Monday, March 8, 2021

Red Fort Violence : पंजाब के गैंगस्टर लखबीर सिंह लक्खा को ढूंढ रहीं छह स्पेशल टीमें, 1 लाख रुपये का इनाम घोषित

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली के दौरान उत्पातियों ने लाल किले में हिंसा की थी
  • कभी पंजाब का कुख्यात अपराधी रहा लखबीर सिंह लक्खा भी इसमें शामिल था
  • पुलिस की छह टीमें लक्खा की तलाश में जुटी हैं, उस पर इनाम की भी घोषणा की गई है

नई दिल्ली
दिल्ली पुलिस ने पंजाब के गैंगस्टर लखबीर सिंह लक्खा उर्फ लक्खा सिधाना पर 1 लाख रुपये इनाम की घोषणा की है। पुलिस को उसकी सूचना देने वाले को यह रकम दी जाएगी। लक्खा 26 जनवरी को लाल किले में हुई हिंसा में शामिल था। उस दिन दिल्ली पुलिस के जवानों पर बर्बरता करने वाले और चार आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं।

वीडियो के जरिए पुलिस को गुमारह करने की कोशिश
दिल्ली पुलिस ने बताया कि क्राइम ब्रांच और स्पेशल सेल की छह टीमें लक्खा को खोज रही है। उसके सिर पर इनाम की घोषणा पिछले हफ्ते की गई थी। कहा जा रहा है कि सिधाना सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शनकारियों के बीच छिपा है। पिछले हफ्ते उसे टिकरी बॉर्डर के एक वीडियो में देखा गया था, लेकिन सूत्रों का कहना है कि वह जानबूझ कर वीडियो में दिखा ताकि पुलिस को गुमराह किया जा सके।

लक्खा पर दर्जनों मुकदमे

एक अधिकारी ने कहा, “वो पंजाब के भटिंडा जिले के सिधाना गांव का रहने वाला है। एक वक्त वह पंजाब का सबसे कुख्यात गैंगस्टर हुआ करता था। उस पर दो दर्जन से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं। इनमें हत्या, हत्या की कोशिश, बूथ कैप्चरिंग, लूट और अवैध हथियार रखने जैसे मामले शामिल हैं।”

लाल किला हिंसा में अब तक 150 से ज्यादा गिरफ्तार
उधर, क्राइम ब्रांच दीप सिद्धू और इकबाल सिंह को लाल किले पर ले गई ताकि वो ट्रैक्टर रैली के दिन की घटना की विस्तृत जानकारी जुटा सके। दोनों को शाहदरा के मंडोली समेत कई अन्य जगहों पर ले जाया गया जहां उनके मोबाइल लोकेशन मिले हैं। वहीं, पुलिस ने ट्रैक्टर रैली हिंसा के तीन और आरोपियों को गिरफ्तार कर तिहाड़ जेल भेज दिया है। इनके नाम सुखमीत सिंह (35), गनदीप सिंह (33) और हरविंदर सिंह (32) हैं।

इन पर बुराड़ी में पुलिस जवानों पर हमला करने का आरोप है। ध्यान रहे कि लाल किले की तरफ बढ़ रहे उत्पातियों के एक समूह को रोकने के लिए बुराड़ी में बैरिकेड लगाए गए थे जहां पुलिस टीम पर हमला कर दिया गया था। बुराड़ी फ्लाइओवर पर हुए हमले में कम से कम 30 जवान घायल हो गए थे।

पुलिस ने इस केस में 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। सूत्रों की मानें तो इस तरह दिल्ली की ट्रैक्टर रैली हिंसा में अब तक 150 से ज्यादा गिरफ्तारियां हो चुकी हैं। हिंसा में 530 से ज्यादा पुलिस वाले घायल हो गए थे।



Source link

इसे भी पढ़ें

सुबह न राज्यसभा चली ना शाम में लोकसभा, हंगामे कारण स्थगित करनी पड़ी कार्यवाही

नई दिल्ली बजट सत्र के दूसरे चरण की शुरुआत सोमवार को अनुमान के मुताबिक हंगामेदार रही। विपक्षी दलों ने पहले दिन संसद में पेट्रोल-डीजल...
- Advertisement -

Latest Articles

सुबह न राज्यसभा चली ना शाम में लोकसभा, हंगामे कारण स्थगित करनी पड़ी कार्यवाही

नई दिल्ली बजट सत्र के दूसरे चरण की शुरुआत सोमवार को अनुमान के मुताबिक हंगामेदार रही। विपक्षी दलों ने पहले दिन संसद में पेट्रोल-डीजल...