Sunday, June 13, 2021

West Bengal News: केंद्र से रस्‍साकसी के बीच बंगाल के मुख्‍य सचिव अलपन बंदोपाध्याय ने लिया रिटायरमेंट, CM ममता के विशेष सलाहकार बने

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • पश्चिम बंगाल के मुख्‍य सचिव अलपन बंद्योपाध्याय ने लिया रिटायरमेंट
  • बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बनाया अपना सलाहकार
  • तीन महीने सेवा विस्‍तार देकर केंद्र ने कहा था रिपोर्ट करने के लिए
  • अलपन को लेकर जारी थी केंद्र और ममता सरकार के बीच रस्‍साकसी

कोलकाता
केंद्र सरकार और मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी के बीच जारी रस्‍साकसी के बाद पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय ने सोमवार को रिटायरमेंट ले लिया। 31 मई को ही उनका कार्यकाल समाप्त हो रहा था जो तीन महीनों के लिए बढ़ाया गया था। उन्हें केंद्र सरकार ने वापस बुला लिया था, लेकिन वे नहीं गए। अब ममता बनर्जी ने उन्हें अपना विशेष सलाहकार नियुक्त किया है। वह अगले तीन साल तक इस पद पर रहेंगे। वहीं, अपर मुख्य सचिव गृह एचके द्विवेदी को बंगाल का नया मुख्‍य सचिव बनाया गया है।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल काडर के 1987 बैच के आईएएस अधिकारी बंदोपाध्याय 60 वर्ष की आयु पूरी करने के बाद 31 मई को रिटायर होने वाले थे। हालांकि, केंद्र से मंजूरी के बाद उन्हें तीन महीने का सेवा विस्तार दिया गया था। सेवा विस्तार दिए जाने के सिर्फ चार दिन बाद ही केंद्र सरकार ने उनकी सेवाएं मांगी। ममता सरकार से कहा गया कि अपने मुख्‍य सचिव को तुरंत कार्यमुक्त करे। तृणमूल कांग्रेस सरकार ने इस कदम को जबरन प्रतिनियुक्ति करार दिया।

केंद्र ने बुलाया था पर नहीं आए बंगाल के चीफ सेक्रेटरी अलपन बंदोपाध्‍याय, ऐक्‍शन लेने की तैयारी में DoPT
31 मई की सुबह केंद्र को रिपोर्ट करना था
अलपन बंद्योपाध्याय को 31 मई की सुबह 10 बजे से पहले से केंद्र सरकार को रिपोर्ट करने के लिए कहा गया था। मगर बंदोपाध्याय की जगह मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी की चिट्ठी केंद्र को मिली। ममता ने कहा कि ऐसे मुश्‍किल समय में पश्चिम बंगाल की सरकार अपने मुख्‍य सचिव को कार्यमुक्‍त नहीं कर सकती।

Mamata Banerjee: ममता ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिख मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय को दिल्ली भेजने से किया इनकार, आदेश पर पुनर्विचार करने को कहा
दिल्‍ली नहीं जाएंगे अलपन, तानाशाह की तरह व्‍यवहार कर रहे अमित शाह: ममता
वहीं, मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी का कहना है- ‘मैं अलपन बंदोपाध्याय को बंगाल छोड़ने नहीं दूंगी। वह अब मुख्यमंत्री के मुख्य सलाहकार हैं। अब वह दिल्‍ली नहीं जाएंगे। केंद्र किसी अधिकारी को राज्य सरकार की सहमति के बिना जॉइन करने के लिए बाध्य नहीं कर सकता। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह हिटलर, स्टालिन जैसे तानाशाहों की तरह व्यवहार कर रहे हैं।’ इससे पहले ममता ने सोमवार को तूफान से हुए नुकसान को लेकर एक समीक्षा बैठक की। इस दौरान उन्‍होंने कहा मैंने चक्रवात प्रभावित दीघा का दौरा किया है। यहां अलपन बंद्योपाध्याय की जिम्मेदारी है। मछुआरों के मुआवजे के बारे में सोचा जाना चाहिए। बैठक में बंद्योपाध्याय भी मौजूद रहे।

केंद्र को लिखे पत्र में ममता बनर्जी ने क्‍या कहा था ?
ममता बनर्जी ने पत्र में कहा था-‘पश्चिम बंगाल सरकार ऐसी मुश्किल घड़ी में अपने मुख्य सचिव को रिहा नहीं कर सकती और न ही रिहा कर रही है।’ बनर्जी ने केंद्र के इस फैसले को वापस लेने, पुनर्विचार करने और आदेश को रद करने का अनुरोध किया। इससे पहले शनिवार को ममता ने कहा था, “उनकी (अलपन बंदोपाध्याय) क्या गलती है? मुख्य सचिव होने के नाते, मेरी सहायता करना उनका कर्तव्य है। उन्हें मेरे खिलाफ बहुत सारी शिकायतें हो सकती हैं और वे अलग-अलग तरीकों से मेरा अपमान कर रहे हैं। मैंने इसे स्वीकार कर लिया है, लेकिन उन्हें (बंदोपाध्याय) क्यों पीड़ित किया जा रहा है? वह ईमानदार हैं और चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं।

मुख्‍य सचिव हुए रिटायर

मुख्‍य सचिव हुए रिटायर



Source link

इसे भी पढ़ें

खत्म हुआ इंतजार ! अगले महीने लॉन्च हो रही 7 सीटर ‘देसी’ SUV

नई दिल्लीस्वदेशी कार निर्माता कंपनी महिंद्रा ऐंड महिंद्रा (Mahindra & Mahindra) की 7 सीटर एसयूवी Mahindra XUV700 अब टेस्टिंग के आखिरी पेज में...
- Advertisement -

Latest Articles

खत्म हुआ इंतजार ! अगले महीने लॉन्च हो रही 7 सीटर ‘देसी’ SUV

नई दिल्लीस्वदेशी कार निर्माता कंपनी महिंद्रा ऐंड महिंद्रा (Mahindra & Mahindra) की 7 सीटर एसयूवी Mahindra XUV700 अब टेस्टिंग के आखिरी पेज में...

जल्द भारत आ सकता है एक और ताकतवर स्मार्टफोन Vivo V21e 5G, सामने आए फीचर्स

Vivo V21e 5G Specifications: हैंडसेट निर्माता कंपनी Vivo ने पिछले सप्ताह भारत में अपने लेटेस्ट स्मार्टफोन Vivo Y73 2021 को उतारा था और...