Thursday, February 25, 2021

Shabnam Hanging Case: जेल में अपने आखिरी दिन गिन रही शबनम के पास अब क्या बचे हैं विकल्प?

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • अपने ही परिवार के 7 लोगों की हत्या करने वाली शबनम ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के पास दया याचिका भेजी
  • इससे पहले सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रपति के पास से दया याचिका खारिज हो चुकी है, नाबालिग बेटे ने भी की अपील
  • आज शबनम रामपुर जेल में बंद है और अपनी फांसी की सजा का इंतजार कर रही है, डेथ वारंट जारी होने वाला है

अमरोहा
प्रेमी के साथ मिलकर अपने ही परिवार के 7 लोगों की हत्या करने वाली शबनम ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के पास दया याचिका भेजी है। शबनम को उम्मीद है कि शायद उसे इस बार माफी मिल जाए। हालांकि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रपति के पास से दया याचिका खारिज हो चुकी है लेकिन इस जघन्य हत्याकांड के दोषी शबनम और सलीम के पास अभी भी विकल्प मौजूद हैं।

इस केस में अमरोहा की जिला अदालत ने 2010 में दोनों को फांसी की सजा सुनाई थी। हाईकोर्ट ने भी फांसी की सजा दी थी। 2015 में मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा तो वहां भी लोअर कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा गया। राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी की ओर से भी 11 अगस्‍त 2016 को शबनम की दया याचिका को ठुकरा दिया गया था।

पढ़ें: शबनम ने की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से माफी की मांग, क्या टल जाएगी फांसी?

राज्यपाल के माध्यम से राष्ट्रपति के पास भेजी जाएगी याचिका

साल 2019 में सुप्रीम कोर्ट से शबनम की फांसी की पुनर्विचार याचिका भी खारिज हो गई थी। आज शबनम रामपुर जेल में बंद है और अपनी फांसी की सजा का इंतजार कर रही है। अब शबनम से राज्यपाल के माध्यम से राष्ट्रपति के पास अपनी याचिका भिजवाई है तो वहीं उसके बेटे ने भी राष्ट्रपति से मां के लिए दया की गुहार लगाई है। शबनम का बेटा नाबालिग है और मां से मिलने जेल जाता रहता है।

राज्यपाल के पास दया याचिका भेजने का विकल्प
बता दें कि सुप्रीम कोर्ट से फांसी की सजा मिलने के बाद कोई भी शख्स, विदेशी नागरिक अपराधी के लिए राष्ट्रपति के दफ्तर या गृह मंत्रालय को दया याचिका भेज सकता है। इसके अलावा संबंधित राज्य के राज्यपाल को भी दया याचिका भेजी जा सकती है। राज्यपाल अपने पास आने वाली दया याचिकाओं को गृह मंत्रालय को भेज देते हैं।

पढ़ें: जिला जज से मांगा गया शबनम का डेथ वॉरंट, जानें क्या है फांसी का प्रॉसेस और शबनम के मामले में अब तक क्या हुआ?

फांसी पाने वाली आजाद भारत की पहली महिला होगी
इन दो अपीलों के बाद शबनम के पास फिलहाल उम्मीद बची है कि शायद उसे राष्ट्रपति से राहत मिल जाए। हालांकि अगर राष्ट्रपति रिव्यू पिटिशन में फैसला बरकरार रखते हैं तो शबनम फांसी की सजा पाने वाली आजाद भारत की पहली महिला होगी। उधर शबनम की फांसी के लिए मथुरा की महिला जेल में तैयारियां पूरी होने की खबर थी लेकिन जेल प्रशासन का कहना है कि फिलहाल उसके पास ऐसी जानकारी नहीं है।

जेल में चुपचाप रहने लगी है शबनम
शबनम का डेथ वारंट का कभी भी जारी हो सकता है और शबनम को किसी भी वक्त फांसी पर लटकाया जा सकता है। रामपुर जेल सुपरिटेंडेंट का कहना है कि शबनम को आभास हो गया है कि मौत का फरमान कभी भी आ सकता है। आजकल वह जेल में वह चुपचाप रहती है। किसी से ज्यादा बात नहीं करती है। इससे पहले वह जेल की महिलाओं को सिलाई सिखाती थी और उनके बच्चों को भी पढ़ाती थी।



Source link

इसे भी पढ़ें

Facebook, Google को लगा बड़ा झटका, मीडिया कंपनियों को चुकाने होंगे पैसे

हाइलाइट्स:ऑस्ट्रेलिया ऐसा कानून लाने वाला पहला देश बनाफेसबुक ने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में न्यूज़ कॉन्टेन्ट बैन कर दिया थाकंपनियों को सरकार द्वारा...
- Advertisement -

Latest Articles

Facebook, Google को लगा बड़ा झटका, मीडिया कंपनियों को चुकाने होंगे पैसे

हाइलाइट्स:ऑस्ट्रेलिया ऐसा कानून लाने वाला पहला देश बनाफेसबुक ने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में न्यूज़ कॉन्टेन्ट बैन कर दिया थाकंपनियों को सरकार द्वारा...

Maruti Swift नई Vs पुरानी: किसमें कितना दम

नई दिल्लीMaruti Suzuki ने बीत बुधवार को अपनी अपडेटेड स्विफ्ट हैचबैक लॉन्च की। कार की शुरुआती कीमत 5.73 लाख रुपये है। नए मॉडल...