Wednesday, August 4, 2021

काम की बात: कम उम्र से खुद को वित्तीय तौर पर विश्वसनीय बनाना जरूरी, इन 6 तरीकों से स्टूडेंट क्रेडिट स्कोर बना सकते हैं बेहतर

- Advertisement -


  • Hindi News
  • Business
  • It Is Important To Make Yourself Financially Reliable From An Early Age, In These 6 Ways Students Can Improve Their Credit Score

नई दिल्ली18 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कॉलेज में पढ़ाई करते हुए आर्थिक रूप से स्वतंत्र होने के लिए बहुत कमाई नहीं कर सकते। लेकिन, कम उम्र से खुद को वित्तीय तौर पर विश्वसनीय बनाना जरूर शुरू कर सकते हैं। ताकि जब आप कॉरपोरेट जगत में प्रवेश करने या खुद का स्टार्टअप शुरू करने की सोचें, तो आपको गारंटर के लिए संघर्ष न करना पड़े। इसके लिए खर्च के मामले में भी वैसे ही अनुशासन की जरूरत होती है, जैसे पढ़ाई के मामले में होती है। वित्तीय तौर पर विश्वसनीय बनाने में हमारी आदतें बड़ी भूमिका निभाती हैं। आइए जानते हैं कैसे…

हर महीने क्रेडिट कार्ड का पूरा बिल चुकाएं
यदि आपके पास क्रेडिट कार्ड है तो इसका उतना ही इस्तेमाल करें कि हर महीने पूरा बिल चुका सकें। यदि आप क्रेडिट कार्ड के बिल की न्यूनतम राशि चुकाते हैं तो बकाया राशि पर ऊंची दर से ब्याज लिया जाएगा, जिससे क्रेडिट स्कोर में कमी आ सकती है। बेहतर होगा कि कॉलेज के दिनों में क्रेडिट कार्ड तभी रखें जब आप पार्टटाइम नौकरी करते हों।

कभी भी दोस्तों का गारंटर न बनें
क्रेडिट कार्ड या लोन के आवेदन के लिए गारंटर की जरूरत होती है। कई बार आप दोस्तों के आवेदन पर सह-हस्ताक्षर करके क्रेडिट लेने में उसकी मदद करते हैं। लेकिन ऐसी दोस्ती से बचने की कोशिश करें जहां गारंटी देने की जरूरत हो। गारंटर बनने पर आपके क्रेडिट स्कोर में गिरावट आ सकती है, खास तौर पर तब, जब प्राथमिक कार्डधारक डिफॉल्ट करता है।

एजुकेशन लोन का इस्तेमाल संभलकर करें
एजुकेशन लोन में आम तौर पर ट्यूशन फीस के अलावा किताबें, हॉस्टल फीस, मेस फीस और अन्य खर्च शामिल होते हैं। बैंक अक्सर छात्रों को इन खर्चों के लिए लोन राशि के बराबर सीमा वाला कार्ड देते हैं। ऐसे में आपको सतर्क रहने की जरूरत है। एजुकेशन लोन का इस्तेमाल पढ़ाई से जुड़े खर्चों के लिए ही करें। पार्टी करने और पब जाने में यह पैसा खर्च न करें।

माता-पिता के खाते के अधिकृत यूजर बनें
यह छात्रों की तुलना में माता-पिता के लिए अधिक प्रासंगिक है। यदि माता-पिता को लगता है कि बच्चा जिम्मेदार है तो उन्हें उसे अपने खाते के लिए अधिकृत यूजर बनाना चाहिए। लेकिन, बच्चे को सभी महत्वपूर्ण बैंक खातों/कार्ड आदि तक पहुंच नहीं देनी चाहिए। यह नजरिया जिम्मेदारी की भावना पैदा करता है और खर्च करने का पैटर्न विकसित करने में मदद करता है।

खर्च पर सॉफ्ट-लिमिट लगाएं
क्रेडिट कार्ड होने से आपको जबरदस्त लचीलापन मिल सकता है, लेकिन इसका दुरुपयोग करने से क्रेडिट और फाइनेंस का बड़ा नुकसान होता है। इससे बचने के लिए प्रति लेनदेन सॉफ्ट-लिमिट लगाना अच्छी आदत साबित हो सकती है। ये सॉफ्ट-लिमिट्स बैंकर की मदद से लगाए जा सकते हैं। इससे आप आवेश में आकर खर्च करने से बच जाते हैं।

बचत और निवेश शुरू करें
छात्र रहते आय का निश्चित स्रोत नहीं होता। यह ऐसा दौर भी होता है, जिसका आप आनंद लेना चाहते हैं। लेकिन, इन सबके बीच आपको बचत की आदत डालनी चाहिए। कम से कम 500 रुपए प्रति माह म्यूचुअल फंड में निवेश करें। इससे बहुत मदद मिलेगी। लंबी अवधि में यह निश्चित रूप से मदद करेगा क्योंकि 15-20 वर्षों में आप एक बड़ी राशि जमा कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

इसे भी पढ़ें

- Advertisement -

Latest Articles

भव्य स्वागत देख बोले पीवी सिंधु के कोच कोच पार्क ताइ सांग- मुझे ‘गुरु’ बनाने के लिए शुक्रिया

नई दिल्लीतोक्यो ओलिंपिक में इतिहास रचने वाली भारत की बेटी पीवी सिंधु के विदेशी कोच पार्क ताइ सांग भव्य स्वागत से अभिभूत दिखे।...