Friday, May 7, 2021

Covid Vaccination : चीन और नेपाल बॉर्डर पर बसे गांवों में आ रही है वैक्सिनेशन में दिक्कत

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • इंटरनेट से जुड़ी है वैक्सीन लगाने की प्रक्रिया
  • सरकार से मांगी है ऑफलाइन प्रक्रिया की इजाजत
  • पर अभी तक सरकार से मंजूरी का इंतजार

नई दिल्ली
उत्तराखंड में चीन और नेपाल सीमा से लगते कई इलाकों में कोरोना की वैक्सीन नहीं लग पा रही है। यहां रहने वाले लोग परेशान हैं साथ ही स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भी इसे लेकर चिंतित हैं। वैक्सिनेशन की प्रक्रिया ऑनलाइन हो रही है और चीन-नेपाल बॉर्डर के कई इलाके ऐसे हैं जहां मोबाइल नेटवर्क ही नहीं है, इंटरनेट तो यहां के लिए दूर का सपना है। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में धारचूला, मुनस्यारी तहसील में कई ऐसे इलाके हैं जहां भारत का कोई मोबाइल नेटवर्क नहीं चलता।

नेटवर्क नहीं होने से हो रही समस्या

पिथौरागढ़ के सीएमओ डॉ. एचसी पंत ने कहा कि पिथौरागढ़ जिले में जो ऊंचाई वाले इलाके हैं जैसे मुनस्यारी, धारचूला, ये शेडो एरिया में आते हैं। यहां वैक्सिनेशन में बहुत दिक्कत हो रही है। उन्होंने कहा कि जैसे धारचूला के पास बलुवाकोट, जौलजीबी, बरम, बंगापानी जैसे कई इलाके हैं जहां फोन या इंटरनेट का कोई नेटवर्क नहीं है। हमने सरकार को इस बारे में अवगत कराया है और मांग की है कि यहां ऑफलाइन वैक्सिनेशन करने की इजाजत दी जाए।

ऑक्सिजन, रेमडेसिविर की होड़- देश के दिग्गज डॉक्टरों ने बताई असली बात, कहा- किसे इसकी जरूरत, किसे होगा नुकसान
ऑफलाइन टीकाकरण का प्रबंध ही नहीं

अभी तक सरकार की तरफ से कोई जवाब नहीं आया है और हमें इसकी इजाजत नहीं मिली है इसलिए वहां हमें वैक्सिनेशन में परेशानी आ रही है। दरअसल केंद्र सरकार की गाइडलाइन में ऑफलाइन वैक्सिनेशन का कोई फॉरमेट ही नहीं है और न ही इसका कोई जिक्र है कि ऑफलाइन वैक्सिनेशन करना है या किस तरह करना है। नेपाल बॉर्डर के कई इलाके हैं जहां नेपाल की सिम काम करती है और लोग नेपाल की सिम का इस्तेमाल कर फोन पर बात तो कर लेते हैं लेकिन इंटरनेट सेवा नहीं है।

UP Coronavirus Update: सरकारी में जगह नहीं तो प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती होंगे कोरोना मरीज, योगी सरकार उठाएगी पूरा खर्च
नहीं हो पा रहा है नियमों का सख्ती से पालन
उत्तराखंड में कोरोना के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना पॉजिटिव की संख्या तो बढ़ ही रही है साथ ही कोरोना से मौत के आंकड़े भी लगातार बढ़ रहे हैं। राज्य में दूसरे राज्यों से आने वालों के लिए भले ही रजिस्ट्रेशन का नियम बनाया है लेकिन इसका सख्ती से पालन होता भी नहीं दिख रहा है। एक जिले से दूसरे जिले में जाने पर फिलहाल कोई पाबंदी नहीं है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि वैक्सिनेशन जैसे-जैसे ज्यादा होगा वैसे-वैसे कोरोना के मामलों में कमी आएगी। लेकिन बॉर्डर के इलाकों में मोबाइल – इंटरनेट नेटवर्क ना होना जहां पहले से ही लोगों के लिए सरदर्द बना है वहीं यह नेटवर्क न होना वैक्सिनेशन की राह में भी रोड़ा बन गया है।

vaccination

सांकेतिक तस्वीर।



Source link

इसे भी पढ़ें

साली ने जीजा से पूछा मजेदार सवाल

साली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं?नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:May 7, 2021, 06:00AM ISTसाली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं? जीजा...

जिंदगी की जंग: 1980 ओलंपिक में स्वर्ण पदक विजेता हॉकी टीम के दो खिलाड़ियों की हालत गंभीर

नई दिल्ली1980 मॉस्को ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली हॉकी टीम के दो खिलाड़ी महाराज कृष्ण कौशिक और रवींद्र पाल सिंह कोरोना वायरस...
- Advertisement -

Latest Articles

साली ने जीजा से पूछा मजेदार सवाल

साली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं?नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:May 7, 2021, 06:00AM ISTसाली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं? जीजा...

जिंदगी की जंग: 1980 ओलंपिक में स्वर्ण पदक विजेता हॉकी टीम के दो खिलाड़ियों की हालत गंभीर

नई दिल्ली1980 मॉस्को ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली हॉकी टीम के दो खिलाड़ी महाराज कृष्ण कौशिक और रवींद्र पाल सिंह कोरोना वायरस...

कायरन पोलार्ड के लिए खुशखबरी, CPL 2021 में शाहरुख खान की टीम की करते दिखेंगे कप्तानी

नई दिल्लीइंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 2021 सत्र में अपने छक्कों से गेंदबाजों को दहलाने वाले कायरन पोलार्ड (Kieron Pollard) के लिए खुशखबरी...