Thursday, April 15, 2021

Gautam Gambhir Interview: विश्व कप जीतने के लिए भारत को व्यवस्था से बाहर निकलने की जरूरत है: गौतम गंभीर

- Advertisement -


नई दिल्ली
दस साल पहले इसी दिन सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने विश्व कप फाइनल में किसी भारतीय बल्लेबाज द्वारा अब तक की बेहतरीन पारी खेली थी। मुंबई में हुए फाइनल में श्रीलंका के खिलाफ गंभीर ने 97 रन बनाए और उनकी इस पारी की बदौलत भारत 28 साल बार फिर से विश्व चैम्पियन बन सका। गंभीर के 97 रन उस समय आए थे जब भारत ने शुरुआती विकेट गंवा दिए थे। इसके बाद कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के नाबाद 91 रनों की बदौलत भारत ने 274 रनों का पीछा करते हुए जीत हासिल की थी।

भारत के कप्तान के रूप में कार्य कर चुके और 2007 टी20 विश्व कप फाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ 75 रनों की अहम पारी खेलकर भारत को खिताब जीतने में मदद करने वाले गंभीर अब राजनेता बन चुके हैं और दिल्ली से भाजपा के सांसद हैं। वह इन दिनों पश्चिम बंगाल में जारी विधानसभा चुनावों के लिए चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं। पश्चिमम बंगाल जाने से एक दिन पहले, गंभीर ने 2011 विश्व कप जीत पर बात की और इस बात पर भी चर्चा की कि हाल ही में आईसीसी टूर्नमेंट्स के लिहाज से टीम में क्या कमी रह गई…

ICC CWC 2011 India v Sri Lanka Final: भारत vs श्रीलंका महामुकाबले में एमएस धोनी का ऐतिहासिक सिक्सर, आज ही के दिन 10 वर्ष पहले भारत बना था वर्ल्ड चैंपियन

सवाल: आप विश्व कप फाइनल के दिन को कैसे याद करते हैं?
गंभीर: मैं वास्तव में पीछे मुड़कर नहीं देखता। मैं एक ऐसा लड़का हूं जो मानता है कि पीछे देखने का कोई मतलब नहीं है। आप क्या हासिल करना चाहते हैं, यह भविष्य की बात है। मुझे लगता है कि भारतीय क्रिकेट को 2011 से परे, आगे देखने की जरूरत है। उस खास दिन भी मैंने यही कहा था – कि जो काम किया गया था, वह किया जाना था। आगे देखने की बात थी। यह आज भी ठीक वैसा ही है।

2011 वर्ल्‍ड कप: धोनी फिनिशेज ऑफ इन स्‍टाइल… कानों में रवि शास्‍त्री के ये शब्‍द गूंजने पर आज भी खड़े हो जाते हैं रोंगटे

सवाल: क्या आपको लगता है कि उस पल ने भारतीय क्रिकेट को बदल दिया है?
गंभीर: जाहिर है, विश्व कप जीतकर, आप अपने देश को गौरवान्वित करते हैं। आप सभी को खुश करते हैं। लेकिन क्या उस पल ने भारतीय क्रिकेट को बदल दिया? खैर, मुझे ऐसा नहीं लगता। मुझे लगता है कि आप अपने देश के लिए हर जीत भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदल देते हैं। तो, यह एक विशेष टूर्नमेंट नहीं है। ऐसे बहुत से लोग हैं जो अभी भी 1983 की बात कर रहे हैं; ऐसे लोग हैं जो 2007 और 2011 के बारे में बात करते हैं। लेकिन मुझे नहीं लगता कि उन क्षणों ने अकेले भारतीय क्रिकेट को बदल दिया। मुझे लगता है कि भारतीय क्रिकेट शायद कई खेलों और अधिक से अधिक सीरीज जीतने के बारे में है, और यह समझने की जरूरत है कि एक या दो टूर्नमेंट भारतीय क्रिकेट को नहीं बदल सकता।

धोनी का वह एक साहसिक फैसला, जिसने 28 साल बाद भारत की झोली में डाल दिया था वर्ल्ड कप

सवाल: विराट (कोहली) के साथ क्या बातचीत हुई थी, जब सहवाग और तेंडुलकर के जल्दी आउट होने के बाद (27/2) 274 रनों का पीछा करते हुए फाइनल में बल्लेबाजी के लिए आपके साथ शामिल हुए थे?
गंभीर: फिर से वही बात। मैं पीछे मुड़कर नहीं देखता कि क्या हुआ था। यह (विकेटों का शुरुआती नुकसान) वास्तव में मेरे लिए मायने नहीं रखता था। हमें जो लक्ष्य हासिल करने की जरूरत थी, हमने उस पर ध्यान लगाया। इसलिए, हम उस चीज को नहीं देख रहे थे जो हमने खो दिया था, लेकिन हम देख रहे थे कि हमें कहां पहुंचने की जरूरत है। और हम लक्ष्य कैसे प्राप्त कर सकते हैं। अगर मुझे विश्व कप जीतने (विकेटों के शुरुआती नुकसान का सामना करने) का विश्वास नहीं था, तो मैं विश्व कप टीम का हिस्सा नहीं हो सकता। मेरे लिए, यह वास्तव में मायने नहीं रखता था अगर हम दो शुरुआती विकेट खो देते। यह टीम के लिए खेल जीतने के बारे में था।

वर्ल्ड कप जीत को याद कर बोले युवराज सिंह-मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर के लिए जीतना चाहती थी टीम इंडिया

सवाल: आपकी राय में, क्या 2011 की टीम इंडिया सर्वश्रेष्ठ थी?
गंभीर: बिल्कुल नहीं। मैं इन बयानों पर विश्वास नहीं करता हूं – जब लोग या पूर्व क्रिकेटर पलटते हैं और कहते हैं, यह सबसे अच्छी भारतीय टीम है या वह सर्वश्रेष्ठ भारतीय टीम है। न तो 1983 की टीम सर्वश्रेष्ठ भारतीय टीम थी, न ही 2007 और न ही 2011 की। न तो यह वर्तमान है, क्योंकि आप युगों की तुलना कभी नहीं कर सकते। आप बस इतना कर सकते हैं कि अपनी सर्वश्रेष्ठ टीम को पार्क में रखें और कोशिश करें और अधिक से अधिक गेम जीतें। ऐसा मेरा मानना है। मैं तुलना में विश्वास नहीं करता। आप कभी भी किसी भी दो टीमों की तुलना नहीं कर सकते। मुझे नहीं पता कि ये पूर्व क्रिकेटर ये बयान क्यों देते हैं। मैं यह नहीं कहूंगा कि 2011 विश्व कप विजेता टीम सर्वश्रेष्ठ भारतीय टीम थी जिसे पार्क में रखा गया था। मैं टीमों की तुलना करने में विश्वास नहीं करता।

ICC CWC 2011 IND v SL Final: धोनी का वह छक्का, और गंभीर का दर्द-ए-दिल, हम बस उस एक शॉट की वजह से नहीं जीते थे वर्ल्ड कप



Source link

इसे भी पढ़ें

पप्पू ने बनवाया गर्ल्स हॉस्टल का पास

मास्टर जी - अगर कोई लड़का गर्ल्स हॉस्टल की तरफ गया...नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:Apr 15, 2021, 06:00AM ISTमास्टर जी - अगर कोई लड़का गर्ल्स...
- Advertisement -

Latest Articles

पप्पू ने बनवाया गर्ल्स हॉस्टल का पास

मास्टर जी - अगर कोई लड़का गर्ल्स हॉस्टल की तरफ गया...नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:Apr 15, 2021, 06:00AM ISTमास्टर जी - अगर कोई लड़का गर्ल्स...