Saturday, May 15, 2021

Dr Randeep Guleria on Lockdown: डॉ. रणदीप गुलेरिया बोले- पॉजिटिविटी रेट को आधार मानकर लगे लॉकडाउन, कोरोना पर करना होगा दोतरफा वार

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • रणदीप गुलेरिया े कहा कि जिन इलाकों में पॉजिटिविटी रेट 10 पर्सेंट के पार चला गया हो वहां लॉकडाउन जरूर लगाया जाए
  • डॉ रणदीप गुलेरिया ने यह फॉर्मूला ऐसे वक्त सुझाया है, जब कोरोना वायरस की दूसरी लहर में नए मामलों की सुनामी सी आ गई है
  • डॉ रणदीप गुलेरिया ने साफतौर पर कहा कि कोरोना को हराने के लिए हमें दोहरी रणनीति पर काम करना होगा

नई दिल्ली
भारत में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने हाहाकार मचाया हुआ है। देश में अब तक (India Corona Cases) यानी 23 अप्रैल 2021 तक 1 लाख 89 हजार 544 लोगों की मौत कोविड-19 की वजह से हो चुकी है। वहीं दूसरी तरफ लॉकडाउन को लेकर राज्य असमंजस में हैं, लेकिन कुछ राज्यों ने अपने यहां लॉकडाउन की घोषणा की है। वहीं इसी बीच एम्स प्रमुख डॉ रणदीप गुलेरिया (AIIMS chief Dr Randeep Guleria) ने निजी चैनल से बातचीत में लॉकडाउन को लेकर सुझाव दिए हैं।

निजी चैनल से बातचीत में डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा कि जिन इलाकों में कोविड पॉजिटिविटी रेट (Positivity Rate) 10 फीसदी के पार चला गया हो, वहां लॉकडाउन (Lockdown) जरूर लगाया जाए। डॉ रणदीप गुलेरिया ने यह फॉर्मूला ऐसे वक्त सुझाया है, जब कोरोना वायरस की दूसरी लहर में नए मामलों की सुनामी सी आ गई है। वहीं इससे भारत की चिकित्सा व्यवस्था धराशायी होती दिखाई दे रही है।

‘संक्रमण की चेन को तोड़ना जरूरी’
गुलेरिया ने माना कि देश का हेल्थकेयर सिस्टम सरकार द्वारा वायरस के फैलने का अनुमान लगा पाने में नाकामी की कीमत चुका रहा है। वायरस के ज्यादा संक्रामक वैरिएंट और म्यूटेंट तेजी से संक्रमण फैला रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि तेजी से बढ़ते सक्रिय मरीजों का बोझ कम करने के लिए संक्रमण की चेन को तोड़ना जरूरी है। कोरोना के रोजाना के मामले भारत में मार्च के मध्य में 25 हजार के करीब थे, जो अब बढ़कर 3.5 लाख तक पहुंच गए हैं।

ऑक्सिजन की कमी से 20 मौतें, जयपुर गोल्डन अस्पताल ने हाई कोर्ट में दिल्ली सरकार पर उठाए सवाल

मेरी मानें तो हमें दोतरफा काम करने की जरूरत है। पहला-स्वास्थ्य देखभाल के बुनियादी ढांचे में सुधार पर तत्काल काम करना है- वो चाहे अस्पताल में बिस्तर, दवा या ऑक्सीजन। दूसरा – मामलों की संख्या में कमी। हम इतनी बड़ी संख्या में एक्टिव मामलों को जारी नहीं रख सकते हैं।

डॉ रणदीप गुलेरिया, एम्स प्रमुख

कोरोना पर करना होगा दोतरफा वार- गुलेरिया
डॉ रणदीप गुलेरिया ने साफतौर पर कहा कि हमें दोहरी रणनीति पर काम करना होगा। पहला ये कि जल्द से जल्द अस्पतालों और अन्य जगहों पर सभी तरह की सुविधाएं इलाज के लिए मुहैया कराई जाएं। अस्पताल में बेड, दवाएं और ऑक्सीजन की किल्लत को तेजी से दूर करना होगा। दूसरा कोरोना संक्रमण के नए मामलों को कम करने पर ध्यान देना होगा। हम लंबे समय तक इतने ज्यादा एक्टिव मरीजों का बोझ नहीं सह सकते।

ऑक्सिजन पर दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई LIVE: जज ने कहा- जिस किसी ने ऑक्सिजन सप्लाई में बाधा डाली, उसे फांसी दी जाएगी

Delhi Oxygen Crisis: LNJP अस्पताल के डॉक्टर बोले- 30 साल के करियर में नहीं देखा ऐसा संकट

‘कोरोना की चेन तोड़ने से ही नए मामलों में आ सकती है कमी’
डॉ रणदीप गुलेरिया ने बताया कि संक्रमण पर काबू पाने के लिए हमें ज्यादा पॉजिटिविटी रेट वाले इलाकों पर फोकस करा होगा। अगर यह सबसे ज्यादा होगा तो हमें कंटेनमेंट जोन बनाना पड़ेगा ।यहां तक कि लॉकडाउन लगाना पड़ेगा। तभी संक्रमण की चेन को तोड़ा जा सकता है और नए मामलों को नीचे लाया जा सकता है। गौरतलब है कि भारत में एक्टिव केस यानी जिन मरीजों का इलाज चल रहा है, उनकी तादाद बढ़कर 25.5 लाख तक पहुंच गई है। अस्पतालों और चिकित्साकर्मियों पर जबरदस्त दबाव है।

यूके वेरियंट के इतनी तेजी से बढ़ने का अनुमान नहीं लगाया था। पहली लहर धीमी थी … हमारे पास सब कुछ बढ़ाने का समय था – अस्पताल के बिस्तर, दवा वगैरह सबकुछ

रणदीप गुलेरिया , AIIMS निदेशक


ऑक्सीजन संकट पर क्या बोले गुलेरिया?

दिल्ली में पिछले तीन दिनों से अस्पताल ऑक्सीजन के लिए गुहार लगा रहे हैं। गुलेरिया ने कहा कि राजधानी में ऑक्सीजन का संकट सही मायने में गंभीर है। हमें देखना होगा कि संसाधनों का कैसे बंटवारा करना है। जिन राज्यों में ऑक्सीजन ज्यादा है, वहां से इसे मंगाया जा सकता है।

कोरोना से उबरे मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर, प्लाज्मा डोनेट करने का लिया संकल्प

Batra Hospital Oxygen Crisis: ऑक्सिजन खत्म होती देख बत्रा अस्पताल ने मरीजों को ले जाने को कहा, हालात बयां करते हुए रो पड़े डॉक्टर

Uttar Pradesh Corona Update: BJP विधायक की कोरोना से हुई थी मौत, सदमे से 24 घंटे के भीतर पिता का भी निधन
‘मौत के खतरे को कम नहीं करता है रेमडेसिवीर’
इन दिनों देशभर में रेमडेसिवीर इंजेक्शन को लेकर हंगामा मचा है। कई शहरों से इसकी ब्लैक मार्केटिंग की भी खबरें भी आ रही हैं। हालांकि डॉक्टर गुलेरिया का कहना है कि ये इंजेक्शन लोगों को सिर्फ हॉस्पिटल जाने से रोक सकता है, लेकिन इससे मौत की दर में कोई कमी नहीं आती है।उन्होंने कहा कि रेमडेसिवीर एक एंटी वायरल दवाई है, जिसे इबोला के लिए बनाया गया था। ये जीवन रक्षक दवा नहीं है और न ही ये मृत्यु को कम करता है।

Corona Warriors: मां बीमार हैं, फिर भी कोरोना मरीजों की सेवा में जुटे हैं वाराणसी के अमन कबीर, बाइक को बनाया ऐंबुलेंस

Delhi High Court on Oxygen Crisis: हाई कोर्ट ने दिखाया रौद्र रूप, कहा- ऑक्सीजन की सप्लाई में बाधा डालने वालों को फांसी पर टांग देंगे

.

.



Source link

इसे भी पढ़ें

बॉयफ्रेंड ने गर्लफ्रेंड से पूछा मजेदार सवाल

बॉयफ्रेंड - तुम्हारी बहन का क्या नाम है?नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:May 15, 2021, 06:00AM ISTबॉयफ्रेंड - तुम्हारी बहन का क्या नाम है? गर्लफ्रेंड - तमन्ना... बॉयफ्रेंड...
- Advertisement -

Latest Articles

बॉयफ्रेंड ने गर्लफ्रेंड से पूछा मजेदार सवाल

बॉयफ्रेंड - तुम्हारी बहन का क्या नाम है?नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:May 15, 2021, 06:00AM ISTबॉयफ्रेंड - तुम्हारी बहन का क्या नाम है? गर्लफ्रेंड - तमन्ना... बॉयफ्रेंड...

बंगाल के खेल मंत्री बने मनोज तिवारी को हरभजन सिंह ने दी तंज भरी बधाई, विवाद बढ़ा तो ट्वीट करना पड़ा डिलीट

नई दिल्लीभारतीय क्रिकेटर मनोज तिवारी (Manoj Tiwary) अपने राजनीतिक करियर का शानदार आगाज कर चुके हैं। उन्हें वेस्ट बंगाल (West Bengal) की नवनिर्मित...

अनुष्का और विराट ने कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए जुटाए 11 करोड़ रुपये

बॉलिवुड ऐक्ट्रेस अनुष्का शर्मा (Anushka Sharma) ने अपने पति और भारतीय क्रिकेट टीम के कैप्टन विराट कोहली (Virat Kohli) ने कोविड से प्रभावित...