Thursday, January 28, 2021

Kisan Andolan : कोरोना ने लील लिया रोजगार, आंदोलनकारी किसान बन रहे जीवन-यापन का सहारा

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • कोरोना काल में जिल लोगों का रोजगार छिन गया, उन्हें किसान आंदोलन से राहत मिल रही है
  • दिल्ली बॉर्डर पर जमे किसान ऐसे लोगों के जीवन-यापन का सहारा साबित हो रहे हैं
  • कई लोग आंदोलन की विभिन्न जगहों पर कुछ-कुछ सामान बेचकर अपनी आजीविका कमा रहे हैं

नई दिल्ली
कोरोना वायरस महामारी के पहले राकेश अरोड़ा इंडिया गेट पर सामान बेचते थे, लेकिन लॉकडाउन के बाद सब बंद हो गया और गुजारा मुश्किल हो गया। अब सिंघू बॉर्डर पर किसानों के आंदोलन के कारण उन्हें रोजी रोटी चलाने का सहारा मिला है और वह बैज तथा स्टिकर बेचते हैं। पिछले छह हफ्ते से ज्यादा समय से किसान दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं और इस दौरान आसपास के कुछ विक्रेता भी यहां सामान बेचने पहुंच गए हैं।

…तो आंदोलन स्थल का किया रुख

‘आई लव खेती’, ‘आई लव किसान’ और ‘किसान एकता जिंदाबाद’ के बैज और स्टिकर बेचने वाले कई विक्रेता प्रदर्शन स्थल पर आ रहे हैं। लगभग सारे प्रदर्शनकारी बैज लगाते हैं जबकि ट्रैक्टरों और ट्रॉलियों में स्टिकर लगाए जाते हैं। राकेश अरोड़ा और उनके भतीजे अंबाला से 2,500 रुपये का सामान लेकर यहां पहुंचे और अब तक 700 रुपये के बैज, पोस्टर बेच चुके हैं। अरोड़ा ने कहा, ‘‘मैं इंडिया गेट पर सामान बेचता था। लेकिन लॉकडाउन के बाद धंधा चल नहीं पाया। इसलिए हमने प्रदर्शन स्थल के पास दुकान चलाने का फैसला किया।’’

आमदनी अच्छी नहीं, लेकिन हो जाता है गुजारा

दिल्ली में ओखला के इलेक्ट्रिशियन अमन भी रोजगार नहीं होने के कारण यहां पर बैज और स्टिकर बेचने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘आमदनी तो बहुत नहीं होती है लेकिन काम चल जाता है। हर दिन 15-20 लोग बैज-स्टिकर खरीदते हैं।’’ उत्तरप्रदेश के लोनी के रहने वाले मोईन (17) और नदीफ (11) भी इसी तरह का काम कर रहे हैं। एक सप्ताह पहले सिंघू पर दुकान शुरू करने वाले मोईन ने कहा, ‘‘हम हर दिन 500 बैज-स्टिकर लाते हैं। इनमें से 300 तक की बिक्री हो जाती है।’’

किसान आंदोलन में दिखा मौका

पिछले पांच साल से सिंघू बॉर्डर पर बिजली के उपकरणों की दुकान चलाने वाले चंदन कुमार भी अपने दुकान में ‘किसान नहीं तो अन्न नहीं’ के नारे वाले स्टिकर और बैज की बिक्री कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘बिजली का काम चल नहीं रहा। मुझे लगा कि किसान आंदोलन के दौरान स्टिकर लेना चाहेंगे। इसलिए मैंने कश्मीरी गेट मार्केट से इसे मंगवाना शुरू किया।’’ पिछले एक महीने से भी ज्यादा समय से दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर हजारों किसान तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

Farmers on SC Order: सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर बोले किसान- ये सरकार की शरारत, हमें आशंका थी यही होगा

farmers protest

सांकेतिक तस्वीर।



Source link

इसे भी पढ़ें

साली का जवाब सुनकर जीजा को आए चक्कर

आदमी अपनी ससुराल पहुंचा, रात में साली ने उसे एक गिलास दूध दियाजीजा - छी, ये कैसा दूध है ?साली - क्यों, क्या...
- Advertisement -

Latest Articles

साली का जवाब सुनकर जीजा को आए चक्कर

आदमी अपनी ससुराल पहुंचा, रात में साली ने उसे एक गिलास दूध दियाजीजा - छी, ये कैसा दूध है ?साली - क्यों, क्या...

Vijay Shankar Marriage: विजय शंकर विवाह बंधन में बंधे, मंगेतर वैशाली विश्‍वेश्‍वर से की शादी

नई दिल्लीटीम इंडिया के ऑलराउंडर विजय शंकर (Vijay Shankar Married to Vaishali Visweswaran) भी विवाहितों की लिस्ट में शामिल हो गए हैं। उन्होंने...

iPhone 13 में होगा DSLR जैसा कैमरा, स्पेसिफिकेशंस डीटेल देखें, इस साल लॉन्चिंग

हाइलाइट्स:इस साल लॉन्च होंगे आईफोन 13 सीरीज के स्मार्टफोन्सडीएसएलआर कैमरे जैसे फीचर्स होंगेऐपल के अपकमिंग फोन में दिखेंगे कई बड़े बदलावनई दिल्ली।दुनिया की...