Thursday, April 15, 2021

रेल यात्रियों को जल्द राहत: दो महीनों में पूरी तरह बहाल हो सकती है यात्री सेवा, रेगुलर की जगह सभी के स्पेशल ट्रेन होने की संभावना

- Advertisement -


  • Hindi News
  • Business
  • All Passenger Rail Service May Be Fully Restored In Two Months, But There Will Be Only Special Train Instead Of Regular Ones

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • कोविड से पहले रोजाना 1,768 एक्सप्रेस और मेल ट्रेन चल रही थीं, जबकि अब सिर्फ 1,353 स्पेशल ट्रेन चल रही हैं
  • पहले 3,634 पैसेंजर ट्रेन चलती थीं जो अब 740 रह गई हैं, हालांकि 5,881 लोकल के मुकाबले 5,381 ट्रेन चल रही हैं

भारतीय रेल जल्द ही अपनी यात्री सेवाएं पूरी तरह शुरू कर सकती है। वे अगले दो महीनों में कोविड से पहले वाली स्थिति में आ सकती हैं। लेकिन यह तभी हो पाएगा जब राज्य सरकारें मंजूरी दे दें और कोविड काबू में आने लगे।

रेल सेवा पूरी तरह बहाल होने पर सब ट्रेन स्पेशल हो सकती हैं

न्यूज एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से जो कहा गया है उसके मुताबिक यात्री सेवा पूरी तरह बहाल होने पर एक और बात हो सकती है। इस दौरान शुरू होने वाली ट्रेन में रेगुलर नहीं, सबके स्पेशल ट्रेन होने की संभावना है। फिलहाल रेलवे सिर्फ स्पेशल ट्रेन के साथ दो तिहाई पैसेंजर सर्विस चला रही है।

स्पेशल ट्रेन में कुछ कैटेगरी को छोड़ कोई रियायत नहीं दी जाती

रेलवे जो स्पेशल ट्रेन चला रही है उनमें रेगुलर ट्रेन से थोड़ा ज्यादा किराया लगता है। साथ ही उनमें कुछ कैटेगरी को छोड़ कोई रियायत नहीं दी जाती। इसके अलावा, पूरी तरह रिजर्व ट्रेन ही चलाई जा रही हैं। पिछले साल मार्च में कोविड के चलते जब से लॉकडाउन हुआ है सभी रेगुलर पैसेंजर ट्रेन का चलना बंद है। मई के बाद से स्पेशल ट्रेन सर्विस शुरू हुई है।

राज्यों की मंजूरी और कोविड की स्थिति पर निर्भर करेगा सेवा बहाली

फिलहाल कोविड से पहले के मुकाबले 77% एक्सप्रेस और मेल ट्रेन के अलावा सिर्फ 20% पैसेंजर ट्रेन चल रही हैं। इसके अलावा उपनगरीय रेल सेवा की 91% ट्रेन चल रही हैं। पीटीआई ने एक रेल अधिकारी के हवाले से कहा है कि रेलवे अगले दो महीनों में स्पेशल ट्रेनों के साथ अपनी सर्विस को कोविड से पहले वाले लेवल पर ला सकती है। हालांकि उन्होंने इसके साथ यह भी कहा है कि यह राज्यों की मंजूरी और कोविड-19 की स्थिति पर निर्भर करेगा।

कोविड से पहले 1,768 एक्सप्रेस/ मेल ट्रेन चलती थीं, अब 1,353 ट्रेन हैं

कोविड से पहले रोजाना 1,768 एक्सप्रेस और मेल ट्रेन चल रही थीं, अब ऐसी सिर्फ 1,353 ट्रेन चल रही हैं। इसके अलावा पहले रोज 3,634 पैसेंजर ट्रेन चलती थीं जिनकी संख्या घटकर 740 रह गई हैं। जहां तक उपनगरीय रेल की बात है तो रोजाना 5,881 लोकल ट्रेन चलती थीं जिनमें से फिलहाल 5,381 ट्रेन चल रही हैं।

24 घंटों में 30,641 बढ़कर 6,14,696 पहुंच गए हैं कोविड के एक्टिव केस

अब लगे हाथ कोविड संक्रमण की बात कर लेते हैं जिस पर रेल सेवा की पूर्ण बहाली निर्भर करती है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की वेबसाइट पर मौजूद डेटा के मुताबिक, कोविड के एक्टिव केस पिछले 24 घंटों में 30,641 बढ़कर 6,14,696 पहुंच गए हैं, जबकि मरने वालों की संख्या 469 बढ़कर 1,63,396 हो गई है।

खबरें और भी हैं…



Source link

इसे भी पढ़ें

पप्पू ने बनवाया गर्ल्स हॉस्टल का पास

मास्टर जी - अगर कोई लड़का गर्ल्स हॉस्टल की तरफ गया...नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:Apr 15, 2021, 06:00AM ISTमास्टर जी - अगर कोई लड़का गर्ल्स...
- Advertisement -

Latest Articles

पप्पू ने बनवाया गर्ल्स हॉस्टल का पास

मास्टर जी - अगर कोई लड़का गर्ल्स हॉस्टल की तरफ गया...नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:Apr 15, 2021, 06:00AM ISTमास्टर जी - अगर कोई लड़का गर्ल्स...

Explained: पाकिस्तान में पुलिस-प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प में 7 की मौत, सैकड़ों घायल, समझिए क्यों हैं गृह युद्ध जैसे हालात

इस्लामाबाद/लाहौरपिछले 3 दिनों से पाकिस्तान की सड़कों पर एक इस्लामिक कट्टरपंथी पार्टी के समर्थक तांडव मचाए हुए हैं। सड़कें जैसे जंग का मैदान...