Monday, June 21, 2021

Ollie Robinson Suspension: ओली रॉबिन्सन को टीम में दोबारा शामिल करे ECB, पुरानी गलतियों के चलते खत्म न हो करियर

- Advertisement -


इंग्लैंड के क्रिकेटर ओली रॉबिन्सन को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से सस्पेंड करने का फैसला गलत है। रॉबिन्सन के आपत्तिजनक ट्वीट करीब एक दशक पहले किए गए थे- तब वह किशोरावस्था में थे। इस बात पर कोई संदेह नहीं कि उन्होंने जो लिखा वह नस्लभेदी और रंगभेदी थे। लेकिन इस बात की संभावना भी बहुत कम है कि कई लोग, जिनमें से कई ऐसे भी होंगे जो रॉबिन्सन से ज्यादा महत्वपूर्ण पदों पर हैं, कठघरे में आ जाएंगे अगर उन्हें किशोरावस्था की बेवकूफियों और यहां तक कि पक्षपात के आधार पर जज किया जाए। रॉबिन्सन ने पूरी तरह माफी मांग ली है। इंग्लिश क्रिकेट प्रशासन को शायद उन्हें जरूरी काउंसलिंग देने के बाद खेलने की इजाजत दे देनी चाहिए थी।

खेल में, और शायद अन्य क्षेत्रों में भी, अतीत में की गई गलतियों को लेकर समझदारी से काम लेने की जरूरत होती है। खास तौर पर तब तक, जब तक कि वह गलती इतनी बड़ी न हो कि वक्त भी उसे दाग धो न पाए। रॉबिन्सन के ट्वीट बहुत ज्यादा आपत्तिजनक थे। लेकिन बेशक वे इस श्रेणी में नहीं आते थे कि उन पर एक दशक बाद भी कड़ा और संभवत: करियर-खत्म करने वाली सजा दी जाए। क्रिकेट और अन्य खेलों में मौजूदा खिलाड़ियों के अपराधों से निपटने के लिए सख्त नियम हैं। क्रिकेट के मैदान पर नस्लवादी टिप्पणी पर कड़ी कार्रवाही करनी चाहिए, एक किशोर की ओर से की गई नस्लवादी टिप्पणी जो अब एक अच्छा-खासा व्यस्क बन चुका है, पर नहीं।

यहां यह बात भी ध्यान देने वाली है कि भारतीय क्रिकेटर रविचंद्रन अश्विन ने रॉबिन्सन के साथ सहानुभूति जताई है। इसके साथ ही रॉबिन्सन के इस प्रकरण से मिले अन्य सबक की ओर भी ध्यान दिलाया है- इंटरनेट हर जिस को वर्तमान में होने का आभास दिलाता है और इस पर कुछ भी खत्म नहीं होता। बरसों पुरानी पोस्ट जब सोशल मीडिया पर फैलने लगती है तो ऐसा लगता है जैसे अभी का मामला हो। इंटरनेट के दौर के बाद पैदा हुए लोग, जैसेकि रॉबिन्सन भी हैं, को एक या दूसरे तरीके से शोहरत मिल जाती है, को अभी तक पता चल गया होगा कि जो काम आप करने के बाद भूल चुके होते हैं, आपकी कामयाबी पर भी भारी पड़ सकते हैं। यह इंटरनेट के एक अन्य अप्रिय आयामों में से है। लेकिन यह काफी प्रचलित भी है। इस बीच इंग्लिश टीम को सही काम करना चाहिए, उसे अपने फैसले की समीक्षा करनी चाहिए और रॉबिन्सन को वापस बुलाना चाहिए।

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपे मूल लेख को पढ़ने के लिए क्लिक करें



Source link

इसे भी पढ़ें

- Advertisement -

Latest Articles

Yoga Day 2021: दुनिया का योगगुरु बनेगा भारत, PM मोदी ने लॉन्च किया mYoga ऐप, जानिए खासियत

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day 2021) के मौके पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सोमवार को सातवें अंतरराष्ट्रीय...

टीवी में मिलेगा गेमिंग का मजा, जब TCL लॉन्च करेगा यह शानदार टीवी, दिल जीत लेने वाला होगा डिजाइन

हाइलाइट्स:30 जून को लॉन्च होंगे TCL के नए जबरदस्त टीवीगेमिंग को नए लेवल तक पहुंचना हैं कंपनी का लक्ष्यदेखने को मिलेंगे अनोखे फीचर्सवेदांत...