुआ है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े बताते हैं कि नवंबर 2020 से अप्रैल 2021 तक बच्चों में पॉजिटिविटी रेट चिंताजनक स्तर तक नहीं पहुंचा।

नवजात से 5 वर्ष 6 से 11 वर्ष 12 से 17 वर्ष कुल
नवंबर 2020 1.3% 2.1% 3.5% 6.9 %
दिसंबर 2020 1.1% 1.9% 3.3% 6.3 %
जनवरी 2021 1.1% 1.7% 3.2% 6.0 %
फरवरी 2021 1.18% 2.0% 4.08% 7.26 %
मार्च 2021 1.10% 2.04% 3.64% 6.78 %
अप्रैल 2021 1.42% 2.62% 4.34% 8.38 %

फाइल फोटो



Source link

इसे भी पढ़ें

जोकोविच जैसा कोई नहीं: हर ग्रैंडस्लैम दो बार जीतने वाले ओपन ऐरा के पहले खिलाड़ी

हाइलाइट्स:नोवाक जोकोविच फ्रेंच ओपन के नए चैंपियन4 घंटे चले फाइनल में सितसिपास को हराया52 साल में चारों ग्रैंड स्लैम दो बार जीतने वाले...
- Advertisement -

Latest Articles

जोकोविच जैसा कोई नहीं: हर ग्रैंडस्लैम दो बार जीतने वाले ओपन ऐरा के पहले खिलाड़ी

हाइलाइट्स:नोवाक जोकोविच फ्रेंच ओपन के नए चैंपियन4 घंटे चले फाइनल में सितसिपास को हराया52 साल में चारों ग्रैंड स्लैम दो बार जीतने वाले...

भारत ने पिछले 3 साल में बांग्लादेश को को सौंपे 577 घुसपैठिए , इस साल अब तक 100 को वापस भेजा गया

नई दिल्लीभारत ने साल 2018 से अपने पड़ोसी देश बांग्लादेश को अधिकतम 577 घुसपैठिए सौंपे हैं, जो दोनों देशों के बीच आपसी सहयोग...