Monday, June 14, 2021

बेहतर होता कि वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल बेस्ट ऑफ थ्री होता: रवि शास्त्री

- Advertisement -


मुंबई
भारत को लगता है कि वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के खिताब का फैसला बेस्ट-ऑफ-थ्री सीरीज से होना चाहिए था। टीम इंडिया के मुख्य कोच रवि शास्त्री का कहना है कि दुनियाभर में दो साल की मेहनत का नतीजा एक मैच से निकालना सही नहीं।

भारत और न्यूजीलैंड के बीच वर्ल्ड टेस्ट सीरीज का फाइनल 18 जून से साउथम्टन में खेला जाएगा। भारतीय टीम इसके लिए 2 जून को रवाना हो गई। कोच रवि शास्त्री ने कहा कि वह समझते हैं कि कैलेंडर बिजी है लेकिन उन्हें उम्मीद है कि भविष्य में इसे तीन-टेस्ट मैचों की सीरीज से तय किया जाएगा।

लीक हुआ कोहली और शास्त्री की बातचीत का ऑडियो, इंटरनेट पर मची सनसनी
बुधवार को इंग्लैंड रवाना होने से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में शास्त्री ने कहा, ‘सही मायनो में, लंबे वक्त के लिए, अगर वह टेस्ट चैंपियनशिप के साथ बने रहना चाहते हैं, तो बेस्ट-ऑफ-थ्री फाइनल ही सही रहेगा। यह दुनियाभर में ढाई साल की मेहनत का नतीजा है। इसके साथ अगर आगे बढ़ना है तो बेस्ट-ऑफ-थ्री फाइनल ही सही रहेगा। लेकिन हमें इसे जितना जल्दी हो सके खत्म करना होगा क्योंकि कार्यक्रम दोबारा शुरू भी करना होता है।’

एक ही समय पर दो अलग-अलग भारतीय टीमों का खेलना हो सकता है आम: कोहली और शास्त्री

शास्त्री ने हालांकि इसे ‘सबसे बड़ा मैच’ करार दिया। उन्होंने कहा, ‘यह पहली बार है जब टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल खेला जाएगा।’ उन्होंने आगे कहा, ‘अगर आप इसे देखें और खेल का पैमाना देखें तो यह सबसे बड़ा मुकाबला होने वाला है। अगर आप इसे क्रिकेट इतिहास का सबसे बड़ा मुकाबला भले ही नहीं कहें तो भी फिलहाल यह सबसे बड़ा है। यह क्रिकेट का सबसे मुश्किल फॉर्मेट है। यह आपको पूरी तरह परखता है। यह तीन दिन या तीन महीने की बात नहीं है। यह दो साल की बात है। इसमें टीमें दुनियाभर में एक-दूसरे के खिलाफ खेली हैं। और आखिर में खुद को फाइनल में खेलने का हकदार बनाया है। तो यह वाकई बड़ा इवेंट है।’

WTC Final: विराट ने दिलाई पिछली सीरीज की याद, बताया कम प्रैक्टिस के बावजूद कैसे बनेगी बात

कप्तान विराट कोहली ने भी कोच की बात से सहमति जताई। उन्होंने कहा, ‘यह वाकई अहम मुकाबला है। खास तौर पर तब जब यह अपनी तरह का पहला ऐसा मैच है।’ कोहली ने आगे कहा, ‘यह क्रिकेट का सबसे मुश्किल फॉर्मेट है। हम सब टेस्ट क्रिकेट खेलने में गर्व महसूस करते हैं और जिस तरह से एक टीम के तौर पर हमने तरक्की की है वह इस बात का प्रमाण है कि टेस्ट क्रिकेट हमारे लिए कितनी महत्ता रखता है।’

कोहली ने आगे कहा, ‘हम सबके लिए जो टेस्ट टीम का हिस्सा हैं यह सिर्फ चैंपियनशिप के दौरान की ही नहीं बल्कि पिछले पांच-छह साल की मेहनत का नतीजा है। जब से हमने मेहनत की और टीम को तैयार करना शुरू की। हम फाइनल में खेलने को लेकर बहुत-बहुत खुश हैं।’

ravi-shastri

रवि शास्त्री और विराट कोहली (फाइल फोटो)



Source link

इसे भी पढ़ें

जोकोविच जैसा कोई नहीं: हर ग्रैंडस्लैम दो बार जीतने वाले ओपन ऐरा के पहले खिलाड़ी

हाइलाइट्स:नोवाक जोकोविच फ्रेंच ओपन के नए चैंपियन4 घंटे चले फाइनल में सितसिपास को हराया52 साल में चारों ग्रैंड स्लैम दो बार जीतने वाले...
- Advertisement -

Latest Articles

जोकोविच जैसा कोई नहीं: हर ग्रैंडस्लैम दो बार जीतने वाले ओपन ऐरा के पहले खिलाड़ी

हाइलाइट्स:नोवाक जोकोविच फ्रेंच ओपन के नए चैंपियन4 घंटे चले फाइनल में सितसिपास को हराया52 साल में चारों ग्रैंड स्लैम दो बार जीतने वाले...

भारत ने पिछले 3 साल में बांग्लादेश को को सौंपे 577 घुसपैठिए , इस साल अब तक 100 को वापस भेजा गया

नई दिल्लीभारत ने साल 2018 से अपने पड़ोसी देश बांग्लादेश को अधिकतम 577 घुसपैठिए सौंपे हैं, जो दोनों देशों के बीच आपसी सहयोग...