Wednesday, June 16, 2021

सिर्फ सकलेन मुश्ताक ही फेंकते थे सही ‘दूसरा’, अश्विन ने नियम बदलने की भी की अपील

- Advertisement -


साउथैम्पटन
भारत के स्टार स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को लगता है कि सकलेन मुश्ताक एकमात्र स्पिनर थे जो अपने करियर के दौरान ‘वैध दूसरा’ गेंद डालते थे और वह चाहते हैं कि खेल की संचालन संस्था आईसीसी (अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद) को कोहनी मोड़ने की मौजूदा 15 डिग्री की सीमा को हटाकर स्वीकार्य स्तर तक की अनुमति दे देनी चाहिए।
जब सचिन तेंडुलकर ने कहा, ‘सईद भाई इतना सीरियस होकर बोलिंग मत करो’
अश्विन ने दक्षिण अफ्रीका के पूर्व ‘परफॉरमेंस’ विश्लेषक प्रसन्ना अगोराम से चर्चा के दौरान ऑफ स्पिरनरों की इस खतरनाक गेंद के बारे में विस्तार से बात की।सकलेन ने ‘दूसरा’ फेंकने की शुरूआत की और ‘रांग उन’ गेंदबाजी करने वालों में मुथैया मुरलीधरन, हरभजन सिंह और सईद अजमल शामिल हैं।

कोरोनावायरस महामारी से जूझ रहे देशवासियों की मदद का अश्विन ने किया वादा, बोले-अपनी क्षमता के मुताबिक करूंगा सपोर्ट
अश्विन ने अपने तमिल यूट्यूब चैनल शो ‘द लीजेंड ऑफ द दूसरा’ में अगोराम के साथ चर्चा में कहा, ‘मेरे हिसाब से, हमें इसे (दूसरा को) खत्म नहीं करना चाहिए बल्कि स्पिनरों को कोहनी के उचित मोड़ के साथ जिम्मेदारी से दूसरा गेंद फेंकने के लिये सक्षम करना चाहिए। इसमें किसी भी तरह का उल्लघंन नहीं होना चाहिए। हर किसी को 15 डिग्री या 20-22 डिग्री तक मोड़ के साथ गेंदबाजी की अनुमति देनी चाहिए।’

VIDEO: कैसा होगा Team India का Bowling Attack?

अगोराम चाहते हैं कि आईसीसी कोहनी को 15 डिग्री तक मोड़ने की सीमा को बढ़ा दे और साथ ही स्पिनरों को जिम्मेदारी से दूसरा गेंद फेंकनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मैं बल्ले और गेंद में बराबर संतुलन चाहता हूं। गेंदबाजों को भी बल्लेबाजों की तरह आजादी की जरूरत है। इसी से प्रतिस्पर्धा बेहतर हो सकती है। मैं गेंदबाजों को टी20 क्रिकेट में 125 रन के स्कोर का बचाव करते हुए देखना चाहता हूं। लब्बोलुवाब यही है।’

दिल का दौरा पड़ने से 33 वर्षीय क्रिकेटर की मौत, टीम इंडिया के फील्डिंग कोच ने कुछ यूं किया याद
अगोराम ने कहा, ‘लेकिन कुछ मामलों में जब अंपायरों का एक्शन सिर्फ दूसरा के लिए होता है तो मैं चाहता हूं कि आईसीसी इस कोहनी के मुड़ाव को 18.6 डिग्री तक कर दे। अगर गेंदबाजों को दूसरा गेंदबाजी की अनुमति मिल जाती है तो प्रतिस्पर्धा (बल्लेबाजों और गेंदबाजों के बीच) पर विचार किया जाना चाहिए।’

अश्विन ने भी कहा कि पाकिस्तान के पूर्व स्पिनर सकलेन मुश्ताक ही एकमात्र गेंदबाज थे जो दूसरा गेंद को खूबसूरती से वैध रूप से फेंकते थे, उनके अनुसार वैध दूसरा फेंकने वाले एक अन्य स्पिनर शोएब मलिक हैं, जिन्होंने अपनी बल्लेबाजी पर ज्यादा ध्यान लगाना शुरू कर दिया।



Source link

इसे भी पढ़ें

IND vs ENGW Test: 7 वर्ष बाद महिला टीम खेल रही टेस्ट क्रिकेट, 5 खिलाड़ियों ने किया डेब्यू

ब्रिस्टलएक तरफ जहां पुरुषों की क्रिकेट में टेस्ट को सर्वश्रेष्ठ आंका जाता है तो दूसरी ओर महिलाओं के बीच यह प्रारूप लगभग गायब-सा...
- Advertisement -

Latest Articles

IND vs ENGW Test: 7 वर्ष बाद महिला टीम खेल रही टेस्ट क्रिकेट, 5 खिलाड़ियों ने किया डेब्यू

ब्रिस्टलएक तरफ जहां पुरुषों की क्रिकेट में टेस्ट को सर्वश्रेष्ठ आंका जाता है तो दूसरी ओर महिलाओं के बीच यह प्रारूप लगभग गायब-सा...

2021 Gold Wing Tour भारत में लॉन्च, 1833 सीसी का धांसू इंजन देता है दमदार परफॉर्मेंस

नई दिल्ली।होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया (HMSI) ने अपनी 2021 Gold Wing Tour को भारत में लॉन्च कर दिया है। इस टूरर बाइक...

सोनू सूद की बढ़ी मुश्किलें, बॉम्‍बे HC ने कहा- कोरोना संबंधी दवाएं उनके पास कैसे पहुंचीं, जांच हो

सोनू सूद (Sonu Sood) कोरोना महामारी के बीच तमाम लोगों के लिए फरिश्‍ता साबित हुए। जहां पहली लहर के दौरान उन्‍होंने प्रवासी मजदूरों...