Sunday, January 24, 2021

Politics on Bihar Crime : क्राइम कंट्रोल पर BJP कोटे की उपमुख्यमंत्री तक बेबस! गुड गवर्नेंस पर जीरो क्यों साबित हो रहे नीतीश कुमार ?

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • बिहार में बढ़ते अपराध पर BJP खेमे में भी खलबली
  • नई सरकार बने 6 महीने भी नहीं और अपराध चरम पर
  • डिप्टी CM ने SSP को कहा- और कितनी फजीहत कराइएगा?
  • गुड गर्वनेंस पर जीरो क्यों साबित हो रहे नीतीश कुमार?

पटना
बिहार में अपराधी सरेआम, सरेराह, दिनदहाड़े, भरी दुपहरी, शाम, सुबह, रात यानी जहां चाहें वहां मर्डर करते हैं, लूटपाट करते हैं। डिप्टी सीएम से लेकर सांसद और विधायक तक पुलिस और सरकार से गुहार लगाते हैं। सिर्फ गुहार लगा पाते हैं। पुलिस को चेतावनी देते हैं। नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar News) मीटिंग पर मीटिंग करते हैं। क्राइम कंट्रोल करने की हिदायत देते हैं। मगर ग्राउंड पर इसका कोई असर नहीं दिखता। अपराधी अपने मूड और मिजाज के हिसाब से अपना ‘काम’ करते जा रहे हैं।

डिप्टी सीएम पुलिस से गुहार लगा रही है.. इस फोन कॉल के बाद भी अपराध नहीं रुकता। फोन से रुकता भी नहीं है क्योंकि पूरे महकमे में शिथिलता है। आठवीं बार सीएम बनने के 3 महीने बाद भी नीतीश अपने पॉलिटिकल सर्वाइवल पर फोकस कर रहे हैं। अभी तो इसी पर मंथन चल रहा है कि उनकी पार्टी को कम सीटें क्यों मिली। JDU के नेताओं के जेहन में सिर्फ ये है कि उनके बाद पार्टी कौन संभालेगा। बिहार को संभालने का एजेंडा ताक पर रखा जा चुका है। वही नीतीश कुमार जिनके पहले और दूसरे कार्यकाल में अपराधी हथियार छोड़ ठेकेदार बन रहे थे, वही सीएम इतने कमजोर क्यों साबित हो रहे? आखिर गुड गवर्नेंस को लेकर नीतीश पर जीरो का ठप्पा क्यों लग रहा? ऐसे तमाम सवाल हैं जो बिहार में तेजी से चढ़े अपराध के ग्राफ के बाद उठ रहे हैं।

नीतीश का फोकस ‘सर्वाइवल’ पर, अपराध पर नहीं?
बिहार की डिप्टी सीएम रेणु देवी (Bihar Deputy CM Renu Devi) पुलिस से गुहार लगा रही है। सांसद अजय निषाद सुशासन पर सवाल खड़ा करते हैं। सांसद विवेक ठाकुर CBI जांच की मांग करते हैं। कॉल करने और गुहार लगाने से अपराध नहीं रुकता है। अपराध तो सवाल खड़ा करने और CBI जांच की मांग करने से भी नहीं रुकता। तो क्या ये मान लिया जाए की अगर आपको बिहार में रहना है तो इसको झेलना ही होगा? दरअसल जिस विभाग को अपराध पर काबू पाना है उसमें पूरी शिथिलता है। सातवीं बार सीएम बनने के बाद नीतीश कुमार अपने ‘पॉलिटिकल सर्वाइवल’ पर फोकस कर रहे हैं।

नीतीश कुमार का इस बात पर मंथन चल रहा है कि उनकी पार्टी को कम सीटें क्यों मिली? उनके बाद पार्टी कौन संभालेगा? ये जेहन में है। बिहार को संभालने का एजेंडा ताखे पर है। ग्राउंड पर इसका नतीजा भी देखने को मिल रहा है। अपराधी लगातार चुनौती दे रहे हैं। नीतीश कुमार के पहले और दूसरे कार्यकाल में अपराधी हथियार छोड़कर ठेकेदार बन रहे थे। बिहार के आमलोग बातचीत में इसका जिक्र भी करते हैं। मगर मौजूदा हालात ठीक उसके उलट है। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर नीतीश कुमार इतने कमजोर साबित क्यों हो रहे हैं। गुड गवर्नेंस पर जीरो क्यों साबित हो रहे हैं नीतीश कुमार?

बिहार में लॉ एंड ऑर्डर हमेशा से एक बड़ा मुद्दा रहा है। ये हकीकत है कि जब-जब सरकार ने सख्ती दिखाई है, तब-तब हालात थोड़े बेहतर हुए। मगर मौजूदा सरकार में जो सबसे बड़ी पार्टी (BJP) है वो छोटे भाई की रोल में है। जबकि छोटा भाई (JDU) बड़े भाई की भूमिका निभा रहा है। छोटे भाई (JDU) की चिंता है कि मैं छोटा कैसे हो गया? मुझे भी ‘बड़ा’ बनना है। उसका पूरा का पूरा फोकस ‘बड़ा’ होने पर शिफ्ट हो गया है। जबकि संख्या के आधार पर जो ‘बड़ा भाई’ है उसको लगता है कि उसकी जवाबदेही ज्यादा बढ़ गई है। मगर गुहार, सवाल और मांग से हालात बेहतर होते नहीं दिखते।

हमलोगों की और कितनी बदनामी कराएंगे?- डिप्टी सीएम
मुजफ्फरपुर में कारोबारी के मर्डर के बाद जब डिप्टी सीएम रेणु देवी ढांढस बंधाने पहुंची तो सीधे एसएसपी को ही फोन लगा दिया। जयंतकांत से रेणु देवी का सीधा सवाल था कि ‘हमलोगों की और कितनी बदनामी कराएंगे? थाने के बगल में गोली मारकर हत्या कर दी जा रही है, ऐसा क्यों हो रहा है?’ दरअसल 8 जनवरी को नगर थाना इलाके में अपराधियों ने लूटपाट के दौरान मोबाइल फोन कारोबारी अभिषेक की हत्या कर दी थी। तब वो दुकान बंद कर शाम को अपने घर लौट रहे थे। ये सबकुछ थाने से महज 500 मीटर की दूरी पर हुआ था। मुजफ्फरपुर ही नहीं राज्य दूसरे हिस्सों में भी बढ़ते अपराध से सरकार की किरकिरी हो रही है। अपराधियों पर काबू पाने में पुलिस नाकाम साबित हो रही है।

डिप्टी सीएम रेणु देवी से पहले मुजफ्फरपुर के सांसद और बिहार बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष अजय निषाद ने भी ‘सुशासन’ पर सवाल उठाया था। सीधे-सीधे नीतीश कुमार को अपने निशाने पर रखा था। उन्होंने कहा था कि ‘सरकार को सख्त फैसले लेने होंगे। नीतीश कुमार क्राइम कंट्रोल को लेकर मीटिंग कर रहे हैं। लेकिन पुलिस का खौफ खत्म हो चुका है। राज्य में क्राइम लगातार बढ़ रहा है। अपराधी बेखौफ हो कर वारदात को अंजाम दे रहे हैं। टीम वर्क कहीं नहीं दिख रहा है। बिहार की पुलिस सिर्फ शराब और बालू पकड़ने में लगी हुई है। हम सुशासन के नाम पर जनता का वोट लेकर आए हैं। अगर अपराधी नहीं पकड़े जाएंगे तो आमलोगों के साथ हम न्याय कैसे कर पाएंगे?’

रूपेश सिंह हत्याकांड की CBI जांच की मांग
पटना के पुनाईचक में इंडिगो के स्टेशन मैनेजर रूपेश सिंह (Rupesh Murder in Patna) की उनके अपार्टमेंट के बाहर हत्या कर दी गई। इस वारदात के बाद एक बार फिर सत्ताधारी पार्टी बीजेपी बिलबिला उठी। बिहार के पुलिस महकमे पर सवाल उठाया। बीजेपी के राज्यसभा सांसद विवेक ठाकुर ने कहा कि बिना किसी आपराधिक पृष्ठभूमि वाले व्यक्ति की गोली मारकर हत्या होना दुर्भाग्यपूर्ण है। एनडीए की नवनिर्वाचित सरकार के लिए चुनौतीपूर्ण है। पुलिस को 3-5 दिन के अंदर एक निष्कर्ष पर आना ही पड़ेगा। बिहार पुलिस अपनी काबिलियत से हालात का जायजा ले और अगर सफलता दूर लगे तो केस को तुरंत CBI को सौंप दे।

मंगलवार शाम को रूपेश अपने कार से घर लौट रहे थे। तभी पहले से घात लगाए बाइक सवार दो बदमाशों ने उनके अपार्टमेंट के सामने ही ताबड़तोड़ फायरिंग की। रूपेश सिंह को एक के बाद एक 6 गोलियां मारी गई। इसके बाद अपराधी हथियार लहराते हुए फरार हो गए। गोलियों की आवाज सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। अस्‍पताल भी ले जाया गया। मगर जान नहीं बच सकी।

तेजस्वी ने मांगा नीतीश कुमार से इस्तीफा
अपराध की घटनाओं को लेकर बिहार की सियासत गरमा गई है। इस वारदात के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक बार फिर विपक्ष के निशाने पर आ गए हैं। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejwani Yadav) ने ट्वीट करके कहा कि ‘अनैतिक और अवैध सरकार के संरक्षण में अपराधों और दुष्कर्मों की प्रतिदिन संख्या बढ़ना NDA की सामूहिक विफलता है। नीतीश जी के द्वारा अपराधों को छिपाने की चेष्टा एवं उसे स्वीकार नहीं करना ही बड़ा अपराध और अपराधियों के लिए रामबाण है। उनसे बिहार नहीं संभल रहा, वो अविलंब इस्तीफा दें।’



Source link

इसे भी पढ़ें

Tata Harrier समेत महंगी हो गई ये 5 धांसू कारें, यहां जाने पूरी डीटेल

नई दिल्ली Tata Motors ने 21 जनवरी से अपने पूरे प्रॉडक्ट पोर्टफोलियो की कीमत बढ़ा दी है। कंपनी ने अपनी कारों की कीमत...

OnePlus 9 के अहम फीचर्स और स्पेसिफिकेशन्स लीक

नई दिल्लीOnePlus के आने वाले फ्लैगशिप स्मार्टफोन्स के बारे में लगातार जानकारियां सामने आ रही हैं। OnePlus 9 और OnePlus 9 Pro के...

आकाशगंगा में दुर्लभ ‘चक्कर’ की खोज, एक-दूसरे पर ग्रहण लगाते घूम रहे हैं 6 सितारे

वॉशिंगटनअंतरिक्ष में सितारों के एक-दूसरे का चक्कर काटने के बारे में आपने सुना होगा लेकिन एक स्टार-सिस्टम ऐसा भी है जिसमें एक-दो नहीं...
- Advertisement -

Latest Articles

Tata Harrier समेत महंगी हो गई ये 5 धांसू कारें, यहां जाने पूरी डीटेल

नई दिल्ली Tata Motors ने 21 जनवरी से अपने पूरे प्रॉडक्ट पोर्टफोलियो की कीमत बढ़ा दी है। कंपनी ने अपनी कारों की कीमत...

OnePlus 9 के अहम फीचर्स और स्पेसिफिकेशन्स लीक

नई दिल्लीOnePlus के आने वाले फ्लैगशिप स्मार्टफोन्स के बारे में लगातार जानकारियां सामने आ रही हैं। OnePlus 9 और OnePlus 9 Pro के...

आकाशगंगा में दुर्लभ ‘चक्कर’ की खोज, एक-दूसरे पर ग्रहण लगाते घूम रहे हैं 6 सितारे

वॉशिंगटनअंतरिक्ष में सितारों के एक-दूसरे का चक्कर काटने के बारे में आपने सुना होगा लेकिन एक स्टार-सिस्टम ऐसा भी है जिसमें एक-दो नहीं...

Blue Jet: बादलों के पार, अंतरिक्ष से दिखी धरती पर कड़कती बिजली, दुर्लभ नजारे का क्या असर मुमकिन?

धरती से देखे जाने पर कड़कती बिजली जितनी खतरनाक दिखती है उतनी ही रोमांचक भी। हालांकि, अंतरिक्ष से इसका नजारा कुछ अलग ही...