Saturday, January 23, 2021

Farmers Protest: सरकार के साथ बातचीत में बेहद तल्ख रहे किसान नेताओं के तेवर, कानून वापस होने से कम कुछ मंजूर नहीं

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • सरकार और किसान नेताओं के बीच 8वें दौर की बातचीत भी रही बेनतीजा, अब 15 जनवरी को अगली वार्ता
  • बातचीत के दौरान किसानों के तेवर बहुत तल्ख रहे, सरकार से दो टूक कहा- कानून वापस लेने तक जारी रहेगी लड़ाई
  • मीटिंग के दौरान के एक वीडियो में एक किसान नेता कह रहे हैं कि सरकार साफ-साफ बता दे हम बैठक से चले जाएंगे

नई दिल्ली
किसान आंदोलन के बीच शुक्रवार को केंद्र और किसान नेताओं के बीच हुई आठवें दौर की बातचीत भी बेनतीजा रही। 15 जनवरी को अगले राउंड की बातचीत होगी। मीटिंग के दौरान किसान नेताओं के तेवर बहुत तल्ख थे। वह इस पर अड़े रहे कि सरकार कानूनों को वापस ले या फिर उन्हें साफ-साफ बताए कि उनका फैसला क्या है। किसान नेताओं ने सरकार से कहा कि उसके पास एग्रीकल्चर सेक्टर में दखल का अधिकार ही नहीं है। किसानों के तेवर का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि बातचीत के दौरान के एक वीडियो में एक किसान नेता सरकार पर आरोप लगाते दिख रहे हैं कि उसका मन मामले के निपटारे का नहीं है। उन्होंने यहां तक कहा कि आप सरकार है, आपके पास ताकत है, आपको लोगों की बातें कम लगती हैं।

किसी कोर्ट नहीं जाएंगे, कानून वापस होने तक लड़ाई जारी रहेगी: हन्नान मोल्लाह
बातचीत खत्म होने के बाद ऑल इंडिया किसान सभा के जनरल सेक्रटरी हन्नान मोल्लाह ने कहा कि कानून वापस होने तक उनकी लड़ाई जारी रहेगी। उन्होंने बताया, ‘गरमा-गरम बातचीत हुई, हमने कहा कि हम कानूनों को वापस लेने के अलावा कुछ नहीं चाहते। हम किसी कोर्ट नहीं जाएंगे, या तो कानून वापसी होगी या हम अपनी लड़ाई जारी रखेंगे। 26 जनवरी का हमारा परेड भी योजना के हिसाब से होगा।’

Kisan Andolan: कौन है भारतीय किसान यूनियन की पहली टोपी बनाने वाले ये ‘टोपी वाले’ बुजुर्ग
सरकार के पास एग्रीकल्चर सेक्टर में दखल का अधिकार ही नहीं: किसान नेता
वीडियो में एक किसान नेता सरकार से साफ-साफ कह रहे हैं कि वह कृषि क्षेत्र में बिल्कुल दखल नहीं दे सकती। वीडियो में वह कहते दिख रहे हैं, ‘आप इस जिद पर अड़े हैं, यह तो स्थापित तथ्य है कि आप कृषि क्षेत्र में बिल्कुल दखल नहीं दे सकते। लेकिन आप अपने जॉइंट सेक्रटरी को लगा देंगे फिर सेक्रटरी को लगा देंगे, वो कोई न कोई लॉजिक देते रहेंगे। मेरे पास भी लिस्ट है लेकिन हमें बहस नहीं करनी है इस पर। मेरे पास भी लिस्ट है कि कितने केस सुप्रीम कोर्ट में गए और कोर्ट ने फैसला किया कि आप नहीं दखल दे सकते।’

जिसके पास ताकत है, उसकी बात ज्यादा होती है: किसान नेता
किसान नेता ने सरकार को यहां तक कहा कि वह ताकतवर है इसलिए उसे लोगों की बातें कम लगती है। इस तरह उन्होंने सरकार पर एक तरह से आरोप लगाया कि किसानों के आंदोलन से उस पर रत्तीभर फर्क नहीं पड़ रहा है, उसे किसान आंदोलन छोटी बात लग रही है। किसान नेता ने कहा, ‘फिर भी आपका फैसला है क्योंकि आप सरकार हैं इसलिए लोगों की बात शायद कम लगती है आपको। क्योंकि जिसके पास ताकत है उसकी बात ज्यादा होती है न। वो इतने दिनों से बार-बार इतनी चर्चा हो रही है, आप जिस तरह का आपका मूड लग रहा है उससे लगता है कि आप का मन निपटाने का नहीं है। आप साफ-साफ जवाब दे दीजिए हम चले जाएंगे।’

Kisan Tractor Parade on 26th January: गणतंत्र दिवस पर क्या है प्लान, किसान नेता राकेश टिकैत ने बताया

किसानों के तेवर- ‘मरेंगे या जीतेंगे’
किसानों ने लंच ब्रेक के दौरान भी तख्तियों के माध्यम से सरकार को चेताने की कोशिश की कि कानूनों के वापस होने तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। ऐसे ही एक तख्ती में लिखा था- या तो मरेंगे या जीतेंगे।

यह भी पढ़ें: जानें,किसानों और सरकार के बीच हुई बातचीत में क्या-क्या हुआ

सरकार की अपील- किसान नेता पंजाब और हरियाणा के हितों से आगे सोचें
लंच से पहले की बातचीत में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसान संगठनों के नेताओं से कहा कि कानून सारे देश के लिए बनते हैं। किसान संगठनों को महज पंजाब और हरियाणा के हितों से इतर भी देखना चाहिए।

राजेवाल बोले- कानून वापस कीजिए, राज्यों को अपना कानून बनाने दीजिए
लंच से पहले की बातचीत के दौरान किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से कहा कि आप कृषि कानूनों को वापस लीजिए और राज्यों को अपने-अपने कानून लाने दीजिए। राजेवाल ने कानूनों में संशोधन की बातचीत को सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने तोमर से कहा कि केंद्र के पास कानून बनाने का संवैधानिक अधिकार ही नहीं है। राजेवाल ने कहा कि सरकार को अपने कानूनी सलाहकारो से इसका रास्ता पूछ सकती है कि कानूनों को किस तरह से वापस लिया जा सकता है या फिर सरकार हमसे साफ-साफ कहे कि कानूनों को वापस नहीं ले सकते और हम तुरंत हॉल छोड़ देंगे।

farmers-meeting



Source link

इसे भी पढ़ें

SL vs ENG Highlights: जो रूट की कप्तानी पारी, शुरुआती झटकों के बाद संभला इंग्लैंड

गॉलजो रूट के नाबाद 67 रन की मदद से इंग्लैंड ने शुरुआती दो विकेट सस्ते में गंवाने के बाद श्रीलंका के खिलाफ दूसरे...

वीडियो वायरल: एमएस धोनी को बुजुर्ग महिला फैन ने दी सलाह, बेटे का नाम रोशन ही रखना

नई दिल्लीभारत के पूर्व कप्तान महदें सिंह धोनी (MS Dhoni) उन चुनिंदा स्पोर्ट्स स्टार्स में शामिल हैं, जिनकी रिटायरमेंट के बाद भी फैन...
- Advertisement -

Latest Articles

SL vs ENG Highlights: जो रूट की कप्तानी पारी, शुरुआती झटकों के बाद संभला इंग्लैंड

गॉलजो रूट के नाबाद 67 रन की मदद से इंग्लैंड ने शुरुआती दो विकेट सस्ते में गंवाने के बाद श्रीलंका के खिलाफ दूसरे...

वीडियो वायरल: एमएस धोनी को बुजुर्ग महिला फैन ने दी सलाह, बेटे का नाम रोशन ही रखना

नई दिल्लीभारत के पूर्व कप्तान महदें सिंह धोनी (MS Dhoni) उन चुनिंदा स्पोर्ट्स स्टार्स में शामिल हैं, जिनकी रिटायरमेंट के बाद भी फैन...

प्रख्यात टीवी एंकर लैरी किंग का 87 साल की उम्र में निधन, पुतिन ने भी जताया शोक

लॉस एंजिलिसदुनियाभर के नामचीन राजनेताओं तथा फिल्मी सितारों का साक्षात्कार लेने वाले प्रसिद्ध टीवी प्रस्तोता लैरी किंग का शनिवार को निधन हो गया।...