Friday, May 7, 2021

म्यूचुअल फंड के लिए अच्छा रहा बीता साल: 2020-21 में म्यूचुअल फंड से 81 लाख नए निवेशक खाते जुड़े, 9.50 करोड़ के पार पहुंची संख्या

- Advertisement -


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली44 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • एक्सपर्ट बोले- जागरुकता के कारण बढ़ी नए निवेशक खातों की संख्या
  • म्यूचुअल फंड से बड़े शहरों के साथ छोटे शहरों के निवेशक भी जुड़ रहे हैं

बीता वित्त वर्ष म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री के लिए अच्छा रहा है। वित्त वर्ष 2020-21 में म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री से 81 लाख नए निवेशक खाते जुड़े हैं। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (AMFI) के डाटा के मुताबिक, बीते वित्त वर्ष में म्यूचुअल फंड में कुल निवेशक खातों की संख्या 9.78 करोड़ पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2019-20 में 72.89 लाख नए इन्वेस्टर खाते म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री से जुड़े थे। एक्सपर्ट्स का कहना है कि चालू वित्त वर्ष में भी म्यूचुअल फंड फोलियो में अच्छी ग्रोथ रहेगी।

म्यूचुअल फंड का महत्व समझने लगे निवेशक

मॉर्निंगस्टार इंडिया के डायरेक्टर मैनेजर रिसर्च कोस्तुभ बेलापुरकर का कहना है कि निवेशक अब अपने लॉन्ग टर्म और शॉर्ट टर्म वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए म्यूचुअल फंड में निवेश का महत्व समझने लगे हैं। कोस्तुभ का कहना है कि बीते कुछ सालों में म्यूचुअल फंड में निवेश के प्रति जागरुकता बढ़ी है। निवेशकों को जागरूक करने के लिए अभियान चलाए जा रहे हैं। म्यूचुअल फंड हाउंस, फाइनेंशियल एडवाइजर और डिस्ट्रीब्यूटर जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं।

9.78 करोड़ पर पहुंची फोलियो की संख्या

AMFI के डाटा के मुताबिक, 31 मार्च 2021 को सभी 43 फंड हाउस के पास फोलियो की संख्या 9,78,65,529 पर पहुंच गई थी। 31 मार्च 2020 को फोलियो की संख्या 8,97,46,051 थी। इस प्रकार कुल फोलियो की संख्या में 81.19 लाख की बढ़ोतरी हुई है। फोलियो इंडीविजुअल इन्वेस्टर अकाउंट्स की संख्या को दर्शाता है। हालांकि, एक इन्वेस्टर के पास कई फोलियो भी हो सकते हैं। डाटा के अनुसार, वित्त वर्ष 2018-19 में 1.13 करोड़, 2017-18 में 1.6 करोड़, 2016-17 में 67 लाख और 2015-16 में 59 लाख नए इन्वेस्टर अकाउंट म्यूचुअल फंड से जुड़े।

डिजिटाइजेशन के कारण बढ़ी फोलियो की संख्या

स्क्रिपबॉक्स के को-फाउंडर प्रतीक मेहता का कहना है कि फोलियो की संख्या बढ़ने के कई कारण हैं। इसमें डिजिटाइजेशन की सबसे महत्वपूर्ण भूमिका है। इसके अलावा ट्रांजेक्शन में आसानी के कारण भी फोलियो की संख्या बढ़ी है। प्रतीक के मुताबिक, इससे स्पष्ट होता है कि इन्वेस्टर अब रियल एस्टेट और गोल्ड को छोड़कर फाइनेंशियल प्रोडक्ट्स की ओर माइग्रेट हो रहा है। ऑफरिंग में सुधार और बड़े डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क के कारण भी म्यूचुअल फंड की स्वीकार्यता बढ़ी है।

इक्विटी आधारित स्कीम्स में ज्यादा इन्वेस्टर अकाउंट जुड़े

डाटा के मुताबिक, इक्विटी आधारित स्कीम्स में ज्यादा इन्वेस्टर अकाउंट जुड़ रहे हैं। बीते वित्त वर्ष में इन स्कीम्स में 24.3 लाख नए इन्वेस्टर अकाउंट जुड़े हैं। अब इनकी संख्या बढ़कर 6.68 करोड़ पर पहुंच गई है। डेट आधारित स्कीम्स में 16.16 लाख नए फोलियो जुड़े हैं और इनकी कुल संख्या 88.4 लाख हो गई है। डेट कैटेगिरी में लिक्विड फंड्स फोलियो की संख्या के मामले में टॉप पर हैं। लिक्विड फंड्स में फोलियो की संख्या 22.3 लाख हो गई है। इसके बाद 12.26 लाख के साथ लो ड्यूरेशन फंड का नंबर आता है। कॉरपोरेट बॉन्ड में कुल फोलियो की संख्या 7.13 लाख हो गई है।

31.43 लाख करोड़ पर पहुंचा AUM

फोलियो की संख्या में बढ़ोतरी के साथ म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का असेट्स अंडर मैनेजमेंट (AUM) भी बढ़ रहा है। 31 मार्च 2021 को इंडस्ट्री का AUM 31.43 लाख करोड़ रुपए पर पहुंच गया था। 31 मार्च 2020 को यह 22.26 लाख करोड़ रुपए था। बेलापुरकर का कहना है कि हम आने वाले वर्षों में भी फोलियो में ग्रोथ की उम्मीद कर रहे हैं। इसका कारण यह है कि नए निवेशक लगातार म्यूचुअल फंड में निवेश का सफर शुरू कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बड़े शहरों के साथ छोटे शहरों से भी फोलियो में ग्रोथ हो रही है।

खबरें और भी हैं…



Source link

इसे भी पढ़ें

साली ने जीजा से पूछा मजेदार सवाल

साली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं?नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:May 7, 2021, 06:00AM ISTसाली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं? जीजा...
- Advertisement -

Latest Articles

साली ने जीजा से पूछा मजेदार सवाल

साली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं?नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:May 7, 2021, 06:00AM ISTसाली - जीजा जी आप अंधेरे से डरते हैं? जीजा...

जिंदगी की जंग: 1980 ओलंपिक में स्वर्ण पदक विजेता हॉकी टीम के दो खिलाड़ियों की हालत गंभीर

नई दिल्ली1980 मॉस्को ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली हॉकी टीम के दो खिलाड़ी महाराज कृष्ण कौशिक और रवींद्र पाल सिंह कोरोना वायरस...