Wednesday, August 4, 2021

Marija Cicak Made History: विंबलडन पुरुष फाइनल में रचा जाएगा इतिहास, मारिया सिसाक होंगी पहली महिला चेयर अंपायर

- Advertisement -


विंबलडन
विंबलडन के इतिहास में पहली बार पुरुष एकल के फाइनल मुकाबले में एक महिला चेयर अंपायरिंग की भूमिका निभायेगी। विंबलडन की शुरुआत 1877 में हुई थी। क्रोएशिया की 43 साल की मारिया सिसाक रविवार को होने वाले इस मुकाबले में अंपायरिंग करेंगी जिसमें नोवाक जोकोविच का सामना ऑल इंग्लैंड क्लब में माटियो बेरेटिनी से होगा।

क्लब ने शनिवार को सिसाक के चयन की घोषणा की। वह ‘गोल्ड बैच’ की चेयर अंपायर हैं और 2012 से डब्ल्यूटीए एलीट टीम की सदस्य हैं। वह 2014 विंबलडन महिला फाइनल के लिए भी चेयर अंपायर थीं।

Ashleigh Barty Win Wimbledon: एश बार्टी विंबलडन की नई क्वीन, कारोलिना पिलिसकोवा को हराकर जीता खिताब, ऐसा रहा मैच का रोमांच
फिर तीन साल बाद उन्होंने महिलाओं के युगल फाइनल में भी यही जिम्मेदारी निभायी थी। उन्होंने 2016 रियो ओलिंपिक में महिलाओं के एकल स्वर्ण पदक मैच में अंपायरिंग की थी।



Source link

इसे भी पढ़ें

भव्य स्वागत देख बोले पीवी सिंधु के कोच कोच पार्क ताइ सांग- मुझे ‘गुरु’ बनाने के लिए शुक्रिया

नई दिल्लीतोक्यो ओलिंपिक में इतिहास रचने वाली भारत की बेटी पीवी सिंधु के विदेशी कोच पार्क ताइ सांग भव्य स्वागत से अभिभूत दिखे।...

India vs Germany Head to Head in Hockey: भारत के लिए ब्रॉन्ज मेडल नहीं होगा आसान, जानें जर्मनी के खिलाफ कैसा है रेकॉर्ड

तोक्योतोक्यो ओलिंपिक में 130 करोड़ भारतीयों की गोल्डन उम्मीद ने उस वक्त दम तोड़ दिया, जब पुरुष हॉकी टीम को बेल्जियम से सेमीफाइनल...
- Advertisement -

Latest Articles

भव्य स्वागत देख बोले पीवी सिंधु के कोच कोच पार्क ताइ सांग- मुझे ‘गुरु’ बनाने के लिए शुक्रिया

नई दिल्लीतोक्यो ओलिंपिक में इतिहास रचने वाली भारत की बेटी पीवी सिंधु के विदेशी कोच पार्क ताइ सांग भव्य स्वागत से अभिभूत दिखे।...

India vs Germany Head to Head in Hockey: भारत के लिए ब्रॉन्ज मेडल नहीं होगा आसान, जानें जर्मनी के खिलाफ कैसा है रेकॉर्ड

तोक्योतोक्यो ओलिंपिक में 130 करोड़ भारतीयों की गोल्डन उम्मीद ने उस वक्त दम तोड़ दिया, जब पुरुष हॉकी टीम को बेल्जियम से सेमीफाइनल...