Wednesday, August 4, 2021

India vs Sri Lanka: भुवनेश्वर कुमार ने अक्टूबर 2015 के बाद फेंकी पहली नो-बॉल

- Advertisement -


कोलंबो
भुवनेश्वर कुमार अपनी स्विंग के लिए जाने जाते हैं। हालांकि श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज के पहले मैच में वह रंग में नहीं दिखे। उनकी कुछ गेंदें वाइड भी थी। लेकिन उन्होंने कोई नो-बॉल नहीं फेंकी। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है वह बहुत कम नो-बॉल फेंकते हैं। भुवी ने श्रीलंका के खिलाफ वनडे इंटरनैशनल सीरीज के दूसरे मैच में नो-बॉल फेंकी। कमाल की बात यह है कि भुवी ने करीब छह साल बाद नो-बॉल फेंकी।

स्कोरकार्ड

कोलंबो में तीन मैचों की सीरीज के दूसरे मैच में भुवनेश्वर अपने तीसरे ओवर की पहली गेंद फेंकने आए। बल्लेबाजी वाले छोर पर मिनोद भानुका थे। भुवी का पांव पॉपिंग क्रीज से आगे था। महज एक इंच। भुवनेश्वर ने अक्टूबर 2015 के बाद पहली बार नो-बॉल फेंकी। इस बीच उन्होंने 3093 गेंदें फेंकीं।

पूरे करियर में फेंकी सिर्फ 5 नो-बॉल
भुवनेश्वर ने अपने वनडे इंटरनैशनल करियर में सिर्फ पांच नो-बॉल फेंकी है। अक्टूबर 2015 के बाद से उन्होंने अपनी दो पिछली नो-बॉल के बीच 513.3 ओवर फेंके हैं।

Weather Report India vs Sri Lanka: भारत और श्रीलंका के बीच दूसरा ODI, कोलंबो में कैसा रहेगा मौसम
मैच की बात करें तो श्रीलंका ने टॉस करने के बाद पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। भारतीय टीम ने इस मैच के लिए अपनी टीम में कोई बदलाव नहीं किया है। वहीं श्रीलंका ने उडाना के स्थान पर कसुन रंजीता को जगह दी है।

भारत: पृथ्वी साव, शिखर धवन, ईशान किशन, मनीष पांडे, सूर्यकुमार यादव, हार्दिक पंड्या, क्रुणाल पंड्या, भुवनेश्वर कुमार , दीपक चाहर, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल

श्रीलंका: अविष्का फर्नांडो, मिनोद भानुका (विकेटकीपर), भानुका राजपक्षे, धनंजय डी सिल्वा, चरिथ असलांका, दासुन शनाका (कप्तान), वानिंडु हसरंगा, चामिका करुणारत्ने, दुष्मंता चमीरा, लक्षण सनदाकन, कसुन रजीता

bhuvneshwar

भुवनेश्वर कुमार (एएफपी)



Source link

इसे भी पढ़ें

- Advertisement -

Latest Articles

भव्य स्वागत देख बोले पीवी सिंधु के कोच कोच पार्क ताइ सांग- मुझे ‘गुरु’ बनाने के लिए शुक्रिया

नई दिल्लीतोक्यो ओलिंपिक में इतिहास रचने वाली भारत की बेटी पीवी सिंधु के विदेशी कोच पार्क ताइ सांग भव्य स्वागत से अभिभूत दिखे।...

India vs Germany Head to Head in Hockey: भारत के लिए ब्रॉन्ज मेडल नहीं होगा आसान, जानें जर्मनी के खिलाफ कैसा है रेकॉर्ड

तोक्योतोक्यो ओलिंपिक में 130 करोड़ भारतीयों की गोल्डन उम्मीद ने उस वक्त दम तोड़ दिया, जब पुरुष हॉकी टीम को बेल्जियम से सेमीफाइनल...