Tuesday, March 9, 2021

आत्मनिर्भर भारत की और बढ़ते कदम: देश का पहला सीएनजी ट्रैक्टर लॉन्च, सरकार का दावा इससे ईंधन की लागत पर डेढ़ लाख रुपए तक बचाएंगे किसान

- Advertisement -


  • Hindi News
  • Tech auto
  • CNG Tractor; India’s First CNG Tractor Launch By Nitin Gadkari | Here’s Everything You Need To Know About CNG Tractor

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली11 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • वर्तमान में पूरी दुनिया में 1.2 करोड़ वाहन सीएनजी से चल रहे हैं
  • भारत में सीएनजी की मौजूदा कीमत लगभग 42 रुपए प्रति किलोग्राम है

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने देश के पहले सीएनजी ट्रैक्टर को लॉन्च किया। यह एक पुराने डीजल ट्रैक्टर था, जिसे सीएनजी में बदला गया है। ट्रैक्‍टर को रॉमैट टेक्‍नो सॉल्‍यूशन और टोमासेटो एकाइल इंडिया ने मिलकर डेवलप किया है। दावा किया जा रहा है कि इस ट्रैक्टर के इस्तेमाल से किसान ईंधन लागत पर सालाना लगभग 1 से डेढ़ लाख रुपए तक की बचत कर सकेंगे। फिलहाल इसके खर्च के बारे में कोई ऐलान नहीं किया गया है।

किसानों का आत्मनिर्भर बनाएगा ट्रैक्टर
गडकरी ने बताया कि किसान अगर दिन-रात ट्रैक्टर को ट्रांसपोर्टेशन (माल ढोने) में इस्तेमाल करता है तो सालभर में 3.50 लाख रुपए डीजल पर खर्च करता है। वहीं खेती-किसानी के काम इस्तेमाल करता है तो सालभर में लगभग 2.25 से 2.50 लाख रुपए डीजल पर खर्च करता है। लेकिन नए सीएनजी ट्रैक्टर से सीधे 55% की बचत होगी, यानी 3.50 लाख रुपए के खर्च में 1.50 लाख रुपए की बचत होगी। जो किसान को आत्मनिर्भर बनने में मदद करेगी।

सीएनजी ट्रैक्टर में न के बराबर होगा प्रदूषण
खास बात यह है कि वायु प्रदूषण में इससे काफी कमी आएगी। डीजल ट्रैक्टर जहां 70% प्रदूषण करता है, वहीं सीएनजी ट्रैक्टर सिर्फ 15% प्रदूषण करेगी। गड़करी ने कहा कि बायो-सीएनजी की मदद से इसे और भी कम किया जा सकेगा। गड़करी ने बताया कि 5 टन पराली/7 टन कॉटन स्ट्रॉ/5 टन राइस स्ट्रॉ से एक टन बायो सीएनजी तैयार होता है, यानी किसान ही इस ट्रैक्टर के लिए ईंधन तैयार कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि पराली से बायो-सीएनजी बनाने से देश के किसानों की 1500 करोड़ की कमाई होगी।

देशभर में ट्रैक्टर कन्वर्जन सेंटर खुलेंगे
इस किट को किसी भी डीजल ट्रैक्टर में लगाकर उस सीएनजी में बदला जा सकेगा। इसके लिए देशभर में ट्रैक्टर कन्वर्जन सेंटर खुलेंगे। गडकरी ने बताया कि फिलहाल इस किट में कुछ सामान विदेश का भी है। हम मेक इन इंडिया प्रोग्राम उन कंपोनेंट को भी भारत में ही बनाएंगे। धीरे-धीरे पब्लिक ट्रांसपोर्ट को भी सीएनजी में शिफ्ट किया जाएगा। किसी भी वाहन को सीएनजी में कन्वर्ट करने पर उसकी लाइफ बढ़ जाएगी। गड़करी ने कहा कि 15 साल पुराने ट्रैक्टर में अगर यह किट लगाई जाए तो वो नया जैसा बना जाएगा, और मात्र डेढ़ साल में रेट्रोफिटिंग (डीजल से सीएनजी में कन्वर्जन) का खर्च वसूल हो जाएगा।

वर्तमान में पूरी दुनिया में 1.2 करोड़ सीएनजी बेस्ड वाहन हैं
रिपोर्ट के अनुसार वर्तमान में पूरी दुनिया में 1.2 करोड़ वाहन प्राकृतिक गैस से चल रहे हैं और कई कंपनियां और नगर निगम हर दिन सीएनजी वाहनों को अपने बेड़े में शामिल कर रही हैं। डीजल इं‍जन की तुलना में सीएनजी इंजन 70% कम उत्‍सर्जन करता है। डीजल की मौजूदा कीमत 77.43 रुपए प्रति लीटर है जबकि सीएनजी की मौजूदा कीमत 42 रुपए प्रति किलोग्राम है।



Source link

इसे भी पढ़ें

Boat Flash Watch हुई लॉन्च, कम कीमत में मिलेंगे SpO2 और हार्ट रेट सेंसर जैसे धांसू फीचर

हाइलाइट्स:बोट फ्लैश वॉच मार्केट में हुई लॉन्च2499 रुपये में मिलेंगे धांसू फीचरSpO2 मॉनिटर से लैस है स्मार्टवॉचनई दिल्लीबोट ने मार्केट में अपनी स्मार्टवॉट...
- Advertisement -

Latest Articles

Boat Flash Watch हुई लॉन्च, कम कीमत में मिलेंगे SpO2 और हार्ट रेट सेंसर जैसे धांसू फीचर

हाइलाइट्स:बोट फ्लैश वॉच मार्केट में हुई लॉन्च2499 रुपये में मिलेंगे धांसू फीचरSpO2 मॉनिटर से लैस है स्मार्टवॉचनई दिल्लीबोट ने मार्केट में अपनी स्मार्टवॉट...

श्‍वेता तिवारी ने वीडियो में बयां किया घरेलू हिंसा का दर्द, कहा- बेटी पलक, तुम ये मत झेलना

टीवी की दुनिया की मशहूर ऐक्‍ट्रेस श्‍वेता तिवारी (Shweta Tiwari) ने अपनी निजी जिंदगी में बहुत संघर्ष किया है। श्‍वेता की दो शादियां...