Sunday, February 28, 2021

वेटिंग पीरियड: कोविड से रिकवर हुए लोगों के लिए हेल्थ प्लान लेना मुश्किल, करना पड़ रहा है तीन महीने तक का इंतजार

- Advertisement -


  • Hindi News
  • Business
  • To Get A New Health Policy, A Covid 19 Recovering Patient May Have To Wait For Three Months

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • कोविड के असर की पक्की जानकारी नहीं होने के चलते तय हो रहा है रिकवरी के बाद कूल ऑफ पीरियड
  • न्यू इंडिया एश्योरेंस सबको तुरंत हेल्थ पॉलिसी दे रही है, लेकिन क्लेम के लिए 30 दिन तक इंतजार कराती है

कोरोनावायरस के कहर को देखते हुए लोगों में अपने और परिवार के लिए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेने की आपाधापी मची है। लेकिन उन लोगों को तीन महीने तक का इंतजार करना पड़ रहा है, जिनको कुछ दिनों या महीनों पहले कोविड हुआ था।

कराया जा रहा है कम-से-कम दो हफ्ते का इंतजार

कोविड से रिकवर हुए लोगों को मैक्स बूपा, HDFC एर्गो, ICICI लोंबार्ड, केयर हेल्थ इंश्योरेंस, स्टार हेल्थ और एलाइड इंश्योरेंस की हेल्थ पॉलिसी दो हफ्ते से लेकर तीन महीने बाद ही मिल रही है। इस बारे में इंश्योरेंस कंपनियों ने खुले तौर पर कुछ नहीं कहा है लेकिन उनके एजेंट हाल में कोविड से रिकवर हुए लोगों को पॉलिसी बेचने से जरूर बच रहे हैं।

ICICI लोंबार्ड और HDFC एर्गो में 45 दिन का वेटिंग पीरियड

पता चला है कि मैक्स बूपा और केयर हेल्थ की पॉलिसी के लिए कम से कम तीन महीने का कूल ऑफ पीरियड चल रहा है। इसका मतलब यह है कि इन कंपनियों की हेल्थ पॉलिसी कोविड से रिकवर होने के इतने समय बाद ही ऑफर की जा रही है। ICICI लोंबार्ड और HDFC एर्गो के एजेंट कोविड नेगेटिव सर्टिफिकेट जारी होने के कम-से-कम 45 दिन बाद ही पॉलिसी बेच रहे हैं। हालांकि, स्टार हेल्थ की पॉलिसी पर सिर्फ 14 दिन का कूल ऑफ पीरियड बताया जा रहा है।

न्यू इंडिया एश्योरेंस में क्लेम के लिए 30 दिन का वेटिंग पीरियड

न्यू इंडिया एश्योरेंस के एक अधिकारी ने कहा, ‘हमारे यहां कोविड वाले केस में कूल ऑफ पीरियड जैसी कोई शर्त नहीं है। हेल्थ पॉलिसी तुरंत मिलेगी, लेकिन अगर कोई क्लेम होता है तो उसके लिए 30 दिन का इंतजार करना होगा। हालांकि एक्सीडेंट के मामले में पहले ही दिन से क्लेम उपलब्ध होगा।‘ बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस का भी कहना है कि उनके यहां कोई कूलिंग पीरियड नहीं है। हेल्थ पॉलिसी के जो नियम पहले से हैं, सबको उसी के हिसाब से इंश्योरेंस ऑफर किया जा रहा है।

हेल्थ पॉलिसी के लिए कूल ऑफ पीरियड की ये है वजह

इंश्योरेंस एक्सपर्ट और इंडस्ट्री के सूत्रों के मुताबिक, कोविड से रिकवर हुए लोगों के लिए कूल ऑफ पीरियड खास वजह से तय किया जा रहा है। दरअसल, कोविड का मरीज पर कितना गहरा असर होता है, इस बारे में कोई पक्की जानकारी नहीं है। इंडस्ट्री के सूत्र मरीजों की रिपोर्ट के आधार पर बताते हैं कि कोविड से रिकवर हुए लोगों को फेफड़ा, दिल, खून से जुड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

प्रीमियम के लिए जरूरी है रिस्क का वैल्यूएशन

ICICI लोंबार्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘यह बात सही है कि हमारी कंपनी कोविड से उबरे लोगों को पॉलिसी देने में थोड़ा समय ले रही है । लेकिन सिर्फ यह जानने के लिए ऐसा कर रही है कि उनको पॉलिसी कितने प्रीमियम पर दी जा सकती है। कोविड से उबरे किसी शख्स को पॉलिसी देने से इनकार नहीं किया जाता, लेकिन रिस्क का वैल्यूएशन जरूरी है।’



Source link

इसे भी पढ़ें

Rajendra Prasad Death Anniversary : जब टीचर ने की थी राजेंद्र बाबू की तारीफ, कही थी यह बात

हाइलाइट्स:1962 में उन्हें 'भारतरत्‍न' की सर्वश्रेष्ठ उपाधि से सम्मानित किया गयालोकप्रियता की वजह से उन्हें उन्‍हें राजेंद्र बाबू या देश रत्‍न कहा जाता...

Asteroids के बीच छिपा बैठा धूमकेतु, 4 लाख मील लंबी पूंछ वाला स्पेस ऑब्जेक्ट खगोलविदों के लिए बना पहेली

सौर मंडल के सबसे बड़े ग्रह बृहस्पति के पीछे-पीछे ऐस्टरॉइड्स भी सूरज का चक्कर काटते हैं जिन्हें Trojan asteroid कहते हैं। अमेरिकी स्पेस...
- Advertisement -

Latest Articles

Rajendra Prasad Death Anniversary : जब टीचर ने की थी राजेंद्र बाबू की तारीफ, कही थी यह बात

हाइलाइट्स:1962 में उन्हें 'भारतरत्‍न' की सर्वश्रेष्ठ उपाधि से सम्मानित किया गयालोकप्रियता की वजह से उन्हें उन्‍हें राजेंद्र बाबू या देश रत्‍न कहा जाता...

Asteroids के बीच छिपा बैठा धूमकेतु, 4 लाख मील लंबी पूंछ वाला स्पेस ऑब्जेक्ट खगोलविदों के लिए बना पहेली

सौर मंडल के सबसे बड़े ग्रह बृहस्पति के पीछे-पीछे ऐस्टरॉइड्स भी सूरज का चक्कर काटते हैं जिन्हें Trojan asteroid कहते हैं। अमेरिकी स्पेस...