Friday, February 26, 2021

PIL दाखिल करने पर लगा था 25 लाख रुपये जुर्माना, नहीं भरने पर सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया वारंट

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • बेंच ने कहा ट्रस्ट और उसके अध्यक्ष ने अदालत के अधिकार क्षेत्र का दुरुपयोग किया
  • ट्रस्ट पर देश की किसी भी अदालत में याचिका दायर करने पर लगाई थी पाबंदी
  • वारंट की तामील स्थानीय पुलिस थाने द्वारा की जाएगी और कार्यवाही डिजिटल रूप से होगी

नई दिल्ली
सुप्रीम कोर्ट ने पिछले कुछ वर्षों में बिना किसी सफलता के, और शीर्ष अदालत के अधिकार क्षेत्र का ‘‘बार-बार दुरुपयोग’’ करते हुए 64 जनहित याचिकाएं (पीआईएल) दाखिल करने के लिए लगाये गये 25 लाख रुपये का जुर्माना नहीं भरने पर एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) के अध्यक्ष के खिलाफ जमानती वारंट जारी किये हैं। जस्टिस एस के कौल और जस्टिस हृषिकेश रॉय की एक बेंच ने कहा कि याचिकाकर्ता ट्रस्ट और उसके अध्यक्ष राजीव दहिया ने अदालत के अधिकार क्षेत्र का दुरुपयोग किया है।

शीर्ष अदालत ने पांच दिसंबर, 2017 को 64 जनहित याचिका दायर करने के लिए, एनजीओ सुराज इंडिया ट्रस्ट के खिलाफ दिए गए अपने पहले के आदेश को संशोधित करने से इनकार कर दिया। पीठ ने सुप्रीम कोर्ट के एक मई के आदेश को संशोधित करने के लिए एनजीओ द्वारा दायर याचिका को खारिज कर दिया था। इस आदेश में ट्रस्ट पर देश भर में किसी भी अदालत के समक्ष कोई भी याचिका दायर करने को लेकर पाबंदी लगा दी गई थी।

चूंकि सुप्रीम कोर्ट एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड वेलफेयर ट्रस्ट के समक्ष जुर्माना जमा नहीं किया गया था इसलिए मामले को सुप्रीम कोर्ट के समक्ष फिर से रखा गया और पिछले वर्ष 29 सितम्बर को नोटिस जारी किया गया था। शीर्ष अदालत ने याचिकाकर्ता की चल और अचल संपत्तियों का खुलासा करने के लिए एनजीओ को निर्देश जारी किया था, जिसका अनुपालन नहीं किया गया। पीठ ने कहा, ‘‘राजीव दहिया के पेश होने के लिए 25 हजार रुपये के मुचलके और इतनी ही जमानती राशि पर जमानती वारंट जारी किये जाते हैं।

वारंट की तामील स्थानीय पुलिस थाने द्वारा की जायेगी और कार्यवाही डिजिटल रूप से आयोजित की जाएगी।’’ सुप्रीम कोर्ट ने एक मई, 2017 को दंडात्मक कदम उठाया था और एनजीओ पर भारी जुर्माना लगाते हुए कहा था कि न्यायिक समय की बर्बादी गंभीर चिंता का विषय है। न्यायालय ने कहा था कि सुराज इंडिया ट्रस्ट ने अदालत में 64 याचिकाएं दाखिल की थीं और उसे कोई भी सफलता नहीं मिली।



Source link

इसे भी पढ़ें

किसान आंदोलन पर भारत ने UNHRC को इशारों में सुनाया, कहा- आपके बयान में निष्पक्षता की कमी

हाइलाइट्स:भारत ने यूएनएचआरसी प्रमुख के किसान आंदोलन पर की गई टिप्पणियों की आलोचना कीभारतीय प्रतिनिधि ने कहा- हाई कमिश्नर ने बयानों में निष्पक्षता...

Vijay Hazare Trophy 2021 : क्रुणाल पंड्या के नाबाद शतक से बड़ौदा ने छत्तीसगढ़ को हराया, यूपी ने रेलवे को रौंदा

सूरत/अलुरकप्तान क्रुणाल पांड्या (नाबाद 133) के शानदार शतक से बड़ौदा ने सूरत में शुक्रवार को खेले गए विजय हजारे ट्रोफी (Vijay Hazare Trophy...

मणिपुर: घुटने पर बैठे बच्चों ने किया मुख्यमंत्री का स्वागत! लोगों ने पूछा- मुगल बादशाह हैं क्या?

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह एक तस्वीर को लेकर विवादों में घिर गए हैं। मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने गुरुवार को अपने...
- Advertisement -

Latest Articles

किसान आंदोलन पर भारत ने UNHRC को इशारों में सुनाया, कहा- आपके बयान में निष्पक्षता की कमी

हाइलाइट्स:भारत ने यूएनएचआरसी प्रमुख के किसान आंदोलन पर की गई टिप्पणियों की आलोचना कीभारतीय प्रतिनिधि ने कहा- हाई कमिश्नर ने बयानों में निष्पक्षता...

Vijay Hazare Trophy 2021 : क्रुणाल पंड्या के नाबाद शतक से बड़ौदा ने छत्तीसगढ़ को हराया, यूपी ने रेलवे को रौंदा

सूरत/अलुरकप्तान क्रुणाल पांड्या (नाबाद 133) के शानदार शतक से बड़ौदा ने सूरत में शुक्रवार को खेले गए विजय हजारे ट्रोफी (Vijay Hazare Trophy...

मणिपुर: घुटने पर बैठे बच्चों ने किया मुख्यमंत्री का स्वागत! लोगों ने पूछा- मुगल बादशाह हैं क्या?

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह एक तस्वीर को लेकर विवादों में घिर गए हैं। मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने गुरुवार को अपने...

West Bengal Elections: बंगाल फतह करने को बीजेपी की तैयारी, मैदान में उतारेगी सीनियर नेताओं की फौज

हाइलाइट्स: पश्चिम बंगाल में 8 चरणों में चुनाव का बीजेपी ने किया स्वागतसोनार बांग्ला के नारे के साथ मैदान में उतरेगी पार्टीबीजेपी ने...