Sunday, February 28, 2021

भगवान गणेश का चमत्कारिक मंदिर, यहां प्यार के लिए फरियाद करते हैं प्रेमी जोड़े, लगती है मोहब्बत की अर्जियां

- Advertisement -


यहां कई जोड़े अपनी शादी की मुराद लेकर आते हैं…

यूं तो सभी मंदिरों में लोग भगवान की पूजा करने व आशीर्वाद प्राप्त करने जाते हैं। लेकिन इनमें भी कुछ मंदिरों को लेकर कुछ खास आशीर्वाद की कामना को लेकर लोग पहुंचते हैं। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बता रहे हैं,जिसके संबंध में मान्यता है कि जब प्रेमी जोड़े शादी की मनोकामना लेकर आते हैं तो भगवान उनकी अवश्य सुनते हैं।

दरअसल हर प्रेमी जोड़ा चाहता है उसका प्रेम उसके साथ हमेशा रहे और दोनों एक दूसरे के साथ जीवन बिताएं। लेकिन ऐसा हर किसी के साथ नहीं हो पाता, कई बार जहां लोग काफी जद्दोजहद करने पर भी अपने प्यार को नहीं हासिल कर पाते। वहीं कई बार आपके घर वाले आपके रिश्ते को स्वीकार नहीं करते हैं। तो ज्यादा परेशान होने की ज्यादा जरूरत नहीं है,क्याोंकि आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां के बारे में मान्यता है कि यहां फरियाद करने से हर मनोकामना पूरी हो जाती है।

जी हां, हम बात कर रहे हैं जोधपुर के इश्किया गजानंद मंदिर। शहर के परकोटे में स्थित यह गणेश जी का मंदिर भी प्रेमी जोड़ों के लिए काफी महत्वपूर्ण हैं। यहां कई जोड़े अपनी शादी की मुराद लेकर आते हैं, इसी कारण स्थानीय लोग इस गणेश मंदिर को इश्किया गजानन का मंदिर कहते हैं।

बताया जाता है कि यंहां प्रेमी जोड़ों की हर मुराद पूरी होती है। यहां प्रेमी जोडे अपने प्यार की फरियाद लेकर पहुंचते है। यही कारण है कि भगवान गणेश के इस मंदिर को ‘इश्किया गजानन मंदिर’ के नाम से जाना जाता है। साथ ही इस मंदिर में श्रद्धालुओं में बुजुर्गों से ज्यादा युवा आते हैं।

जोधपुर शहर के परकोटे के भीतर आडा बाजार जूनी मंडी में स्थित इस मंदिर में युवा अपने रिश्ते की मनोकामना लिए गजानंद भगवान के दर्शन करने पहुंचते है। मान्यता है कि शादी की चाह रखने वाले युवा अगर इस मंदिर में आकर मन्नत मांगते हैं तो उनकी रिश्ता जल्द ही तय हो जाता है। यहां मन्नत मांगने पर रिश्ता बहुत जल्दी तय हो जाता है।

इस नाम से पहले गणेश जी के इस मंदिर को गुरु गणपति के नाम से जाना जाता था। स्थानीय लोगों की मानें तो शादी से पहले प्रेमी जोड़ा पहली मुलाकात के लिए इस मंदिर में आया करते थे। लोग बताते हैं कि शादी से पहले कपल्स पहली मुलाकात करने के यहां आया करते थे। बाद में यहां प्रेमी जोड़े भी आने लगे।

लोग कहते हैं कि जब गणपति प्रेमी जोड़े की मुरादें पूरी करने लगे तो यह मंदिर इश्किया गजानन के नाम से मशहूर हो गया। बताया जाता है कि यहां आनेवाले अधिकांश जोड़े अपने प्यार की फरियाद लेकर पहुंचते हैं और दुआ मांगते हैं कि उनकी शादी हो जाए।

कहा जाता है कि इश्किया गजानन यहां आनेवाले सभी फरियादियों की मनोकामना पूरी करते हैं। इस कारण यहां प्रत्येक बुधवार को प्रेमी युगलों का जमावड़ा लगा रहता। यह ऐसे स्थान पर बना हुआ है कि इसके आगे खड़े लोग दूर से किसी को आसानी से नजर नहीं आते। वहीं इस मंदिर के संबंध में कहा जाता है कि यहां के पूजारी और उनके परिवार के सदस्यों को खुदाई में एक गणपति प्रतिमा मिली थी। इस प्रतिमा को पहले एक पीपल के नीचे प्रतिष्ठित कर दिया गया। बाद में यहां पर एक मंदिर में इसे स्थापित किया गया। बरसों से लोगों की मान्यता इस मंदिर के प्रति बढ़ती जा रही है।















Source link

इसे भी पढ़ें

पिच विवाद पर इंग्लैंड के कोच जोनाथन ट्रॉट ने दिया ऐसा जवाब, भारतीय फैंस हो जाएंगे फिदा

अहमदाबादमोटेरा की पिच बल्लेबाजी के लिए आसान नहीं थी लेकिन इंग्लैंड के बल्लेबाजी कोच जोनाथन ट्रॉट का मानना है कि अपने कौशल पर...

भारतीय टीम की मानसिकता 90 के दशक की ऑस्ट्रेलियाई टीम की तरह: डेरेन गॉ

लंदनइंग्लैंड के पूर्व तेज गेंदबाज डेरेन गॉ ने मौजूदा भारतीय टीम की तुलना 1990 के दशक की ऑस्ट्रेलियाई टीम की मानसिकता से करते...
- Advertisement -

Latest Articles

पिच विवाद पर इंग्लैंड के कोच जोनाथन ट्रॉट ने दिया ऐसा जवाब, भारतीय फैंस हो जाएंगे फिदा

अहमदाबादमोटेरा की पिच बल्लेबाजी के लिए आसान नहीं थी लेकिन इंग्लैंड के बल्लेबाजी कोच जोनाथन ट्रॉट का मानना है कि अपने कौशल पर...

भारतीय टीम की मानसिकता 90 के दशक की ऑस्ट्रेलियाई टीम की तरह: डेरेन गॉ

लंदनइंग्लैंड के पूर्व तेज गेंदबाज डेरेन गॉ ने मौजूदा भारतीय टीम की तुलना 1990 के दशक की ऑस्ट्रेलियाई टीम की मानसिकता से करते...