Tuesday, March 2, 2021

2021 श्रावण अमावस्या : कब है? जानें तारीख और शुभ समय

- Advertisement -


2021 में कुल 14 अमावस्या…

हिन्दू पंचांग के अनुसार श्रावण मास में आने वाली अमावस्या को श्रावणी अमावस्या कहा जाता है, चूंकि इस मास से सावन महीने की शुरुआत होती है, इसलिए इसे हरियाली अमावस्या भी कहते हैं। प्रत्येक अमावस्या की तरह श्रावणी अमावस्या पर भी पितरों की शांति के लिए पिंडदान और दान-धर्म करने का महत्व है। इस साल यानि 2021 में श्रावण अमावस्या 8 अगस्त, 2021 (रविवार) को पड़ रही है।

श्रावण अमावस्या मुहूर्त 2021…
अमावस्या तिथि की शुरुआज 19:13:35 से अगस्त 7, 2021 से
अमावस्या तिथि समाप्ति 19:21:46 को अगस्त 8, 2021 तक

अमावस्या के दिन नदी में स्नान कर दान-पुण्य और पितृ तर्पण करना लाभकारी माना जाता है। मान्यता है कि अमावस्या तिथि को व्यक्ति को बुरे कर्म और नकारात्मक विचारों से भी दूर रहना चाहिए। इस साल यानि 2021 में कुल 14 अमावस्या पड़ेंगी। साल की पहली अमावस्या 12 जनवरी को पड़ी।

श्रावण अमावस्या व्रत और धार्मिक कर्म
सावन मास में बारिश के आगमन से धरती का कोना-कोना हरा-भरा होकर खिल उठता है। चूंकि श्रावण अमावस्या पर पेड़-पौधों को नया जीवन मिलता है और इनकी वजह से ही मानव जीवन सुरक्षित रहता है, इसलिए प्राकृतिक दृष्टिकोण से भी हरियाली अमावस्या का बहुत महत्व है। इस दिन किये जाने वाले धार्मिक कर्म इस प्रकार हैं-

: इस दिन नदी, जलाशय या कुंड आदि में स्नान करें और सूर्य देव को अर्घ्य देने के बाद पितरों के निमित्त तर्पण करें।
: पितरों की आत्मा की शांति के लिए उपवास करें और किसी गरीब व्यक्ति को दान-दक्षिणा दें।
: इस दिन पीपल के वृक्ष की पूजा की जाती है और इसके फेरे लिये जाते हैं।
: हरियाली अमावस्या पर पीपल, बरगद, केला, नींबू, तुलसी आदि का वृक्षारोपण करना शुभ माना जाता है। क्योंकि इन वृक्षों में देवताओं का वास माना जाता है।
: वृक्षारोपण के लिये उत्तरा फाल्गुनी, उत्तराषाढ़ा, उत्तरा भाद्रपदा, रोहिणी, मृगशिरा, रेवती, चित्रा, अनुराधा, मूल, विशाखा, पुष्य, श्रवण, अश्विनी, हस्त आदि नक्षत्र श्रेष्ठ व शुभ फलदायी माने जाते हैं।

: किसी नदी या तालाब में जाकर मछली को आटे की गोलियां खिलाएं अपने घर के पास चींटियों को चीनी या सूखा आटा खिलाएं।
: सावन हरियाली अमावस्या के दिन हनुमान मंदिर जाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें। साथ ही हनुमानजी को सिंदूर और चमेली का तेल चढ़ाएं।

श्रावण अमावस्या का महत्व Importance of Sawan Amavasya
धार्मिक और प्राकृतिक महत्व की वजह से श्रावण अमावस्या बहुत लोकप्रिय है। दरअसल इस दिन वृक्षों के प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट करने के लिए इसे हरियाली अमावस्या के तौर पर जाना जाता है। वहीं धार्मिक दृष्टिकोण से इस दिन पितरों का पिंडदान और अन्य दान-पुण्य संबंधी कार्य किये जाते हैं।











Source link

इसे भी पढ़ें

बॉयफ्रेंड की बात सुन गर्लफ्रेंड कन्‍फ्यूज

गर्लफ्रेंड: क्या तुम मुझसे प्यार करते हो?बॉयफ्रेंड: हां। गर्लफ्रेंड: लेकिन तुम्हें तो मेरी कोई परवाह ही नहीं है।बॉयफ्रेंड: प्यार करने वाले किसी की...

ब्लूटूथ कॉलिंग फीचर वाली Molife Sense 500 स्मार्टवॉच लॉन्च, जानें कीमत व खूबियां

हाइलाइट्स:इंट्रोडक्टरी कीमत के साथ कम कीमत में खरीद सकेंगे 8 स्पोर्ट्स मोड के साथ आती है Molife Sense 500 smartwatchMolife Sense 500 smartwatch:...

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन बोले- पीएम मोदी को लगी कोरोना वैक्सीन, दूर हुआ लोगों का शक

नई दिल्ली केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वदेशी तौर पर विकसित कोविड-19 टीका लिया है, जिसके बाद...
- Advertisement -

Latest Articles

बॉयफ्रेंड की बात सुन गर्लफ्रेंड कन्‍फ्यूज

गर्लफ्रेंड: क्या तुम मुझसे प्यार करते हो?बॉयफ्रेंड: हां। गर्लफ्रेंड: लेकिन तुम्हें तो मेरी कोई परवाह ही नहीं है।बॉयफ्रेंड: प्यार करने वाले किसी की...

ब्लूटूथ कॉलिंग फीचर वाली Molife Sense 500 स्मार्टवॉच लॉन्च, जानें कीमत व खूबियां

हाइलाइट्स:इंट्रोडक्टरी कीमत के साथ कम कीमत में खरीद सकेंगे 8 स्पोर्ट्स मोड के साथ आती है Molife Sense 500 smartwatchMolife Sense 500 smartwatch:...

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन बोले- पीएम मोदी को लगी कोरोना वैक्सीन, दूर हुआ लोगों का शक

नई दिल्ली केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वदेशी तौर पर विकसित कोविड-19 टीका लिया है, जिसके बाद...