Tuesday, January 19, 2021

West Bengal Assembly Election: बंगाल में विवेकानंद जयंती पर सियासी जंग! ममता से लेकर विजयवर्गीय…चुनावी मौसम में क्यों आए याद?

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • बंगाल में अब स्वामी विवेकानंद को अपना बताने की जंग
  • इस साल होने है पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव
  • बीजेपी ने विवेकानंद को बताया अपना तो टीएमसी समेत ममता बनर्जी ने भी किया दावा
  • बंगाल में विवेकानंद के जरिए टीएमसी और बीजेपी में घमासान

कोलकाता
बंगाल की सियासत में इन दिनों महान विचारक स्‍वामी विवेकानंद की गूंज खूब सुनाई दे रही है। दरअसल, स्‍वामी विवेकानंद की जयंती आज (12 जनवरी) है और बंगाल के चुनावी मौसम में वे खूब याद किए जा रहे हैं। इसे देश भर में राष्‍ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। बंगाल में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं। स्वामी विवेकानंद यहीं के रहने वाले थे। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से लेकर बीजेपी के बीच स्वामी विवेकानंद को अपना बनाने की होड़ लगी है।

पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की ओर से राजनीतिक लाभ के लिए श्री रामकृष्ण और स्वामी विवेकानंद जैसी बंगाल की महान विभूतियों का उल्लेख करना एक तरह से विडंबना है क्योंकि इनके विचार पार्टी की दृष्टि और उद्देश्यों से मेल नहीं खाती। तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ब्रत्य बसु ने स्वामी विवेकानंद की जयंती की पूर्व संध्या पर कहा कि श्री रामकृष्ण ने एक बार कहा था ‘जातो मत ततो पथ..’ जिसका संक्षिप्त मतलब बहुलवाद है, जिसमें बीजेपी का विश्वास नहीं है।

ममता, सुवेंदु ओर कैलाश विजयवर्गीय ने किया ट्वीट
राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने स्वामी विवेकानंद को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उनके विश्व बंधुत्व के सिद्धांत की देश में आज और भी ज्यादा जरूरत है। वहीं हाल ही में टीएमसी छोड़ बीजेपी में शामिल हुए सुवेंदु अधिकारी ने कहा कि स्वामी विवेकानंद बंगाल की माटी के सपूत थे जिन्होंने बंगाल को गर्व का एहसास कराया। इसके अलावा बीजेपी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने भी ट्वीट किया।

ममता का बीजेपी पर इशारों में हमला
ममता बनर्जी ने स्वामी विवेकानंद के सहारे बीजेपी पर कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकांद भाईचारे की बाद करते थे। उन्होंने ट्वीट किया, ‘महान नेता स्वामी विवेकानंद को उनकी जयंती पर याद करती हूं। मैं स्वामी जी की शिक्षाओं को नमन करती हूं। शांति और सार्वभौमिक भाईचारे का उनका संदेश आज अत्यंत प्रासंगिक है और हम सभी को अपने प्रिय राष्ट्र में इन आदर्शों की रक्षा के लिए कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित करता है।’

कैलाश विजयवर्गीय ने यूं किया याद
बंगाल के प्रभारी बीजेपी के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय कोलकाता पहुंचे और यहां उन्होंने स्वामी विवेकानंद को याद किया। उन्होंने ट्वीट किया, ‘आज कोलकाता में युवाओं के प्रेरणास्रोत स्वामी विवेकानंद जी की जयंती के अवसर पर उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। वेदांत के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु, अमेरिका में सन् 1893 में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व करने वाली महान विभूति स्वामी विवेकानंद जी के जन्मदिन पर कोटि-कोटि नमन!’

स्वामी विवेकानंद

बंगाल बीजेपी ने कहा- उठो, जागो, मत रुको
बंगाल बीजेपी ने लिखा, ‘उठो, जागो, तब तक मत रुको जब तक आप लक्ष्य तक नहीं पहुंच जाते। वीर भिक्षु स्वामी विवेकानंद के शब्दों को आज भी युवाओं को नई गति देनी चाहिए। इस महान दार्शनिक के जन्मदिन पर मैं अपनी ईमानदारी से सम्मान और राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए शुभकामनाएं देना चाहता हूं।’

‘बंगाल की माटी ने दिया सच्चा पुत्र’

वहीं सुवेंदु अधिकारी ने स्वामी विवेकानंद पर एक के बाद एक कई ट्वीट किए। उन्होंने लिखा, ‘स्वामी जी एक ऐसे शख्स थे जो अपने जीवन के दौरान भारत को सदियों आगे तक ले गए। हम अपने जीवन के कुछ साल देश को देकर थोड़ा योगदान दे सकते हैं। बंगाल की मिट्टी ने हमें एक सच्चा पुत्र दिया है। पश्चिम बंगाल का निर्माण करना हमारा भी सपना है जिस पर उन्हें गर्व होगा।’

सुवेंदु ने लिखा, ‘स्वामी जी अपनी एक-एक सांस राष्ट्र को समर्पित किया। उनके कालजयी विचार- जो आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं जितने कि वे 19 वीं सदी में थे। हमारा हमेशा मार्गदर्शन करते हैं। जहां पश्चिम बंगाल को उनकी जननी भूमि होने का सम्मान प्राप्त है, वहीं पूरे राष्ट्र को उनके कर्मभूमि होने का सौभाग्य प्राप्त है।’

ममता बनर्जी का ऐलान, फ्री में लगवाएंगे कोरोना की वैक्‍सीन



Source link

इसे भी पढ़ें

- Advertisement -

Latest Articles

साली ने जीजा से मांगी सैलरी

सोनू- औरतें बड़ी चालाक हो गई हैं मोनू- क्यों क्या हुआ बता सोनू- कल मैंने अपनी साली से मजाक में कहा कि साली तो आधी...