Saturday, June 19, 2021

Dingko Singh dies : नहीं रहे एशियाई खेलों के गोल्ड मेडलिस्ट दिग्गज बॉक्सर डिंको सिंह, मैरीकॉम बोलीं-आप देश के हीरो थे

- Advertisement -


हाइलाइट्स:

  • पूर्व बॉक्सर डिंको सिंह का निधन गुरुवार को हो गया
  • डिंको सिंह ने 1988 में बैंकॉक एशियाई खेलों में गोल्ड जीता था
  • नेवी में कार्यरत डिंको सिंह पिछले साल कोरोना संक्रमित पाए गए थे

नई दिल्ली
बैंकॉक एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता भारत के पूर्व बैंटमवेट बॉक्सर डिंको सिंह का गुरुवार को निधन हो गया। डिंको सिंह लंबे समय से बीमार थे। उनका 2017 से लिवर कैंसर का उपचार चल रहा था।

पिछले साल यह दिग्गज मुक्केबाज कोरोना वायरस से संक्रमित हो गया था। हालांकि 41 वर्षीय डिंको सिंह कोविड-19 से जंग जीतने में सफल रहे थे। साल 2020 में डिंको को दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बिलियरी साइंसेज (ILBS) में रेडिएशन थेरेपी दी गई थी। इसके बाद वह इंफाल लौट गए थे।

डिंको सिंह ने अपने बॉक्सिंग करियर कब शुरू किया था ? दीजिए ऐसे ही कुछ आसान सवालों के जवाब और जीतिए इनाम

डिंको सिंह (Dingko Singh Dies) को साल 1998 में अर्जुन अवॉर्ड (Arjun Award) से सम्मानित किया गया था। उन्हें साल 2013 में पदमश्री अवॉर्ड दिया गया था। खेल मंत्री किरन रिजिजू सहित कई खिलाड़ियों ने डिंको सिंह को सोशल मीडिया पर श्रद्धांजलि दी है।

दिग्गज महिला मुक्केबाज ने डिंको सिंह को याद करते हुए कहा कि आप देश के सच्चे हीरो थे। आप हमारे बीच से भले चले गए लेकिन आपकी विरासत हमारे साथ हमेशा रहेगी।

खेल मंत्री किरन रीजिजू ने ट्वीट किया, ‘मैं श्री डिंको सिंह के निधन से बहुत दुखी हूं। वह भारत के सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाजों में से एक थे। डिंको के 1998 बैकाक एशियाई खेलों में जीते गए स्वर्ण पदक ने भारत में मुक्केबाजी क्रांति को जन्म दिया। मैं शोक संतप्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे।’

भारत के पहले ओलंपिक पदक विजेता मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने ट्वीट किया, ‘इस क्षति पर मेरी हार्दिक संवेदना। उनका जीवन और संघर्ष हमेशा भावी पीढ़ियों के लिये प्रेरणास्रोत रहेगा। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि शोक संतप्त परिवार को दुख और शोक की इस घड़ी से उबरने के लिये शक्ति प्रदान करे।’

बॉक्सिंग से संन्यास लेने के बाद नेवी में कार्यरत डिंको सिंह (Dingko Singh) ने कोचिंग में भी अपना योगदान दिया था। डिंको सिंह 6 आर वर्ल्ड चैंपियन एमसी मैरीकॉम (MC Mary Kom) और अनुभवी एल सरिता देवी (L Sarita Devi) के प्रेरणास्रोत रहे हैं।



Source link

इसे भी पढ़ें

50 लाख पार! बैटलग्राउंड मोबाइल इंडिया की धमाकेदार एंट्री, प्लेयर्स को मिल रहा शानदार रिवॉर्ड

हाइलाइट्स:बैटलग्राउंड मोबाइल इंडिया का मिला अर्ली एक्सेस50 लाख पार हुए डाउनलोड्सप्लेयर्स को मिल रहे रिवॉर्ड्सप्लेयर्स को मिल रहे रिवॉर्ड्सनई दिल्ली। बैटलग्राउंड मोबाइल इंडिया...
- Advertisement -

Latest Articles

50 लाख पार! बैटलग्राउंड मोबाइल इंडिया की धमाकेदार एंट्री, प्लेयर्स को मिल रहा शानदार रिवॉर्ड

हाइलाइट्स:बैटलग्राउंड मोबाइल इंडिया का मिला अर्ली एक्सेस50 लाख पार हुए डाउनलोड्सप्लेयर्स को मिल रहे रिवॉर्ड्सप्लेयर्स को मिल रहे रिवॉर्ड्सनई दिल्ली। बैटलग्राउंड मोबाइल इंडिया...

Milkha Singh Olympic Dream: फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह का वह बड़ा सपना, जो आज तक नहीं हो सका पूरा

नई दिल्लीमहान धावक मिल्खा सिंह 60 साल पहले ओलिंपिक पदक जीतने से मात्र कुछ इंचों से दूर रह गए थे। ओलिंपिक में एथलेटिक्स...