Saturday, November 28, 2020

India China News : हिंद महासागर में चीन को कड़ी चुनौती, भारत ने निकोबार द्वीपसमूह में किया तीनों सेनाओं का बहुत बड़ा संयुक्त युद्धाभ्यास

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • भारत ने अंडमान-निकोबार द्वीपसमूह में तीनों सेनाओं का बहुत बड़ा युद्धाभ्यास किया
  • युद्धाभ्यास के दौरान बड़ी तादाद में फौजियों और बड़े विध्वंसक हथियारों ने करतब दिखाए
  • हिंद महासागर में चीन की किसी भी हरकत का कठोर जवाब देने की तैयारी में है भारत

नई दिल्ली
अंडमान और निकोबार कमांड (ANC) की तरफ से सेना के तीनों अंगों का युद्धाभ्यास संपन्न हो गया। तीन दिनों के इस युद्धाभ्यास में विशेष बलों ने जल और जमीन, दोनों तरह के अभियानों में हिस्सा लिया। इस युद्धाभ्यास को ‘बुल स्ट्राइक’ नाम दिया गया।

बहुत बड़ा संयुक्त युद्धाभ्यास
बड़ी तादाद में आर्मी, नेवी और एयर फोर्स के जवानों ने भारी विनाश के हथियारों का प्रदर्शन किया। साथ ही, अर्धसैनिक सुरक्षा बल और मैरीन कमांडोज भी ‘बुल स्ट्राइक’ के भागीदार बने। यह युद्धाभ्यास टेरेसा आइलैंड में 3 से 5 नवंबर तक निकोबर समूह के द्वीपों पर हुआ।

योजनागत और आपातकालीन युद्ध की तैयारियों का रिहर्सल
एक अधिकारी ने बताया, ‘यह युद्धाभ्यास योजनागत और आपातकालीन अभियानों में सेना के तीनों अंगों की कार्रवाइयों का रिहर्सल था। यह भारत की तीनों सेनाओं का एकमात्र ऑपरेशनल (थिएटर) कमांड एएनसी की देखरेख में हुआ।’ युद्धाभ्यास के दौरान सी-130जे ‘सुपर हरक्यूलस’ स्ट्रैटेजिक एयरलिफ्ट एयरक्राफ्ट से कॉम्बेट फ्री-फॉल और पैरा-ड्रॉप, आर्मी के ‘घातक’ प्लाटूनों के स्पेशल हेली-बॉर्न ऑपरेशन और युद्धपोतों का समुद्र एवं जमीन, दोनों पर लैंडिंग जैसे करतब दिखाए गए।

चीन पर नजर, क्वाड देशों ने बंगाल की खाड़ी में शुरू किया मालाबार नौसैनिक युद्धाभ्यास

तीनों सेनाओं के बीच आपसी तालमेल का लक्ष्य

एक ऑफिसर ने बताया, ‘इस युद्धाभ्यास का मकसद युद्धक क्षमता बढ़ाने के लिए तीनों सेनाओं के बीच आपसी तालमेल सुनिश्चित करना था। एएनसी चीफ लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे ने सैनिकों को ऑपरेशन के लिए हर वक्त सर्वोच्च स्तर की तैयारी रखने को प्रेरित किया। उन्होंने आखिरी दिन युद्धाभ्यास का मुआयना भी किया।’

चीन के साथ संघर्ष के बीच सैन्य क्षमता विस्तार

हमारे सहयोगी अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया ने खबर दी थी कि पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी सैन्य संघर्ष के बीच भारत अब रणनीतिक रूप से अहम अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह में सैन्य बलों की ताकत बढ़ाने और सेना से संबंधी बुनियादी ढांचों के विकास को गति प्रदान करने में जुट गया है। इसका मकसद हिंद महासागर में चीन का कड़ा मुकाबला करना है।

सीमा पर सड़कों और रेल लाइनों का जाल बिछा रहा है चीन, जानें भारत बॉर्डर इन्फ्रास्ट्रक्चर में कितना मजबूत

बदल रहा है माजरा

एएनसी की स्थापना अक्टूबर 2001 में भारत के पहले थिएटर कमांड के रूप में हुई थी, लेकिन सेना के तीनों अंगों के बीच आंतरिक मतभेदों, राजनीति और नौकरशाही के स्तर की अकर्मण्यता, फंड की कमी और पर्यवारणीय दुश्वारियों के कारण यह अपनी संभावनाओं को हासिल नहीं कर सका। अब यह बदलने जा रहा है।



Source link

इसे भी पढ़ें

Explained: Mohsen Fakhrizadeh की हत्या से फिर खड़े हुए सवाल, आखिर क्यों ईरान-इजरायल में है इतनी कट्टर दुश्मनी?

ईरान के परमाणु कार्यक्रम के जनक मोहसिन फखरीजादेह (Mohsen Fakhrizadeh) की हत्या के साथ एक बार फिर इजरायल के साथ उसकी दुश्मनी दुनिया...

प्रभास और सैफ अली खान की ‘आदिपुरुष’ में सीता बनेंगी कृति सैनन

पिछले काफी समय से 'बाहुबली' सुपरस्टार प्रभास की आने वाली फिल्म 'आदिपुरुष' काफी चर्चा में है। इस फिल्म का फर्स्ट लुक पोस्टर पहले...
- Advertisement -

Latest Articles

Explained: Mohsen Fakhrizadeh की हत्या से फिर खड़े हुए सवाल, आखिर क्यों ईरान-इजरायल में है इतनी कट्टर दुश्मनी?

ईरान के परमाणु कार्यक्रम के जनक मोहसिन फखरीजादेह (Mohsen Fakhrizadeh) की हत्या के साथ एक बार फिर इजरायल के साथ उसकी दुश्मनी दुनिया...

प्रभास और सैफ अली खान की ‘आदिपुरुष’ में सीता बनेंगी कृति सैनन

पिछले काफी समय से 'बाहुबली' सुपरस्टार प्रभास की आने वाली फिल्म 'आदिपुरुष' काफी चर्चा में है। इस फिल्म का फर्स्ट लुक पोस्टर पहले...

सना खान ने शौहर के साथ तस्वीरें पोस्ट कर लिखा पोस्ट- सोचा नहीं था हलाल प्यार इतना…

सना खान इन दिनों सुर्खियों में हैं। बीते दिनों उन्होंने सूरत के मुफ्ती अनस सईद से निकाह किया है। अब सोशल मीडिया पर...